Religious

माता वैष्णोदेवी यात्रा भाग -५ (धनसर बाबा, झज्जर कोटली, कोल कंडोली)

माता वैष्णोदेवी यात्रा भाग -५ (धनसर बाबा, झज्जर कोटली, कोल कंडोली)

By

हम लोग करीब नो बजे कटरा से १७ किलोमीटर का सफर तय करके बाबा धनसर पहुँच जाते हैं. सड़क से करीब २०० मीटर  पैदल उतराई करके हम लोग बाबा धनसर के धाम पहुँच जाते हैं. यह क्षेत्र बहुत ही सुरम्य स्थान पर पहाडियों के बीच जंगल से घिरा हुआ हैं. एक छोटी सी झील हैं जिसमे एक झरना लगातार गिरता रहता हैं. एक और एक गुफा बनी हुई हैं जिसमे शिव लिंगम के रूप में भगवान शिव विराजमान हैं. झील में कहा जाता हैं की साक्षात् शेषनाग वासुकी विराज मान हैं. यंही पर ही उनका एक मंदिर भी बना हुआ हैं.पौरौनिक विश्वास हैं की जब भगवान शिव, माता पार्वती के साथ, उन्हें अमर कथा सुनाने के लिए अमरनाथ  जी की गुफा की और जा रहे थे, तब भगवान शिव ने अपने नागराज वासुकी को यंही पर छोड़ दिया था. नागराज वासुकी एक मनुष्य के रूप में यंही पर रहने लगे थे. उनका नाम वासुदेव था. बाबा धनसर इन्ही वासुदेव के पुत्र थे. कंही से एक राक्षस यंहा पर आ गया था. और इस क्षेत्र के लोगो को परेशान करने लगा था. तब बाबा धनसर ने भगवान शिव की तपस्या की थी. भगवान शिव ने उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर यंहा पर उस राक्षस का संहार किया था. बाबा के आग्रह पर भगवान शिव यंही पर विराजमान हो गए थे. यंहा पर स्थित झील पवित्र मानी जाती हैं. एक  झरना लगातार प्रवाहित होता रहता हैं. इस झील में नहाना शुभ नहीं माना जाता हैं. कभी कभी इस झील के स्वच्छ जल में नागों की आकृति भी दिखाई देती हैं. हर वर्ष यंहा पर, महाशिवरात्रि के अवसर पर भगवान शिव और धनसर बाबा की याद में एक वार्षिक महोत्सव व मेले का आयोजन होता हैं .

Read More

Shimla – Kufri – Jakhu Temple and Back Journey

By

Early morning at around 6 o’ clock, when rest of the family members were still asleep, I attended to daily routine and then decided (as usual) to wander and acquint myself a bit with the geography of Shimla. The first important thing I discovered was the fact that you didn’t need to go through the Victory tunnel to reach other side of the town. The tunnel is for automobiles only (but you won’t get fined if you do venture into it). Even if you walk towards the Bus Stand, you would find lanes at your left side with very stiff heights to scale, which promise to leave you at other side of the hill i.e. Mall Road side. However, without going to the Mall Road side, I walked roughly 1 km. in the opposite direction of the railway station and discovered that I had reached Bus Stand. Well, I was as happy at my discovery as Vasco-de-gama must have been after discovering Bharat Varsh aka India! Regarding it enough achievement for the time being, I made a U-turn and arrived at the hotel. Since I didn’t find any group of pahadi girls singing as I often see in Hindi movies, I had to hum a song myself and that too without any tabla or dholak (no it was not Abida Parveen this time but someone else which I don’t remember! ) First rays of the Sun peeped into the room and blessed us with very exhilerating and invigorating feeling. Technically, these were not first rays of the Sun because when the Sun ascended high enough in the sky to defeat the hills and throw its rays directly into our room, our watch was already showing 8 a.m.

Read More

गढ़वाल घुमक्कड़ी: तपोवन – रुद्रप्रयाग – दिल्ली

By

रास्ते में हम लोग लोग थोड़ी देर रुद्रप्रयाग में रुके और फिर चल दिए श्रीनगर की ओर. श्रीनगर पहुँचते पहुँचते हमें काफी देर हो चुकी थी और आज रात इससे आगे जाने का कोई साधन नहीं दिख रहा था. कोई जीप या बस मिलने की तो संभावना बिलकुल भी नहीं थी क्योंकि यहाँ हिमाचल की तरह रात को बसें नहीं चलती. ऐसे में हमारे चालक साब ने हमें रात श्रीनगर में ही बिताने का सुझाव दिया और हमें रात गुजारने का एक ठिकाना भी दिखाया. हमने ठिकाना तो देख लिया पर अब किसी का भी यहाँ रुकने का मन नहीं था और सब जल्द से जल्द घर पहुँचना चाहते थे. उत्तरांचल में वैसे तो रात को कोई वाहन नहीं चलते पर सब्ज़ी फल आदि रसद पहुँचाने वाले ट्रकों की आवाजाही रात भर चालू रहती है, सोचा क्यों ना इसे ही आजमाया जाए. आज शायद किस्मत हम पर मेहरबान थी, थोडा पूछ्तात करने पर ही हमें एक ट्रक मिल गया जो हरिद्वार तक जा रहा था. ट्रक चलने में अभी लगभग आधा घंटा बाकी था और सुबह सिर्फ आश्रम में ही भोजन किया था इसलिए एक ढाबे पर जाकर थोड़ी पेट पूजा की गई.

ट्रक पर वापस लौटे तो देखा की चालक के साथ वाली सीट पर पहले ही दो लोग बैठे हुए थे. ऐसे में वहाँ हम तीनों का एक साथ बैठना संभव और सुरक्षित नहीं था. इसलिए दोनों की बुरी हालत देखकर मैं ट्रक के पीछे चला गया जहाँ कुछ अन्य लोग पहले से ही लेटे थे. इस ट्रक के ऊपर एक बरसातीनुमा दरी थी जो शायद सब्जियों को धूल और बारिश से बचाने के लिए डाली गयी थी और नीचे खाली प्लास्टिक के डब्बे रखे हुए थे जिनमे सब्जियाँ रखी जाती हैं. इन्ही हिलते डुलते प्लास्टिक के डब्बों के ऊपर हम सभी मुसाफ़िर लेटे हुए थे. ट्रक चलने पर कुछ समय तो बड़ा मजा आया पर जैसे जैसे रात गहराती गयी और नींद आने लगी तो इन हिलते हुए डब्बों पर सोना बड़ा दुखदायी लग रहा था क्योंकि एक तो ये डब्बे आपस में टकराकर हिल रहे थे और टेढ़े मेढ़े होने की वजह से चुभ भी रहे थे. खैर मेरे लिए तो ये सब रोमांच था, लेकिन रोमांच धीरे धीरे बढ़ने लगा जब इन्द्रदेव अर्धरात्रि में जागे और हम पर जमकर मेहरबान हुए. तिरछी पड़ती हुई मोटी मोटी बारिश की बूँदे हमारे ऊपर एक शॉवर की तरह पड़ रही थी जो एक मंद मंद शीतल रात को एक बर्फ़ीली सी महसूस होने वाली रात में बदलने के लिए काफी थी. ऐसे में ऊपर रखी हुई दरी ने ठण्ड से तो नहीं पर भीगने से तो बचा ही लिया. ठण्ड में किटकिटाते हुए, बिना सोये जैसे तैसे करीब चार बजे के आस पास ट्रक चालक ने हमें हरिद्वार में एक सुनसान मोड़ पर उतार दिया. जितना दर्द मेरे शरीर में उस ट्रक में सवारी करते हुए हुआ उतना पूरी यात्रा कहीं नहीं हुआ, शरीर इतना अकड़ गया था कि ट्रक से बाहर निकलने के लिए भी हिम्मत जुटानी पड़ रही थी. ठण्ड के मारे बुरा हाल था, सुनसान गलियों से होकर गुजरते हुए हम लोग बस स्टेशन की ओर बढ़ने लगे. ऐसे में रास्ते में एक चाय का ठेला देखकर चेहरे पर कुछ ख़ुशी आयी, भाईसाब के हाथ की गर्मागरम चाय और बंद खाकर शरीर में कुछ ऊर्जा आई. फिर तो बस जल्दी जल्दी कदम बढ़ाते हुए हरिद्वार बस स्टेशन पहुँचकर, दिल्ली की बस पकड़ी तो लगभग दस या ग्यारह बजे तक दिल्ली पहुँच कर ही राहत की साँस ली. यात्रा समाप्त!

Read More

Hajj: The Final Installment – What it means to be a Haji

By

To have performed Hajj in such unusual circumstances also means that I would be able to advise others on how to go about performing Hajj in this manner. Only Allah can tell whether this can be construed as a good thing or not. The good thing is that I can definitely advise people to spend more and  go with a comfortable agency, whichever it may be, and preferably legally cleared with the Saudi authorities; to perform Hajj “legally” means not having to suffer as my friends and I did. It means that one gets proper accommodation at Arafah, Muzdalifah and Mina. It means not having to worry about whether eating food properly may increase one’s desire to visit the toilet, especially because they are neither clean, nor easily accessible, esp. at Arafah and Muzdalifah. It means that once one lands at Mina, one can stay there for the next three days to pray and visit the Jamarat whenever one wants to without actually having to walk up and down from Makkah and to it multiple numbers of times. It means that one is not inconvenienced by having to squat on roads at Mina and being told by the police to get up and go elsewhere every single evening/night.

Read More

Puri – Lord Jagannath’s land

By

In the evening we came out of the Hotel to explore Puri Market and Swargdwar. As regards to Puri Beach I have always seen in television that sand art is generally performed at Puri Beach so I was looking at the beach if I can found any sand art. Unfortunately we did not get to see any sand art on Puri beach. We were walking on the beach and there I saw a board “National Sand Art Festival”. We were so excited and quickly took tickets (Rs 20/- for each person and Rs 15/- for camera).We entered inside and got to see some beautiful art works.

Read More

Nathdwara-Bagaur Haveli-Return from Udaipur

By

उदयपुर अपनी जिन झीलों के कारण विश्व प्रसिद्ध है उनमें फतेह सागर झील भी एक है। अगर आप सोच रहे होंगे कि फतेह सागर झील का निर्माण महाराणा फतेह सिंह ने किया होगा तो आप सरासर गलत हैं। इस कृत्रिम झील का निर्माण 1678 में महाराणा जय सिंह ने किया था। पर बाद में महाराणा फतेह सिंह ने इसका विस्तार किया और यह झील उनके नाम को समर्पित हो गई। उदयपुर के उत्तर-पश्चिम में और पिछोला झील के उत्तर में स्थित यह झील जयसमंद झील के बाद दूसरी कृत्रिम झील है जिसका निर्माण निश्चय ही उदयपुर को रेगिस्तानों के लिये प्रसिद्ध राजस्थान को सूखे से बचाने के लिये किया गया होगा। ढाई किमी लंबी, डेढ़ किमी चौड़ी और साढ़े ग्यारह मीटर तक गहराई वाली इस झील के मध्य में स्थित तीन टापुओं में से सबसे बड़े टापू पर नेहरू पार्क है। इस पार्क में जाने के लिये नाव का सहारा लिया जाता है। इन झील को पानी तीन मार्गों से मिलता है और एक मार्ग का उपयोग मानसून के दिनों में पानी की अधिकता से निपटने के लिये किया जाता है ताकि झील में से फालतू पानी को निकाला जा सके।

दूसरे वाले टापू पर सुन्दर सुन्दर से पानी के फव्वारे लगाये गये हैं और तीसरे टापू पर नक्षत्रशाला (solar observatory) है। हम लोग सिर्फ नेहरू पार्क तक ही सीमित रहे जिसमें नाव की आकार का एक रेस्टोरेंट भी बनाया गया है। लोग बताते हैं कि वहां पर एक चिड़ियाघर भी है, जिसकी अब मुझे याद नहीं है। हो सकता है उस समय वह न रहा हो या उसमें जानवर न होकर सिर्फ चिड़िया ही हों !

नेहरू पार्क से आप चाहें तो बोटिंग के मजे ले सकते हैं। वहां पर बहुत तेज़ भागने वाले हॉण्डा वाटर स्कूटर भी थे जिस पर जाट देवता जैसे पराक्रमी घुमक्कड़ झील की परिक्रमा कर रहे थे। वैसे यदि आप उस स्कूटर की सवारी करना नहीं जानते तो भी कोई दिक्कत नहीं है। उनका आपरेटर आपको ड्राइविंग सीट पर बैठा कर खुद सारे कंट्रोल अपने हाथ में ले लेता है। आप यदि स्टीयरिंग भी ठीक से नहीं पकड़ सकते तो मेरी तरह से आप भी इन सब झंझटों से दूर ही रहें।

Read More

The Devdar Prayers

By

Down to earth from heaven, our vehicle proceeded through roads making inroads into sea of deodars. Crossing the valleys and forests our next stop was the famous Khajjiar. This is a relatively small Himalyan meadow and a shallow lake surrounded by mighty pines and devdars all around. One of the most favoured tourist stop was but a bit of disappointment. The meadow was dull and lake looked like a pit of stagnated water with lot of rubbish thrown around. And to add to it, there were stalls selling anything from popcorn to buddhee ke baal on the meadow itself. May be it would be more enchanting when it is monsoon green or winter white. Here again a temple awaited us namely KhajjiNag. A typical Himachali temple in wood and sloping roof has a black stone idol of the Nag devta. Nag worship is quite common in this part of Himalaya with Khajji nag, BhagsuNag and many more.
Again travelling down in setting sun and through darkening valleys we finally reached Chamba, located on the banks of river Ravi. Chamba is a part of settlement between 2 mighty Himalayan ranges Dhauladhar in the south and Pir Panjal in the North. Chamba got its name from Champavati, daughter of Shailavarma. The town was founded in 10’Th or 11’Th century. The name of the king is written differently in many places, Sahilvarma, Shalivahan and Shailverma. Chamba looked like a cheerful town with packed shops of fabric, chappals, mithais and chaat. Not to forget the roadside sellers with radishes and oranges and berries. This temple town is home to some of the exquisite stone architecture blended with intricate wood carvings.

Read More
My 12th Amarnath Yatra – Trip Report and Pictures , Part 2

My 12th Amarnath Yatra – Trip Report and Pictures , Part 2

By

We get up at 5.30 AM. It was very cold outside. Around 6 AM we came out of tent to proceed further to Holy Cave. We took a bucket of hot water for Rs.50 from Tentwala and wash our face and hands etc. We did not take bath as we were so tired and weather was very cold. We took a cup of tea and stood in the line for Darshan. After Aarti, Darshan started at 7:30AM. Around 8.15 AM we reached in holy cave .All the atmosphere was filled with the Jaikare of Bam Bam Bhole. We forget all our tiredness and body pain after Darshan. We were feeling so energetic. I got very emotional after Darshan. A full size ice lingam was in front of my eyes. As I already mention that this was my 12th Yatra to Holy cave but this year ice lingam size was the biggest I have ever seen. We spent around 40 minutes in the Holy cave and offered some rituals. We came down from the cave. As we had not taken lunch and dinner yesterday, we were very hungry. We took one prantha each and tea from the Bhandara and started journey towards Baltal. It was around 9.30 AM. There were frequent traffic jam on the ways due to heavy rush. At 3:45 PM we reached at Domel and went to Barfani sewa mandal Bhandara. We took lunch there and rested for night at there.

Read More

Makkah – Performing the Hajj pilgrimage – 4

By

Tonight, though, the crowds were huge, and we had to really hunt for a good place in which to relax. Our successful location of a nice spot turned out to be a not-so-nice one after all as a police van landed within 15 minutes and started blowing all the on-board horns and sirens. In tandem with them, foot-soldiers began to ask everyone to get up and take themselves elsewhere. We got up, moved a little way off, and waited for the police car and the troops to move before returning to the spot where we had lain a few minutes earlier. This kind of ritual was repeated once, but we managed to remain at the same spot for a few more sessions of prayer. In between, a Saudi guy came and handed over a pizza pack to Dr. Naheed. We all partook some of the pizza and found it hot and fresh. I also visited the Al Baik outlet (to buy some chicken) , but returned as the queues were very, very long.

At about half past two, we left Mina and returned to our hotel in Makkah.

Read More

गढ़वाल घुमक्कड़ी: भविष्य बद्री

By

देवभूमि गढ़वाल के कुछ छिपे हुए रत्नों को तलाशती तीन दोस्तों की कभी ना भुला पाने वाली रोमांचक घुमक्कड़ी की दास्तान…जिसमे हमने कुछ बेहतरीन नज़ारे देखे, कुछ अनोखे और सोच बदलने वाले अनुभवों से गुजरे, कुछ खुबसूरत दोस्तों से मिले, कुछ बेहतरीन ठिकानों पर रात गुजारी और बहुत कुछ सीखने को मिला…

Read More