Hills

Summer Road Trip – Devariyatal (Deoriatal), Uttarakhand

By

Dusk is a beautiful time… especially in the mountains. The mandatory snaps are taken and Oooh and Ahhh over! We wonder what to do with ourselves without any light since candles are out of the question in tents when our guide comes with an LED lamp. It is really bright and good enough to play cards by. An engrossing evening indeed! In a while he gets dinner for us near the tent. We are very touched by this gesture. We see everyone else has had to go to the shop nearby for food but the ambience just outside our tents, near the water with an almost full moon shining is magical. He has even got the prickly nettle vegetable made which I had asked him about. This unpretentious yet delicious dinner and the exquisite atmosphere of this place will rank right up there as one of the most cherished moments of my life.

We are up before dawn in the hope that some of the misty shrouds have lifted enough to allow us at least a faint glimpse of the famed Chaukhamba. No such luck. To make up for it though, we hear numerous bird calls. Following them we head off towards the forest rest house. An enormous tree on the eastern bank of the lake with some of its branches hanging low over the water seems to be attracting a variety of birds. Many of them are taking turns in splashing around and having a quick bath right at the edge of the lake under the tree. We stand there mesmerised at the sight!

Read More

लैंसडाउन : मिट्टी की सौंधी खुशबू समेटे गाँव का तीर्थाटन

By

मेरे पिताजी ने अपनी CPWD की नौकरी के दौरान कुछ समय जोशीमठ से आगे ओली में गुजारा था और वो वहाँ ITBP के कैम्प में रुकते थे, दरअसल उन्हें वहाँ कुछ सरकारी भवनों के निर्माण से सम्बन्धित कार्य करवाने होते थे और उनकी मदद के लिये स्थानीय मजदूर, खलासी और बेलदार का काम करते थे जो उनका सामान इत्यादि लेकर चलते थे तथा अन्य कार्यों में भी मदद करते थे, उनसे अपनी बातचीत को वो अक्सर हमसे साझा करते थे, कुछेक जुमले जो स्थानीय लोग सुनाते थे, और आज भी मुझे याद हैं, वो कुछ इस प्रकार से थे कि “पहाड़ का वासा, कुल का नासा”, और, “जो नदी के किनारे बसते हैं, नदी उन्हें बसने नही देती” और यदि उन बातों को फिलहाल में केदारनाथ में हुई भयंकर आपदा के परिपेक्ष्य में देखें तो ये मानना ही पड़ेगा कि अपने क्षेत्रों की जटिल परिस्थतियों को वो ही बेहतर ढंग से जानते-समझते है |

मैं अपने इस आलेख में ऐसा कोई दावा नही करने जा रहा कि मुझे इन गाँवों के बारे में कोई जानकारी है या मै उनकी रोजमर्रा की दुश्वारियों को दूसरों की अपेक्षा अच्छी तरह समझता हूँ | अपितु मेरा तो ये आलेख ही स्वयम अपने आप पर ही तंज़ (व्यंग्य,कटाक्ष) है कि एक बार की चढ़ाई-उतराई ने ही हमारी ये हालत कर दी कि उसके बाद काफ़ी समय तक रुक कर आराम करना पड़ा | वस्तुतः मै इस आलेख के माध्यम से उन क्षेत्रों के वासियों और खास तौर पर महिलायों के जज्बे और उनकी हिम्मत को अपना नमन करता हूँ जो कि अपनी घर-ग्रहस्थी के अलावा बाज़ार के कामों और अपने जानवरों को भी सम्भालती हैं, जिन रास्तों पर चलते ही हमारी सांस फूल जाती है, वहाँ वो अपने सर पर घास के गटठर या जलावन के लिए लकड़ियाँ उठाये, बिना किसी शिकायत के चलती रहती हैं, वो बच्चे भी दाद के हकदार हैं जो अपने स्कूल तक पहुंचने के लिए कई-कई किलोमीटर इन कच्चे-पक्के रास्तों से गुजरते है, जिनमे कई पहाड़ी नदियाँ भी आती है और जंगली जानवरों का खतरा भी हरदम बना रहता है, पर वो अपने अदम्य साहस और मजबूत जिजीविषा के बलबूते सारी विपरीत परिस्थतियों के बावजूद अपने हौसले को बनाये रखते हैं |

Read More

Lansdowne : Way to Achieve Salvation (Nothing Religious About it!)

By

After breakfast, now it is the time for some real fun as now this resort is equipped with some really adventurous sports, as promised by Mr. Dinesh of the resort on our last visit. Thrilling and adventures Zip line was amazing, so were the Brahma Bridge, Monkey Crawl, Spider Web, Walk balance and many other activities. The most commendable fact attracts your attention that the management put all the activities keeping the important aspect of harmony with nature. Not a single activity looks an encroachment on the environment or damaging it. For the not so physically fit people like me there are soft sports materials like badminton, chess, playing cards or ludo etc. are available. It looks good when the management of a resort taking care of people for different tastes and providing them enough choices. Nevertheless my wife and son take full enjoy of all such wonderful activities, you can see the joy on their faces while trying various activities. Rain stops their expedition after some time and they are forced to halt these activities but instead of entering the comfort of four walls we prefer to sit and enjoy in a tent, meant for the staff and keeping resort’s additional goods.

Read More

Tour of Uttarakhand – Chopta Tunganath

By

A little ahead we see the first shop on the track which is basically a place to have some tea, Buran juice (rhododendron juice) which is said to be good for the heart and some bottled water, biscuits and the like. Serves as a little place to catch your breath and soak up the picture perfect surroundings. Henceforth, these small shops pop up at regular intervals. We maintain a steady though slow pace and take very short breathers as we climb so as not to break the rhythm of the climb. Roughly half-way up, we take a longish break of 10 mins where we are treated to another lifer! We see a pair of Collared Grosbeak.

Read More

Shillong, Meghalaya – the abode in the clouds

By

We were told by the locals that surprisingly in Cherrapunji it rains mostly at night. Thus, the day-to-day activity is not really disrupted by the rain. 
However, the irony is that despite perennial rainfall, Cherrapunji faces an acute shortage of drinking water, and the inhabitants often have to trek for miles to obtain potable water.

Read More

Unexplored Kasauli, Himachal Pradesh

By

For Kasauli, you first have to reach Dharampur, and then turn left leaving NH22. The straight NH22 leads to Shimla, which is almost 60 kilometers further away. From Dharampur it is a mere 10 kms drive to Kasauli.

Kasauli is a relatively small town, a british cantonment establishment. Our resort was at Chabbal on Garkhal to Jagjit Nagar Road. The road is rather narrow, be cautious with your car while crossing the market place. In my case, there was a truck carrying pile of garbage appeared from the opposite side. And with cars in both sides, took quite some time to make the way. However, by around 2 PM we were at our destination.

We enjoyed the rest of the day just by relaxing in the resort, in the small play area. Witnessing the sunset from the balcony was quite tranquil for all us after some 7 hours of voyage.

Read More

A Trip to Tungareshwar – Lord Shiv Temple in Shravan Month

By

Tungareshwar Temple is small, well maintained. On both side of the Main gate of Temple there is a Small Temple.Photo frame of Lord Ganesh, Goddess Durga and Lord Shree Ram hang from the ceiling wall. In centre of the temple is Nandi Bail, the Vehicle of Lord Shiva, sitting steady as His Guard. Above Him hangs a huge bell. I ring it to announce my arrival and stand in a queue for Darshan, as there was not too much rush.

Read More

Trek to Nag tibba

By

We started at 4:30 from Gurgaon – our usual time of leaving. It gives us an extra edge in avoiding the Delhi traffic. But still at this hour there were trucks plying in the middle of the road. Sometimes, I think what economic super power we are going to become when we can’t build a simple bypass to avoid Delhi. Anyway, we continued. In around 3 hours we reached Muzafarnagar bye pass. Now there are 2 routes to go from here.

Read More

लैंसडाउन : अहँ ब्रह्मास्मि के पथ पर कुछ क्षण

By

यहाँ-वहाँ कुछ नौजवान लडके-लडकियाँ खुले में ग्रुप बनाकर बैठे हैं, कुछ इधर-उधर घूम रहे है, कुछ छोटे बच्चे खरगोशों के पीछे भाग रहें हैं, कुछ तोते और चिड़ियाँ भी हैं, दूर तक फैला, खुला विशाल क्षेत्र, चारो तरफ चीड़ के पेड़, आपको जंगल में मंगल का नज़ारा देता है | एक कप गरमा-गरम अदरक वाली चाय, आपकी रास्ते की सारी थकान उतार देती है | यहाँ कोई रिसेप्शन या हॉल नही है, केवल सोने के लिए कमरे हैं, और आप खुले में बाहर बैठ कर पूरी तरह से प्रकृति को जी सकते हो | चाय पीते-पीते आपका कमरा तैयार हो जाता है | रिजोर्ट की ही तरह कमरा भी बहुत साधारण है, साधारण प्लास्टर की हुई दीवारें, टीन की छत, जिन पर अंदर से लकड़ी की सीलिंग लगी है, कमरे के साथ अटैच्ड टॉयलेट के अलावा, एक डबल बैड, दो सोफा-नुमा कुर्सियां, एक छोटी मेज़ और टीवी | कमरे में जाकर कपड़े बदलते हैं, पर कमरे में मन ही नही लगता, वो तो कमरे से बाहर निकलना चाहता है | मोबाइल के सिग्नल अक्सर यहाँ नही मिलते, BSNL अपवाद है | टीवी कोई देखना नही चाहता क्योंकि सारी प्रकृति तो बाहर बिखरी पड़ी है, वो कमरे में तो आएगी नही, अपितु हमे ही उसके पास जाना पड़ेगा, यदि कमरे की चार-दीवारों में ही बैठना होता, तो अपने घर सा सुख कहाँ ? असली नजारे देखने हैं तो बाहर निकलो, मिलो दूसरों से… धीरे-धीरे आपकी सबसे जान-पहचान होने लगती है, ज्यादातर युवा तो दिल्ली या गुडगाँव से ही हैं, कुछ हमारी तरह आज ही आये हैं, कुछ कल | पर जहाँ से अभी तक कोई भी बाहर ही नही गया ! कारण पूछा, तो कहने लगे बाहर क्या देखना है ? सब कुछ तो यहीं है, इतनी खूबसूरती तो यहीं बिखरी पड़ी है | इस रिजोर्ट के चारों तरफ कोई चारदीवारी नही है, बस बांस की खपच्चियों की दो-ढाई फुट ऊंची बाढ़ है, जिससे बगल का सारा जंगल भी इसी का भाग लगता है, और इस को और विशाल बना देता है |

इसी की बगल से दो कच्चे रास्ते, और आगे के गांवों की तरफ जा रहे है, कुछ लडके-लडकियाँ जिन्होंने शायद पहले कभी गाँव या जंगल नही देखा, घूमने जाना चाहते हैं, दिनेश का भतीजा जो रसोई के काम से शायद अब निवृत हो गया है, उनके साथ गाइड बनकर चलने को तैयार है, अपने साथ एक छड़ी और टॅार्च लेकर | छाता, छड़ी और टॅार्च ये ऐसी चीज़े हैं, जिन्हें लिए बिना कोई पहाड़ का वासी बाहर नही निकलता, जाने कब इनकी जरूरत पड़ जाये…. और इधर हम, लोगों से परिचय करते-करते रात के प्रोग्राम की उधेढ़-बुन में लगे हैं, रिजोर्ट के एक कोने की तरफ एक छोटा सा टेंट लग रहा है और उधर किचन के पीछे एक लड़का लकड़ियाँ फाड़ रहा है | दिनेश से पूछने पर पता चलता है आज इनके रिजोर्ट का एक साल पूरा होने की ख़ुशी में इन्होने अपने गाँव वालों और कुछ दूसरे जानकारों को पार्टी दी है, जिनसे साल भर बिज़नेस मिलता है | लकड़ियाँ रात को बोन-फायर के लिए काटी जा रही हैं, एक दूसरे किनारे पर डी-जे लग रहा है, कमरों के सामने की तरफ थोड़ी खुली सी जगह पर 3-4 लडके एक टेंट खड़ा कर रहे हैं, जो वैसा ही है, जैसा अक्सर मिलिट्री वालों के पास या फिर जंगल सफारी करने वालों के पास होता है | हमारे देखते ही देखते उन्होंने दो टेंट खड़े करके उनमे सामान रखना शुरू कर दिया- गद्दे, रजाई, टीवी, हीटर और बिजली का बल्ब ये देख कर के तो NCC के दिन याद आ गये | दिनेश से बात की, भैया हमे कमरा नही चाहिए, हमे तो यहीं सेट करो… आखिर एडवेंचर हो तो पूरा हो ! और फिर आखिर, जिनके लिए टेंट लगाया गया था, उन्हें टेंट के नुक्सान और कमरे के फायदे गिनाकर हमारा कमरा दे दिया गया | सबसे मज़ेदार तो उन्हें ये बताना था कि कई बार रात को यहाँ लक्कड़बग्गे भी आ जाते है, आखिर जंगल इसके साथ ही लगा हुआ है, इस बात ने मास्टर स्ट्रोक का काम किया और अपनी चाहत के अनुसार हम टेंट में शिफ्ट हो गये, आखिर जीवन में ऐसे मौके कितनी बार मिलते हैं…?

Read More

Amarnath Yatra: Baltal – Srinagar – Ambala (Part 8)

By

The beauty of Sonamarg forces the tourists to stop there. It seems that someone has laid green carpets on mountains. Once a great tourist puller and favorite place for shooting of Bollywood films, Sonamarg is perhaps the best health resort in the country. Sonamarg also hosts the International Championships of Rafting on River Sindh.

Read More

Summer Road Trip – Auli, Tapovan and Kanchula Kharak

By

Kanchula was a forest dept. Musk Deer breeding centre which is now non-operational. This is a very remote place with no habitation around but there exists a very nice bamboo cottage with two bedrooms and a common dining-drawing area for eco-tourists. [The cost per double-bedroom is Rs 650/-, making the cottage worth Rs 1300/-] This can be booked through the DFO, Kedarnath range, Gopeshwar. Definitely worth it!
On reaching we realize that there is no provision for meals and one has to drive to Chopta about 8 kms further away for food. We drive there and have lunch at a dhaba which is quite good. Situated on the Gopeshwar-Ukhimath road, Chopta is a beautiful little hamlet situated at the highest point on this road (2900 m). This route to Chopta offers a magnificent view of the surrounding mountains and deep wooded valleys. This area gets copious rainfall annually and also sustains very high humidity levels giving a distinct character to its vegetation. The trees are moss laden and support good varieties of moist temperate plant life.

Read More