Religious

A trip to Mewar – Karni Mandir, Ekling Ji and Sukhadia circle

By

It was about 3 p.m that we exited from ahar museum and decided to go to Ekling ji which is situated on Udaipur-Ajmer highway before the historical Nathdwara town. When I was on my way to Ekling Ji just after 7-8 kms it resembled as Iwas driving in some hilly state(hills on one side and deep gorges on other side was the scenic view. So it was now only 2nd and 3rd gear for me. Frankly I didn’t expect such a terrain in Rajasthan. We as a unit were awed by the beauty this stte was offering. When we reached EKLING JI, the temple was closed and it was full one hour foe the gates to open. We paid our obescience from outside only and vrooom back to Udaipur. I would like to mention here that the temle is under maharan mewar trust and security guards posted there also bore badges of mewar security. Historically it is said that Bappa Rawal, founder of Mewarkingdom got blessings at this place only from god Ekling Ji to esrtablish the mewar empire.

SUKHADIA CIRCLE
It was fourth day in Udaipur and now it looke like this was my own city. I  felt so attachment with this city.Clean roads, sensible traffic sense, good ambience and culturally strong, this city had just cast its spell on us. I don,t know which route I took but that route took us straight to Sukhadia circle which looked like a min picnic cum entertainment spot. More than me, Bhakti and Pavani were happy on reaching there. The spot which excited Bhakti and me was a large common place with about 30 shops under one roof filled with street food and fodies we are though I try to control this urge(plz insert 20). And the square (Sukhadia circle) was in form of a very small lake (gol-gol) with small boats in the shape of ducks in it(that excited little daughter, Pavani). I think the place got its name from Mohan Lal Sukhadia Ji, if I am right or someone kindly correct me.Agenda at Sukhadia circle:

Read More

My visit to Dwarka and Somnath

By

You need to take a engine boat which will take you across the sea.Bet dwarka is most important religious place and as belived that shri krishna meet his friend sudama here.After visited bet dwarka we just left for nageshwar jyotirling.

We came back from bet dwarka and nageshwar at 3 and then we took a nap for some time. And then set out on foot for sight scene near the city I forgot the name of the temple situated near dwarka city but you can get information about temples and sight scene from the hotels and local citizens and Autorikshwalas.

Read More

Konark – The Heritage of Mankind

By

On the three sides of Temple three forms of Sun god idols are placed. The southern side GOD called “Mitra” described as the rising Sun. It is 8’3” in height. The western side GOD is called “PUNSAN” and described as mid day Sun, it is 9’6” in height. The northern side GOD is called “ Haritasva” described as setting sun, it 3.58 meters in height which is approximately above 10’.

Read More

Chhatikara Maa Vaishno Devi छटीकरा माँ वैष्णोदेवी मन्दिर

By

दाँई ओर छटीकरा मुड़ते ही कुछ फासले पर ही, दाँई तरफ क्रुद्ध शेर पर सौम्य देवी माँ की विशाल मूर्ति का दर्शन होता है, पास ही हाथ जोड़े ध्यानमग्न हनुमानजी बैठे हैं। यह माँ वैष्णोदेवी का नवनिर्मित विशाल मन्दिर हैं। मन्दिर की तरफ कुछ हटकर हलकी सी छाँह में गाड़ी पार्क की। चार बजे गेट खुलने में दसेक मिनट की देर थी और भीड़ खड़ी थी। बोर्ड पर जूतों को जमा करने के विषय में पढ हमने जूतों को कार में खोल दिया। गेट खुलने पर संगीता व खुशी महिला द्वार से अन्दर चले गये। पुरुष लाईन चेकिंग में बेल्ट पर ऐतराज होने से मैने उसे खोल दिया परंतु पर्स पर भी ऐतराज पाने पर मैं बेल्ट बाँधते हुये लौट पड़ा कि दर्शन तो हो ही गये हैं, वृन्दावन भी जाना है, संगीता के लौटते ही रवाना हो जायेंगें, विचार करते हुये ऑफिस-काउण्टरों के सामने खड़ा हो गया जहां दर्शनार्थियों के लिये कम्प्युटराइज्ड स्लिपें जारी की जा रही थीं। इनके आधार पर ही सामने स्थित लॉकरों पर सामान जमा किया जाता है। खाली काउंण्टर देख मैने अपने नाम से स्लिप ले ली। लॉकर काउण्टर पर सुझाव मिला कि मैं पर्स सामग्री को जेब में रख पर्स व बेल्ट जमा करवा दूँ। अनदेखी आज्ञावश जमा करने का कार्य किया। अन्दर हरियाली में कुछ उपर जाने पर सामने नीचे चौक में उतरने के लिये सीढियाँ थीं जहां एक तरफ गंगाजी की मूर्ति जिसके दोनों तरफ मगरमच्छों के मुँह से पानी की धार तथा दूसरी तरफ यमुनाजी जिनके दोनों तरफ कछुओं के मुँह से पानी की धार बह रही थी, वहाँ खुशी मेरा इंतजार कर रही थी और मुझे देखते ही खुशी से चिल्लाई कि नानू देखो… उसकी खुशी व उत्साह का कोई पारावार न था। बच्चों के लिये यह मन्दिर प्रांगण वास्तव में बहुत ही खुशी देनेवाला व उत्साहवर्धक है।

Read More
माता वैष्णोदेवी यात्रा भाग -५ (धनसर बाबा, झज्जर कोटली, कोल कंडोली)

माता वैष्णोदेवी यात्रा भाग -५ (धनसर बाबा, झज्जर कोटली, कोल कंडोली)

By

हम लोग करीब नो बजे कटरा से १७ किलोमीटर का सफर तय करके बाबा धनसर पहुँच जाते हैं. सड़क से करीब २०० मीटर  पैदल उतराई करके हम लोग बाबा धनसर के धाम पहुँच जाते हैं. यह क्षेत्र बहुत ही सुरम्य स्थान पर पहाडियों के बीच जंगल से घिरा हुआ हैं. एक छोटी सी झील हैं जिसमे एक झरना लगातार गिरता रहता हैं. एक और एक गुफा बनी हुई हैं जिसमे शिव लिंगम के रूप में भगवान शिव विराजमान हैं. झील में कहा जाता हैं की साक्षात् शेषनाग वासुकी विराज मान हैं. यंही पर ही उनका एक मंदिर भी बना हुआ हैं.पौरौनिक विश्वास हैं की जब भगवान शिव, माता पार्वती के साथ, उन्हें अमर कथा सुनाने के लिए अमरनाथ  जी की गुफा की और जा रहे थे, तब भगवान शिव ने अपने नागराज वासुकी को यंही पर छोड़ दिया था. नागराज वासुकी एक मनुष्य के रूप में यंही पर रहने लगे थे. उनका नाम वासुदेव था. बाबा धनसर इन्ही वासुदेव के पुत्र थे. कंही से एक राक्षस यंहा पर आ गया था. और इस क्षेत्र के लोगो को परेशान करने लगा था. तब बाबा धनसर ने भगवान शिव की तपस्या की थी. भगवान शिव ने उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर यंहा पर उस राक्षस का संहार किया था. बाबा के आग्रह पर भगवान शिव यंही पर विराजमान हो गए थे. यंहा पर स्थित झील पवित्र मानी जाती हैं. एक  झरना लगातार प्रवाहित होता रहता हैं. इस झील में नहाना शुभ नहीं माना जाता हैं. कभी कभी इस झील के स्वच्छ जल में नागों की आकृति भी दिखाई देती हैं. हर वर्ष यंहा पर, महाशिवरात्रि के अवसर पर भगवान शिव और धनसर बाबा की याद में एक वार्षिक महोत्सव व मेले का आयोजन होता हैं .

Read More

Shimla – Kufri – Jakhu Temple and Back Journey

By

Early morning at around 6 o’ clock, when rest of the family members were still asleep, I attended to daily routine and then decided (as usual) to wander and acquint myself a bit with the geography of Shimla. The first important thing I discovered was the fact that you didn’t need to go through the Victory tunnel to reach other side of the town. The tunnel is for automobiles only (but you won’t get fined if you do venture into it). Even if you walk towards the Bus Stand, you would find lanes at your left side with very stiff heights to scale, which promise to leave you at other side of the hill i.e. Mall Road side. However, without going to the Mall Road side, I walked roughly 1 km. in the opposite direction of the railway station and discovered that I had reached Bus Stand. Well, I was as happy at my discovery as Vasco-de-gama must have been after discovering Bharat Varsh aka India! Regarding it enough achievement for the time being, I made a U-turn and arrived at the hotel. Since I didn’t find any group of pahadi girls singing as I often see in Hindi movies, I had to hum a song myself and that too without any tabla or dholak (no it was not Abida Parveen this time but someone else which I don’t remember! ) First rays of the Sun peeped into the room and blessed us with very exhilerating and invigorating feeling. Technically, these were not first rays of the Sun because when the Sun ascended high enough in the sky to defeat the hills and throw its rays directly into our room, our watch was already showing 8 a.m.

Read More

गढ़वाल घुमक्कड़ी: तपोवन – रुद्रप्रयाग – दिल्ली

By

रास्ते में हम लोग लोग थोड़ी देर रुद्रप्रयाग में रुके और फिर चल दिए श्रीनगर की ओर. श्रीनगर पहुँचते पहुँचते हमें काफी देर हो चुकी थी और आज रात इससे आगे जाने का कोई साधन नहीं दिख रहा था. कोई जीप या बस मिलने की तो संभावना बिलकुल भी नहीं थी क्योंकि यहाँ हिमाचल की तरह रात को बसें नहीं चलती. ऐसे में हमारे चालक साब ने हमें रात श्रीनगर में ही बिताने का सुझाव दिया और हमें रात गुजारने का एक ठिकाना भी दिखाया. हमने ठिकाना तो देख लिया पर अब किसी का भी यहाँ रुकने का मन नहीं था और सब जल्द से जल्द घर पहुँचना चाहते थे. उत्तरांचल में वैसे तो रात को कोई वाहन नहीं चलते पर सब्ज़ी फल आदि रसद पहुँचाने वाले ट्रकों की आवाजाही रात भर चालू रहती है, सोचा क्यों ना इसे ही आजमाया जाए. आज शायद किस्मत हम पर मेहरबान थी, थोडा पूछ्तात करने पर ही हमें एक ट्रक मिल गया जो हरिद्वार तक जा रहा था. ट्रक चलने में अभी लगभग आधा घंटा बाकी था और सुबह सिर्फ आश्रम में ही भोजन किया था इसलिए एक ढाबे पर जाकर थोड़ी पेट पूजा की गई.

ट्रक पर वापस लौटे तो देखा की चालक के साथ वाली सीट पर पहले ही दो लोग बैठे हुए थे. ऐसे में वहाँ हम तीनों का एक साथ बैठना संभव और सुरक्षित नहीं था. इसलिए दोनों की बुरी हालत देखकर मैं ट्रक के पीछे चला गया जहाँ कुछ अन्य लोग पहले से ही लेटे थे. इस ट्रक के ऊपर एक बरसातीनुमा दरी थी जो शायद सब्जियों को धूल और बारिश से बचाने के लिए डाली गयी थी और नीचे खाली प्लास्टिक के डब्बे रखे हुए थे जिनमे सब्जियाँ रखी जाती हैं. इन्ही हिलते डुलते प्लास्टिक के डब्बों के ऊपर हम सभी मुसाफ़िर लेटे हुए थे. ट्रक चलने पर कुछ समय तो बड़ा मजा आया पर जैसे जैसे रात गहराती गयी और नींद आने लगी तो इन हिलते हुए डब्बों पर सोना बड़ा दुखदायी लग रहा था क्योंकि एक तो ये डब्बे आपस में टकराकर हिल रहे थे और टेढ़े मेढ़े होने की वजह से चुभ भी रहे थे. खैर मेरे लिए तो ये सब रोमांच था, लेकिन रोमांच धीरे धीरे बढ़ने लगा जब इन्द्रदेव अर्धरात्रि में जागे और हम पर जमकर मेहरबान हुए. तिरछी पड़ती हुई मोटी मोटी बारिश की बूँदे हमारे ऊपर एक शॉवर की तरह पड़ रही थी जो एक मंद मंद शीतल रात को एक बर्फ़ीली सी महसूस होने वाली रात में बदलने के लिए काफी थी. ऐसे में ऊपर रखी हुई दरी ने ठण्ड से तो नहीं पर भीगने से तो बचा ही लिया. ठण्ड में किटकिटाते हुए, बिना सोये जैसे तैसे करीब चार बजे के आस पास ट्रक चालक ने हमें हरिद्वार में एक सुनसान मोड़ पर उतार दिया. जितना दर्द मेरे शरीर में उस ट्रक में सवारी करते हुए हुआ उतना पूरी यात्रा कहीं नहीं हुआ, शरीर इतना अकड़ गया था कि ट्रक से बाहर निकलने के लिए भी हिम्मत जुटानी पड़ रही थी. ठण्ड के मारे बुरा हाल था, सुनसान गलियों से होकर गुजरते हुए हम लोग बस स्टेशन की ओर बढ़ने लगे. ऐसे में रास्ते में एक चाय का ठेला देखकर चेहरे पर कुछ ख़ुशी आयी, भाईसाब के हाथ की गर्मागरम चाय और बंद खाकर शरीर में कुछ ऊर्जा आई. फिर तो बस जल्दी जल्दी कदम बढ़ाते हुए हरिद्वार बस स्टेशन पहुँचकर, दिल्ली की बस पकड़ी तो लगभग दस या ग्यारह बजे तक दिल्ली पहुँच कर ही राहत की साँस ली. यात्रा समाप्त!

Read More

Hajj: The Final Installment – What it means to be a Haji

By

To have performed Hajj in such unusual circumstances also means that I would be able to advise others on how to go about performing Hajj in this manner. Only Allah can tell whether this can be construed as a good thing or not. The good thing is that I can definitely advise people to spend more and  go with a comfortable agency, whichever it may be, and preferably legally cleared with the Saudi authorities; to perform Hajj “legally” means not having to suffer as my friends and I did. It means that one gets proper accommodation at Arafah, Muzdalifah and Mina. It means not having to worry about whether eating food properly may increase one’s desire to visit the toilet, especially because they are neither clean, nor easily accessible, esp. at Arafah and Muzdalifah. It means that once one lands at Mina, one can stay there for the next three days to pray and visit the Jamarat whenever one wants to without actually having to walk up and down from Makkah and to it multiple numbers of times. It means that one is not inconvenienced by having to squat on roads at Mina and being told by the police to get up and go elsewhere every single evening/night.

Read More

Puri – Lord Jagannath’s land

By

In the evening we came out of the Hotel to explore Puri Market and Swargdwar. As regards to Puri Beach I have always seen in television that sand art is generally performed at Puri Beach so I was looking at the beach if I can found any sand art. Unfortunately we did not get to see any sand art on Puri beach. We were walking on the beach and there I saw a board “National Sand Art Festival”. We were so excited and quickly took tickets (Rs 20/- for each person and Rs 15/- for camera).We entered inside and got to see some beautiful art works.

Read More

Nathdwara-Bagaur Haveli-Return from Udaipur

By

उदयपुर अपनी जिन झीलों के कारण विश्व प्रसिद्ध है उनमें फतेह सागर झील भी एक है। अगर आप सोच रहे होंगे कि फतेह सागर झील का निर्माण महाराणा फतेह सिंह ने किया होगा तो आप सरासर गलत हैं। इस कृत्रिम झील का निर्माण 1678 में महाराणा जय सिंह ने किया था। पर बाद में महाराणा फतेह सिंह ने इसका विस्तार किया और यह झील उनके नाम को समर्पित हो गई। उदयपुर के उत्तर-पश्चिम में और पिछोला झील के उत्तर में स्थित यह झील जयसमंद झील के बाद दूसरी कृत्रिम झील है जिसका निर्माण निश्चय ही उदयपुर को रेगिस्तानों के लिये प्रसिद्ध राजस्थान को सूखे से बचाने के लिये किया गया होगा। ढाई किमी लंबी, डेढ़ किमी चौड़ी और साढ़े ग्यारह मीटर तक गहराई वाली इस झील के मध्य में स्थित तीन टापुओं में से सबसे बड़े टापू पर नेहरू पार्क है। इस पार्क में जाने के लिये नाव का सहारा लिया जाता है। इन झील को पानी तीन मार्गों से मिलता है और एक मार्ग का उपयोग मानसून के दिनों में पानी की अधिकता से निपटने के लिये किया जाता है ताकि झील में से फालतू पानी को निकाला जा सके।

दूसरे वाले टापू पर सुन्दर सुन्दर से पानी के फव्वारे लगाये गये हैं और तीसरे टापू पर नक्षत्रशाला (solar observatory) है। हम लोग सिर्फ नेहरू पार्क तक ही सीमित रहे जिसमें नाव की आकार का एक रेस्टोरेंट भी बनाया गया है। लोग बताते हैं कि वहां पर एक चिड़ियाघर भी है, जिसकी अब मुझे याद नहीं है। हो सकता है उस समय वह न रहा हो या उसमें जानवर न होकर सिर्फ चिड़िया ही हों !

नेहरू पार्क से आप चाहें तो बोटिंग के मजे ले सकते हैं। वहां पर बहुत तेज़ भागने वाले हॉण्डा वाटर स्कूटर भी थे जिस पर जाट देवता जैसे पराक्रमी घुमक्कड़ झील की परिक्रमा कर रहे थे। वैसे यदि आप उस स्कूटर की सवारी करना नहीं जानते तो भी कोई दिक्कत नहीं है। उनका आपरेटर आपको ड्राइविंग सीट पर बैठा कर खुद सारे कंट्रोल अपने हाथ में ले लेता है। आप यदि स्टीयरिंग भी ठीक से नहीं पकड़ सकते तो मेरी तरह से आप भी इन सब झंझटों से दूर ही रहें।

Read More