Cities

Sightseeing in Bangalore

By

There are still so many places left to visit – Bannerghatta National Park, HAL Aerospace Museum, Cubbon Park [by the time we visited all the places on KG road it was closing time for the park somehow every time :( ], St. Marks Cathedral etc. So there will be a second part of this post!

Read More

Thailand & Cambodia – Summer of 17 part-1

By

Nothing much has changed since; the lovely people continue to offer charming smiles and warmth. Mouth watering food scene remains intact. Ah! One not-so-good change has been the (ex)change value of our Bhartiya Rupaye – it is 1.9 INR to a Thai Bhat /THB (almost double or half, depending on which end you are on – the selfie or the main!). And it pinches alright either way.   

Read More

Knowing Delhi – Khan-i-Khanan Tomb in Nizamuddin

By

Rahim says; Do not break the thread of love between people. If the
thread breaks, it cannot be mended; even if you mend it there will
always be a knot in it. The friendship will not be same anymore.
Now, that sure brought an instant childhood connection with Rahim and a smile to the face.
Abdul Rahim Khan was the son of Bairam Khan. History is amazing – how can a son of a Mughal general infamous for atrocities could turn out to be composer and poet.

Read More

UDUPI, उडुपी :- Shree Krishna Matt and KOLLUR, कोल्लूर :- Shree Mookambika Devi Temple

By

यहाँ का प्रसाद सम्पूर्ण भोजन के रूप में आदमी की भूख को तृप्त करता है। हम दोनों के परिवार ने सच्चे मन से तृप्त होकर इस प्रसाद का सेवन किया था। बहुत ही स्वादिष्ट प्रसाद था, पहलें केले के पत्तों के बिछाने का आरम्भ होता है, फिर उन पत्तों पर पानी मारा जाता है साफ़ करने के लिए, फिर दो पुरुष चावल की गाडी लेकर चावल परोसते है, चावल के बाद आती है सांभर की बारी, चावल के ऊपर सांभर परोसने के बाद प्रसाद का सेवन शुरू कर सकते है।

Read More

Pages from my dairy, traveling in Seventies

By

Just for information and to lend credibility to this piece, my wife had (in those days) used the diary published by Tata Oil Mills, (Tomco – A Tata caompany) which was one of my client at OBM.I wonder if today’s young people know that Tata used to make and market soaps and detergents.They were known for their products like Jai and GoldMist soaps, and 555 washing powder Bar

These annual dairies always had the theme of Indian Historical places. The pages, scanned from these dairies, would give you the glimpse of Life & Times gone by, that we will never see again. We hope you enjoy going back in time and see the wonderful country of ours, of those days, with us.

Read More

Bath – The Classic Architectural Marvel

By

The bus-ride through southern England showcased the beautiful countryside; it pleases your eyes and soothes your soul with its soft contours of green hills and meadows. No rough edges or jagged ends to jab your field of vision. Occasionally you’ll find a cluster of trees as if to relieve the monotony. Looking out of the window one fails to notice that you didn’t blink for a long time. Bath is an eye soothing place to be in.

Read More

होल्कर साम्राज्य के भग्नावशेष – राजवाड़ा और छतरियां

By

इन्दौर राज्य में तीन-तीन तुकोजीराव हुए हैं, इनमें से किसके नाम पर तुकोजीगंज नामकरण हुआ है, यह तो मुझे नहीं मालूम पर हां, रंगीनमिजाज़ तुकोजीराव तृतीय के रंगीन किस्से इन्दौर वासियों की जुबान पर अब भी रहते हैं। उन्होंने तीन शादियां की थीं – सीनियर मोस्ट महारानी का नाम था – चन्द्रावती बाई। जूनियर महारानी थीं – इन्दिरा बाई । तीसरी वाली अमेरिकन युवती – नैंसी अन्ना मिलर थीं जिनके साथ 12 मार्च, 1928 को तुकोजीराव तृतीय ने विवाह रचाया। विवाह के बाद वह पूरी तरह भारतीय रंग-ढंग में ढल गई थीं और उनका विवाह भी शर्मिष्ठादेवी के रूप में नामकरण के बाद शुद्ध हिन्दू रीति-रिवाज़ के मुताबिक हुआ था। 1907 में अमेरिका के सियेटल शहर में जन्मी नैंसी ने तुकोजीराव होलकर को पांच संतानें दीं, चार पुत्रियां और एक पुत्र। शर्मिष्ठाबाई का देहान्त अभी 1995 में हुआ है। कहा जाता है कि तीन पत्नियों के बावजूद तुकोजीराव अमृतसर के एक कार्यक्रम में मुमताज़ बेगम का डांस देखकर उस पर आशिक हो गये और उसे इंदौर ले आये। वह तुकोजीराव के प्रेम को घास भी नहीं डालती थी और राजवाड़े से भागने के कई बार प्रयत्न किये और अन्ततः एक बार इन्दौर से मसूरी जाते हुए रास्ते में दिल्ली में निगाह बचा कर भागने में सफल भी होगई। बस, तुकोजी राव को बहुत बुरा लगा, एक तो प्रेम की दीवानगी और ऊपर से राजसी अहं को ठेस जो लग गई थी। उनके चेले-चपाटे अपने राजा को खुश करने के चक्कर में मुमताज़ बेगम की खोज खबर लेते रहे और अन्ततः पता लगा ही लिया कि वह मुंबई में किसी के साथ रहती है। बस जी, तुकोजी राव के कर्मचारी मुंबई के हैंगिंग गार्डन में पहुंच गये और वहां जो मारकाट मची उसमें उस व्यक्ति की गोली लगने से मौत हो गई जिसके साथ मुमताज़ बेगम मुंबई में रहती थी और हैंगिंग गार्डन में घूम रही थी। अंग्रेज़ अधिकारियों ने इस कांड का पूरा फायदा उठाया और तुकोजीराव के दो कर्मचारियों को फांसी की सजा सुनाई गई और तुकोजीराव तृतीय को राज्य छोड़ना पड़ा। तुकोजीराव तृतीय की मृत्यु 1978 में पेरिस में हुई। उस समय वह 88 वर्ष के थे।

Read More

ग्वालियर में घुमक्कड़ी- जय विलास पैलेस

By

इन सीढ़ियों से उतर कर हम महल के दूसरे भाग में पहुँचते हैं।  यहाँ पर उस समय सवारी में प्रयुक्त होने वाल तरह -तरह की बग्घी रखी हुई हैं। यहाँ पर उस समय सवारी में प्रयुक्त होने वाल तरह -तरह की बग्घी , डोली आदि रखी हुई हैं।

इसके साथ  ही महल के दूसरे भाग में हम पहुँचते हैं जिसे दरबार हाल के नाम से जाना जाता है।  यहाँ पर राजसी भोजनालय है जहाँ पर एक साथ बहुत सारे लोगो के खाने की व्यवस्था है।  मेहमानों के  साथ यहीं पर खाना खाने का प्रबन्ध है।  दरबार हाल की चकाचौंध उस समय के राज घराने के वैभव और विलासिता की दास्तान कह रहे थे।  इसकी छत में लटके विशालकाय झाड़ – फानूस का वजन लगभग तीन – तीन टन है।  इसकी छत इसका वजन उठा पायेगी या नहीं इसलिए छत के ऊपर दस हाथियो को चढ़ा कर छत की मजबूती की जाँच की गई थी।  दरबार हाल में जाने की सीढ़ियों के किनारे लगी रेलिंग कांच के पायो पर टिकी हुई है।  एक गार्ड यहाँ पर बैठा दर्शको को यही आगाह करवा रहा था कि रेलिंग को न छुए।

Read More

Disneyland or Disneyworld?

By

“India Jones” ride, this ride was very exciting and adventurous, you pass through steep valleys, rail roads, and a big stone try to hit your Jeep etc. Next, we went to “Pirate of Caribbean’s” ride, I didn’t know about this movie until this ride, my wife liked it most. They make you sit in a boat, that boat give you a tour of pirate world and you also get to know something about movie. During the ride you always feel that at some point of time boat will take a sudden fall.

Read More

A Small Slice of Athens

By

The view of Athens from here is quite splendid. An immediate circle of red-tiled roofs gives way to more modern structures spread all around. Mt. Lycabettus sticks out of this jumble glowing under a slant of sunlight that has lanced through a cloudy sky.

Read More