Historical

Kolkata to Kumaon- the lake city Nainital

By

Our first halt was at “cave garden” .A network of inter connected rocky caves and hanging gardens, it leads the visitor into a mysterious and ancient dream world and gives the tourist an encapsulated glimpse of what the wilderness of the hill region can offer right in the middle of civilization. An wonderful world of our prehistoric ancestors. Six caves were in the form of Tiger, Panther, Porcupine, Bat cave etc.

Read More

Kolkata to Kumaon – Patal Bhubaneswar and Mukteswar

By

Apart from mythology the limestone creation is thrill fully unique, the cave is still building from crystallization. The many forms resembles the tail of Gods, one unique formation described as the spine of “Sesh Nag” and one ice like formation is called “Jyota” of Mahadeva, a mushroom like formation holds four stalactites called the four ‘Yug”. It is said that when a specific stalagmite would touch the stalactite hence the “Satya with Kali”, the earth may end. For both the believers and non-believers the place gives a life time experience.

Read More

In the lap of reclusive Choukry

By

As we had to cover less than 100 kms, so we started little late after breakfast at 0900 hrs. Though I had to face the same huddled road of Munsiyari but the situation was little different then as most of the patches were there while we climbed the road so keeping in mind that those would be on the slope I feel little relaxed and we started again from Munsiyari.

Read More

My jaunt to the Brighton of the East from Kolkata

By

 We drove past Vidyasagar Setu aka Second Hooghly Bridge that connects the City of Joy with Howrah and stands at the banks of the River Hooghly. One can get a magnificent view of the entire city from this bridge. Well it is a toll bridge with superfine smooth finish. Then took the Kona Express way and sped all through the National Highway crossing Kolaghat Thermal Power Station and then Nandakumar More. From here we encountered small towns and villages on a single lane carriage path that snakes its way through them.

Read More

Knowing Delhi – Khan-i-Khanan Tomb in Nizamuddin

By

Rahim says; Do not break the thread of love between people. If the
thread breaks, it cannot be mended; even if you mend it there will
always be a knot in it. The friendship will not be same anymore.
Now, that sure brought an instant childhood connection with Rahim and a smile to the face.
Abdul Rahim Khan was the son of Bairam Khan. History is amazing – how can a son of a Mughal general infamous for atrocities could turn out to be composer and poet.

Read More
Tohfewala Gumbad Masjid

Siri – Third City of Delhi

By

Legend has it that Alauddin beheaded 8000 Mongols living in the settlement now called Mongolpuri and built the foundation of his City on these heads. Thus the first Muslim city of Delhi was built in 1303 and called Siri (‘Sir’ is Hindi for head) as a homage to all the severed heads. In fact, Khilji chased the Mongols and pushed them north of Kabul that ensured the Mongols would not attack India again for some time.

Read More

Bath – The Classic Architectural Marvel

By

The bus-ride through southern England showcased the beautiful countryside; it pleases your eyes and soothes your soul with its soft contours of green hills and meadows. No rough edges or jagged ends to jab your field of vision. Occasionally you’ll find a cluster of trees as if to relieve the monotony. Looking out of the window one fails to notice that you didn’t blink for a long time. Bath is an eye soothing place to be in.

Read More

होल्कर साम्राज्य के भग्नावशेष – राजवाड़ा और छतरियां

By

इन्दौर राज्य में तीन-तीन तुकोजीराव हुए हैं, इनमें से किसके नाम पर तुकोजीगंज नामकरण हुआ है, यह तो मुझे नहीं मालूम पर हां, रंगीनमिजाज़ तुकोजीराव तृतीय के रंगीन किस्से इन्दौर वासियों की जुबान पर अब भी रहते हैं। उन्होंने तीन शादियां की थीं – सीनियर मोस्ट महारानी का नाम था – चन्द्रावती बाई। जूनियर महारानी थीं – इन्दिरा बाई । तीसरी वाली अमेरिकन युवती – नैंसी अन्ना मिलर थीं जिनके साथ 12 मार्च, 1928 को तुकोजीराव तृतीय ने विवाह रचाया। विवाह के बाद वह पूरी तरह भारतीय रंग-ढंग में ढल गई थीं और उनका विवाह भी शर्मिष्ठादेवी के रूप में नामकरण के बाद शुद्ध हिन्दू रीति-रिवाज़ के मुताबिक हुआ था। 1907 में अमेरिका के सियेटल शहर में जन्मी नैंसी ने तुकोजीराव होलकर को पांच संतानें दीं, चार पुत्रियां और एक पुत्र। शर्मिष्ठाबाई का देहान्त अभी 1995 में हुआ है। कहा जाता है कि तीन पत्नियों के बावजूद तुकोजीराव अमृतसर के एक कार्यक्रम में मुमताज़ बेगम का डांस देखकर उस पर आशिक हो गये और उसे इंदौर ले आये। वह तुकोजीराव के प्रेम को घास भी नहीं डालती थी और राजवाड़े से भागने के कई बार प्रयत्न किये और अन्ततः एक बार इन्दौर से मसूरी जाते हुए रास्ते में दिल्ली में निगाह बचा कर भागने में सफल भी होगई। बस, तुकोजी राव को बहुत बुरा लगा, एक तो प्रेम की दीवानगी और ऊपर से राजसी अहं को ठेस जो लग गई थी। उनके चेले-चपाटे अपने राजा को खुश करने के चक्कर में मुमताज़ बेगम की खोज खबर लेते रहे और अन्ततः पता लगा ही लिया कि वह मुंबई में किसी के साथ रहती है। बस जी, तुकोजी राव के कर्मचारी मुंबई के हैंगिंग गार्डन में पहुंच गये और वहां जो मारकाट मची उसमें उस व्यक्ति की गोली लगने से मौत हो गई जिसके साथ मुमताज़ बेगम मुंबई में रहती थी और हैंगिंग गार्डन में घूम रही थी। अंग्रेज़ अधिकारियों ने इस कांड का पूरा फायदा उठाया और तुकोजीराव के दो कर्मचारियों को फांसी की सजा सुनाई गई और तुकोजीराव तृतीय को राज्य छोड़ना पड़ा। तुकोजीराव तृतीय की मृत्यु 1978 में पेरिस में हुई। उस समय वह 88 वर्ष के थे।

Read More

ग्वालियर में घुमक्कड़ी- जय विलास पैलेस

By

इन सीढ़ियों से उतर कर हम महल के दूसरे भाग में पहुँचते हैं।  यहाँ पर उस समय सवारी में प्रयुक्त होने वाल तरह -तरह की बग्घी रखी हुई हैं। यहाँ पर उस समय सवारी में प्रयुक्त होने वाल तरह -तरह की बग्घी , डोली आदि रखी हुई हैं।

इसके साथ  ही महल के दूसरे भाग में हम पहुँचते हैं जिसे दरबार हाल के नाम से जाना जाता है।  यहाँ पर राजसी भोजनालय है जहाँ पर एक साथ बहुत सारे लोगो के खाने की व्यवस्था है।  मेहमानों के  साथ यहीं पर खाना खाने का प्रबन्ध है।  दरबार हाल की चकाचौंध उस समय के राज घराने के वैभव और विलासिता की दास्तान कह रहे थे।  इसकी छत में लटके विशालकाय झाड़ – फानूस का वजन लगभग तीन – तीन टन है।  इसकी छत इसका वजन उठा पायेगी या नहीं इसलिए छत के ऊपर दस हाथियो को चढ़ा कर छत की मजबूती की जाँच की गई थी।  दरबार हाल में जाने की सीढ़ियों के किनारे लगी रेलिंग कांच के पायो पर टिकी हुई है।  एक गार्ड यहाँ पर बैठा दर्शको को यही आगाह करवा रहा था कि रेलिंग को न छुए।

Read More

Bhalkimachan – the royal bear hunting grounds

By

The Zamindars and the royal family members of Burdwan used this place as a hunting spot and constructed several Machans for their convenience. Thus Bhalki and Machan combined to give the place its current name Bhalki Machan. The etymology can be broken down into Bhalu ki Machan. Bhalu means bear. Machan means an elevated resting place for the hunters to hunt down wild animals.

Read More