Madhya Pradesh

Madhya Pradesh, literally meaning the central region is often known as the heart of India. Endowed with rich and diverse forests, Madhya Pradesh is a reservoir of Biodiversity, the home to National parks and Natural Reserves and a watershed of a number of rivers including the Narmada and the Tapti. Madhya Pradeshs Natural Heritage welcomes visitors to nine national parks including Bandhavgarh National Park, Kanha National Park, Waterfalls at Jabalpur, beautiful forest Eco systems and Natural Reserves such as Amarkantak, Bagh Caves and Pachmarhi Biosphere Reserve.
The cultural heritage of many religions is well represented in this predominantly Hindi speaking state. Innumerable monuments, exquisitely carved temples, stupas, forts and palaces on hilltops bring to mind visions of empires and kingdoms, of the great warriors and builders, poets and musicians, saints and philosophers; of Hinduism, Buddhism, Jainism and Islam. Some are the Lakshmana Temple, Devi Jagdambi Temple, The Sanchi Stupa and Masoleum on the banks of the Betwa River. The Khajuraho Group of monuments along with Buddhist Monuments at Sanchi and Rock Shelters of Bhimbetka are among declared UNESCO World Heritage Sites.
Madhya Pradesh has an extensive railway network and a good road network connecting almost all parts of the state. The state has two international airports, one in Indore and another in the state capital Bhopal and three domestic airports at Gwalior, Khajuraho and Jabalpur. The climate is characterized by hot and dry summers, a varied rainy season over different parts of the state and pleasant winters.

Bhopal – Nagpur- Raipur – Road Trip Review

By

We were on the Ring road, Nagpur at around 12.30 pm and after that we continued towards the NH 6/AH46. We decided to continue without taking hold due to traffic in the city. We just stopped to exchange of driver seat at the outer ring at the start of AH46 where the road sign shows that Raipur is now 275 kms ahead. So now I have the pilot seat in my hands. We continue towards the Raipur on the Nagpur- Durg- Raipur express way. The complete AH 46 is a 4 lane road, but with some traffic. After driving about 70 kms we reached Bhandara at about 2 pm and here we decided to take a halt and have lunch. We found a restaurant just on the highway and also a petrol pump besides it. So this is the best place to have a halt. After having a good lunch at Bhandara and having a tank full of my car, I continue ahead towards the Raipur. The road is excellent with lots of toll plaza in between we paid around Rs. 250 as a total toll from Weinganga Toll plaza to Raipur Toll plaza.

The road from Bhilai is with lots of traffic and from here I found the name expressway and paying toll as an injustice to the travelers.  But still after a lot of hustle and bustle we reached Pandri Raipur same day and we notice the time is 6.25 while entering the Raipur from Tatibandh Square and covered the distance from Tatibandh Square Raipur to Pandri Raipur (9.7 kms) takes 45 minutes and finally reached our hotel in pandri Raipur at 7.10 pm. Thanks to the congested and traffic with no traffic sense peoples of Raipur. Now I have to complete the official and the important tasks for which we have travelled Raipur.

Read More

Outstanding Orchha

By

Orchha is breathtakingly beautiful. Regal on appearance and serene in ambiance. Apart from Jehangir Mahal, the Raja Mahal, Rani Ki Mahal, Rai Praveen Mahal and Sheesh Mahal adorn the dusty hill tops of Orchha. The last named has been converted into a heritage hotel by M.P. tourism with limited accommodation and unlimited scope for improvement in maintenance. There is an interesting anecdote about the Rai Praveen Mahal. Rai Praveen was a courtesan and an accomplished poetess in the Orchha kingdom. For her legendary beauty, she was once sent to the “Harem” of Emperor Akbar against her wishes, as she was deeply in love with Raja Indramani of Orchha. On a face to face meeting with the great Emperor in the Mughal court, she recited one of her poem telling that only “a crow and a dog eat off the used plate of another”. Akbar was too smart and generous to understand the subtle hint and immediately ordered Rai Praveen’s return to Orchha in full honour. All other palaces have their attendant history as well.

Read More

Sanchi – of Serene and Secluded Stups

By

After wandering around the hill, you are drawn back to the crown jewel that is the Stup 1. The four magnificent gateways with their exquisite carvings are the main attraction of Sanchi and its trademark. The stup was embellished with the eye-popping carved torans in the 1st century BC by the Satavahans. Satavahans were the right people with the right credentials for the job. They gave us the glorious Ajanta temples. You are just relieved that the torans have survived for over two thousand years in almost pristine condition. Of course credit goes to Cunningham and Marshall for the restoration efforts.

The four gateways are installed at four cardinal directions of the stup. They have a common design – two square pillars with capitals and surmounted by three parallel architraves. All sides of the columns and the rear and front of the architraves are profusely carved. You could mistake the carved panels for wood or ivory. A lot of carving is overlapping and would require highly skilled workers. Reportedly, the workers were ivory carvers of Vidisha.

Read More

ग्वालियर में घुमक्कड़ी – ग्वालियर का किला

By

कुछ कदम आगे बढ़ता हूँ तो देखता हूँ कि किले की तरफ जाने वाली पतली सी सड़क के एक तरफ, पत्थर की चट्टानों को काट कर जैन समुदाय के तीर्थकरों कि मूर्तियां बनाई गईं हैं। इनमे से कई मूर्तियों भग्न अवस्था में थीं जिन्हे शायद किले पर विजय प्राप्त करने के बाद मद -मस्त मुस्लिम आक्रान्ताओ ने इस अवस्था में पहुँचाया था। यह बहुत ही कष्टप्रद विषय है कि इस्लाम को मानने वाले अविवेक में अपने विजयी दंभ को वह इन पत्थरो पर निकालने लगते है। एक तरफ तो यह मुग़ल अपने आप को कला प्रेमी के रूप में स्थापित करने की चेष्टा करते हैं और दूसरी तरफ चट्टानों पर की गई इन कलाकृतियों को नष्ट करते हैं। मंगलवार का दिन था इसलिए बहुत कम लोग ही किला घूमने के लिए जा रहे थे। छुट्टी का दिन होता तो शायद यहाँ पर भीड़ देखने को मिलती। वह दोनों युवक-युवती मुझे रास्ता बता कर तेजी से आगे बढ़ गए। मेरे पीछे एक विदेशी युवती भी चट्टानों को काटकर बनाये गए इन जैन तीर्थकारों को देखती हुई आ रही थी। मै धीरे – धीरे चढ़ाई पर चढ़ता हुआ आगे बढ़ रहा था पर मुझे दूर – दूर तक किला कही नहीं दिख रहा था। इतनी चढ़ाई चढ़ने के बाद मन ही सोंच रहा था कि इतनी चढ़ाई पर किला बनाने का अभिप्राय शायद यही होता होगा कि जल्दी तो किसी दुश्मन की हिम्मत ही नहीं होती होगी इतनी चढ़ाई पर चढ़ कर हमला करने की और अगर किया भी तो पहले ही उसकी सेना इतनी पस्त हो चुकी होती है कि जीत की बहुत कम ही गुंजाइश होती होगी। दो – तीन सौ गज या कुछ ज्यादा की चढ़ाई चढ़ने के बाद एक और गेट दिखाई पड़ता है। किले के दूसरे गेट से करीब 200 गज आगे आने पर चढ़ाई ख़त्म हो जाती है। यहाँ पर भी एक गार्ड रूम है। यहाँ पर एक प्राइवेट टैक्सी वाला बैठा था। किला और किले के अंदर उसके आस – पास की जगह घुमाने के लिए इसने 250 रूपये मांगे। इतनी चढ़ाई चढ़ने के बाद अब और आगे चलने की हिम्मत नहीं हो रही थी। मैंने कहा कि पीछे भी कुछ एक लोग आ रहे हैं उनसे पूछ लो अगर वह लोग चले चलेंगे तो हम लोग आपस में शेयर कर लेंगे । तभी वह विदेशी युवती भी आ गई।ड्राइवर ने उसके पास जाकर शेयर टैक्सी किराये पर लेने के लिए कहा पर वह उसकी बात ठीक से समझी नहीं तब मैंने उससे कहा कि अगर हम लोग यह टैक्सी शेयर कर ले तो सब जगह घूम लेंगे। यह टैक्सी वाला 250 रूपये मांग रहा है आधे – आधे हम लोग दे देंगे। वह युवती भी शायद थक गई थी , वह राजी हो गई।

Read More

The Water Symphony

By

Omkareshwar , one the 12 revered Shiv temples ( Jyoteerling) is actually on an island called Mandhata in Narmada. On the south bank you will find the Mamaleshwar also among the 12. The town is similar to all temple towns all over India, full of small lanes packed with Pooja shops and hotels, a free passage to all living animals including humans, devotees and pestering priests and in addition there were flocks of flies as the monsoon special. Omkareshwar is a modern looking temple from the outside however we know the place is ancient and there are ornate pillars inside the temples which give a glimpse of the old temple. Everything inside the temple is to ensure that you should not feel peaceful. The ceramic tiles, the water abhishek mechanism where water goes in a tube and then gets poured on the shivlinga, the overbearing crowd of priests offering a menu card of abhishek in various types and costs. The only time you find solace is when you come out and look at the serene Narmada. That is the real ‘Darshan’ for me.

Mamaleshwar on the other bank is visible from this side with its ornate high shikhar and a red flag fluttering to show the location amongst the crowd of several other small temples and houses. All built in red sandstone, Mamaleshwar has that special quality of providing a devotional experience to the visitor. The temple is typical Nagar style with up-swinging Shikhar. There are many small and medium temple structures in the clean premise. The elaborate door frames and beautiful sculptures on the outer walls of temples are worth a watch. In the premise, we also find several pieces of temple structure strewn away. A lone ‘amalak’ the round top of the shikhar, some carvings and ‘chandrasheela’ – an ornate step to get into the Garbhagriha are all there stashed away, silently suffering the passage of time.

Read More

जंतर मंतर / वेधशाला उज्जैन – (भाग 10)

By

महाकाल के दर्शनो के बाद हम लोगों ने नाश्ता किया और नाश्ते के बाद हमने एक ऐसे ऑटो कि तलाश शुरू कि जो हमें जंतर मंतर , जिसे वेधशाला भी कहते हैं , ले जाए। हमारी गाडी का समय दोपहर का था और उसमे अभी काफी समय था इसलिए हम लोग जंतर मंतर घूमना चाहते थे । आज रंग पंचमी का दिन था और यहाँ काफी धूम धाम थी। जैसे हमारे उतर भारत में होली मनाई जाती है वैसे ही यहाँ रंग पंचमी। इसलिए ज्यादातर दुकाने बंद थी और जो खुली थी वो भी सिर्फ कुछ घंटो के लिए। आज रंग पंचमी होने के कारण ऑटो भी काफी कम थे। जो थे वो ज्यादा पैसे मांग रहे थे। आखिर कुछ मोलभाव के बाद एक ऑटोवाला हमें जंतर मंतर / वेधशाला होते हुए रेलवे स्टेशन जाने के लिए 150 रुपये में मान गया। हम ऑटो में सवार हो अपनी नयी मंजिल जंतर मंतर / वेधशाला की ओर चल दिए ।
ऑटो वाला हमें उज्जैन की कुछ सुनसान सडकों से घुमाता हुआ 15-20 मिनट में जंतर मंतर ले आया। सुनसान सडकों पर जाने का उसका उदेश्य केवल हमें व अपने नए ऑटो को रंग से बचाना था। हम उसे बाहर प्रतीक्षा करने को कह जंतर मंतर में प्रवेश कर गए। यह स्थान महाकालेश्वर से 3 किलोमीटर की दुरी पर चिंतामन रोड पर स्थित है जहाँ से रेलवे स्टेशन की दुरी मात्र 2 किलोमीटर है। यहाँ प्रति व्यक्ति 10 रूपये प्रवेश शुल्क है। जब हम वहाँ पहुंचे तो हमारे अलावा वहाँ कोई भी नहीं था। अंदर जाकर देखा तो एक व्यक्ति नजर आया जो वहाँ का केअर टेकर था । उसने आकर हमें टिकट दिए और छोटी सी फ़ीस पर खुद ही गाइड का काम करने लगा। उसने हर यंत्र के बारे में बताया जिसमे से हमें थोडा सा समझ आया बाकी सब कुछ सर के ऊपर से निकल गया। हमारे पहुँचने के थोड़ी देर बाद वहाँ कुछ लोग और आने लगे और वो केअर टेकर उनके साथ व्यस्त हो गया।

वेधशाला, उज्जैन:
उज्जैन शहर में दक्षिण की ओर क्षिप्रा के दाहिनी तरफ जयसिंहपुर नामक स्थान में बना यह प्रेक्षा गृह “जंतर महल’ के नाम से जाना जाता है। इसे जयपुर के महाराजा जयसिंह ने सन् 1733 ई. में बनवाया। उन दिनों वे मालवा के प्रशासन नियुक्त हुए थे। जैसा कि भारत के खगोलशास्री तथा भूगोलवेत्ता यह मानते आये हैं कि देशांतर रेखा उज्जैन से होकर गुजरती है। अतः यहाँ के प्रेक्षागृह का भी विशेष महत्व रहा है।
यहाँ पांच यंत्र लगाये गये हैं — सम्राट यंत्र, नाडी वलय यंत्र, दिगंश यंत्र, भित्ति यंत्र एवं शंकु यंत्र है। इन यंत्रों का सन् 1925 में महाराजा माधवराव सिंधिया ने मरम्मत करवाया था।

Read More

महाकालेश्वर दर्शन व पुन: दर्शन (भाग 9)

By

महाकालेश्वर मंदिर एक परकोटे के भीतर स्थित है। गर्भगृह तक पहुँचने के लिए एक सीढ़ीदार रास्ता है। इसके ठीक उपर एक दूसरा कक्ष है जिसमें ओंकारेश्वर शिवलिंग स्थापित है। महाशिवरात्रि एवं श्रावण मास में हर सोमवार को इस मंदिर में अपार भीड़ होती है। मंदिर से लगा एक छोटा-सा जलस्रोत है जिसे कोटितीर्थ कहा जाता है। ऐसी मान्यता है कि इल्तुत्मिश ने जब मंदिर को तुड़वाया तो शिवलिंग को इसी कोटितीर्थ में फिकवा दिया था।

Read More

उज्जैन दर्शन: श्री सिद्धवट मंदिर, मंगलनाथ मंदिर और सान्दीपनि आश्रम (भाग 8)

By

संदीपनी आश्रम परिसर में स्थित श्री सर्वेश्वर महादेव मंदिर में 6000 वर्ष पुराना शिवलिंग स्थापित है । ऐसा माना जाता है कि इसे महर्षिसंदीपनी ने बिल्व पत्र से उत्पन्न किया था। इस शिवलिंग की जलाधारी में पत्थर के शेषनाग के दर्शन होते हैं जो प्रायः पुरे भारत वर्ष मेंदुर्लभ है। अधिकांश मंदिरों में नंदी की मूर्ति बैठी हुई अवस्था में ही होती है। इस शिवलिंग के सामने, मंदिर के बाहर खड़े हुए नंदी की एक छोटी सी दुर्लभ मूर्ति है।

Read More

उज्जैन दर्शन: गढ़कालिका मंदिर और श्री काल-भैरव मन्दिर (भाग 7)

By

उज्जैन की केन्द्रीय जेल के सामने से होते हुए हम लोग श्रीकाल भैरव मन्दिर जा पहुँचे। मंदिर के बाहर सजी दुकानों पर हमें फूल, प्रसाद के साथ-साथ मदिरा की छोटी-छोटी बोतलें भी सजी नजर आईं। यहाँ कुछ श्रद्धालु प्रसाद के साथ-साथ मदिरा की बोतलें भी खरीदते हैं। ऐसी ही एक दुकान पर हम परसाद लेने के लिए रुके तो दुकानदार हमसे मंदिर में भैरों बाबा को पिलाने के लिए मदिरा लेने की जिद्द करने लगा। यहाँ पर लगभग हर ब्रांड की शराब उपलब्ध थी लेकिन शराब का रेट काफी तेज था, लगभग दुगना।

Read More

उज्जैन दर्शन: श्री बड़ा गणेश मंदिर, क्षिप्रा घाट, चारधाम मंदिर व श्री राम मंदिर (भाग 6)

By

भारत के हर कोने में भगवान गणेश जी के मंदिरों को देखा जा सकता है और उनके प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है, बडे गणेश जी का मंदिर, जो उज्जैन के श्री महाकालेश्वर मंदिर के निकट हरसिध्दि मार्ग पर स्थित है। इस मंदिर में भगवान गणेश जी को बडे गणेश जी के नाम से जाना जाता है।

Read More

राजा भर्तृहरि गुफा (भाग 5)

By

तभी उन्होने झोले में से एक फल निकाल कर राजा को दिया और कहा यह अमरफल है। जो इसे खा लेगा, वह कभी बूढ़ा नही होगा, कभी रोगी नही होगा, हमेशा जवान व सुन्दर रहेगा। इसके बाद गुरु गोरखनाथ तो अलख निरंजन कहते हुए अज्ञात प्रदेशों की यात्रा के लिए आगे बढ़ गए।
उनके जाने के बाद राजा ने अमरफल को एक टक देखा, उन्हें अपनी पत्नी से विशेष प्रेम था, इसलिए राजा ने विचार किया कि यह फल मैं अपनी पत्नी को खिला दूं तो वह सुंदर और सदा जवान रहेगी।

Read More

Charming Chanderi – of Baiju Bawra, Hazrat Nizamuddin Auliya and 1200 Baoli

By

The road stretch from Lalitpur to MP border will unhinge your joints. You cross into Ashoknagar district of MP over the downstream water channel of the Rajghat Dam. In rains water flows over the causeway. The landscape turns pretty with Vindhyachal hills and intermittent lakes making their entry. The early rains have made the hills lush with greenery. The beauty was enough for Babur to go ga-ga in his memoirs Babur Nama. The road after crossing into MP is a breeze and soon you see signs of the local Municipal Corporation welcoming you to the historic city of Chanderi. You are surprised to find the town clean with good roads and amazing signs for the tourists. Just looking at the densely packed attractions on the map confirms that Chanderi indeed is brimming with all kinds of monuments – tombs, mosques, gateways, palaces, temples and innumerable baolis.

Read More