Mumbai

Mumbai Siddhivinayak Temple and The Gateway of India (Part 2)

By

Earlier, the Siddhivinayak temple was a small construction highlighting the black idol of Shree Siddhivinayak, carved out of stone. It was only two and half feet wide then. The most remarkable feature of this idol of Lord Ganesh is that, His trunk is tilted to the right side. The deity has four hands, which is why it is also called Chaturbhuj.

Read More

Pages from my dairy, traveling in Seventies

By

Just for information and to lend credibility to this piece, my wife had (in those days) used the diary published by Tata Oil Mills, (Tomco – A Tata caompany) which was one of my client at OBM.I wonder if today’s young people know that Tata used to make and market soaps and detergents.They were known for their products like Jai and GoldMist soaps, and 555 washing powder Bar

These annual dairies always had the theme of Indian Historical places. The pages, scanned from these dairies, would give you the glimpse of Life & Times gone by, that we will never see again. We hope you enjoy going back in time and see the wonderful country of ours, of those days, with us.

Read More
Weekend Trip to Kihim – Alibaug

Weekend Trip to Kihim – Alibaug

By

Fort surrounded by sea water at a little distance from the shore. When tide is low one can go there on foot. Otherwise there are speed boats for tourists to go there. These boats also take tourists on short rides on sea, just near the shore

Read More

Goaing – from Goa to Delhi

By

After the mandatory getting-lost-and-going-round-in-circles-before-finding-the-destination that we seem to do in most new cities, we reach our destination after 2 solid hours of wandering the drowning streets of Ghatkopar in a downpour worthy of …. Mumbai! The thing to note is that more time was spent in negotiating the traffic (read: stuck in traffic) than driving!

Read More

Lavish yet affordable trip to Matheran, near Mumbai

By

• Girls should consider wearing something very appropriate as the crowd consist of good as well as cheap public.
• As a couple you should consider not carrying much luggage as there is no one to look after it.
• Please be careful of the broken bottle glasses all over the place.
• Please be prepared with the right type of footwear since the place is slippery.
• The water currents are very mild and the fall is amongst the safest fall in the state.
While leaving for top we again got a share cab for us with the same fare. We trekked from Dasturi to our hotel this time. Yeah! Now I am planning to add trekker in my resume..lol. The rest of the day we spent inside our cozy hotel.

Read More

जीवदानी माता का मंदिर और अरनाला द्वीप के क़िले का परिचय

By

किले के उत्तरी द्वार पर किले का मुख्य दरवाज़ा जो, समुद्र की तरफ़ खुलता था. किसी जमाने में उस समुद्री तट पर पुर्तगाली और ब्रिटिश नौसेना तैनात रही होगी. उस दिशा में समुद्र दूर-दूर तक फैला दिखाई देता था और यह साफ़ दिख रहा था कि सामरिक दृष्टि से अर्नाले के किले का महत्त्व कितना था. इसी दरवाज़े के ऊपर मराठों की पुर्तगालियों पर विजय के बारे में एक शिलालेख भी अंकित था. साथ ही किले की दीवारों पर शेर और हाथी जैसे प्रतीक चिन्ह भी उकृत थे.

Read More

वज्रेश्वरी के गर्म पानी के स्रोतों का आश्चर्य

By

एक-दूसरे पर जल के छीटें फेंकना, हंसी-मज़ाक करना, पानी के बीच अपनी फोटो खिंचवाना इत्यादि जल-क्रियाओं से लोग खुशियाँ मना रहे थे. तैरना जानने वाले लोग तो उस नदी के बीचो-बीच तैर रहे थे. कुछ स्त्रीयां नदी के तट पर बैठ कर अपनी-अपनी अंजुलियों में किनारे पर आई हुईं छोटी-छोटी मछलियों को पकड़ने की चेष्टा कर रहीं थीं.

Read More

जाने, मुम्बई निकट गणेशपुरी के गर्म पानी के स्रोतों का सत्य

By

इधर छिटपुट हो रही बारिश से मेरा तन-बदन भींग चुका था. उस भींगे हुए ठंडे मौसम में ईच्छा होने लगी कि गर्म पानी के सोतों में स्नान किया जाए. आखिर इतनी दूर मैं उन्हीं के लिए तो आया था. पर मैं महादेव मंदिर वाले उन सार्वजनिक कुंडों में डुबकीनहीं लगाना चाहता था. किंकर्तव्यविमूढ़ता की उस परिस्तिथिति में तन्सा नदी के तट से जैसे निकला, वैसे ही एक पुराने ब्रिटिश समय की कोठी नज़र आई. उत्सुकता शांत करने हेतु मैं कोठी तक चला गया. इस कोठी का नाम रत्नाबाद था. वर्तमान में इसे “गर्म-पानी स्नान तथा हेल्थ रिसोर्ट” के रूप में परिवर्तित किया गया था.

Read More

मुंबई की गुफाएँ – जोगेश्वरी देवी की खोज में

By

इतने में कुछ विदेशी पर्यटक आ गए. बड़े-बड़े कैमरों के साथ. वे भी हनुमान मंदिर की तरफ जा रहे थे. मैं भी उनके पीछे चल पड़ा. वो रास्ता एक बड़े-से आँगन से हो कर जाता था, जिसके दोनों तरफ गुफ़ाएँ बनीं हुईं थीं. मेरे पुरोहित ने बताया था कि वर्तमान का वो आँगन पूर्व-काल में गुफ़ा ही था, जिसकी छत कालांतर में गिर चुकी थी. अगर वह गुफा का हिस्सा था, तब तो एक जमाने में वह गुफा बहुत-ही विशाल रही होगी. खैर आँगन से गुजर कर हम हनुमान-मंदिर पहुँचे और वहां दर्शन किया. मंदिर एक गुफा में बना हुआ था. कोई ज्यादा लोग नहीं थे. वहां से तुरंत ही सभी निकल पड़े और फिर गणेश मंदिर तक आये. वह नजदीक ही था. वह भी एक गुफा में बना हुआ था.

Read More

मुंबई की गुफाएँ – मंडपेश्वर और महाकाली

By

यह भी कहा जाता है कि जब-जब शासन बदला, तब-तब इस गुफा का विभिन्न प्रकार से उपयोग किया गया. कभी तो यहाँ सैनिकों के टुकड़ियाँ निवास करती थीं, तो कभी शरणार्थी-गण. यह भी समझा जाता है कि प्रत्येक शासन काल में यह गुफा उजड़ी और फिर नए सिरे से बसी. लोग यह भी मानतें हैं कि विश्व युद्ध के समय भी अंग्रेज सैन्य-बल यहाँ बसा हुआ था. इनका यह मतलब निकलता है कि मंडपेश्वर गुफाएं हमेशा से लोगों द्वारा आबादित रहीं हैं.

Read More

संजय गाँधी राष्ट्रीय उद्यान, मुंबई की पदयात्रा – “कान्हेरी गुफा”

By

पर एक बात थी. कान्हेरी पहाड़ का वह स्थान बिलकुल वीरान था. इतना वीरान कि गुफाओं के अन्दर अकेले जाने में ऐसा महसूस हो कि कोई वहां पहले से मौजूद है, जो आपको निरंतर देख रहा है. उस वीरानी में मन में कई ख़याल आते हैं. जैसे कि क्या वहां जाने वाले का कोई सम्बन्ध पश्चात काल में उस गुफा से था और उसी सम्बन्ध के सहारे वह इस जीवन में भी वहां लौट कर आया हो? उस अंतिम गुफा में बैठ कर मैंने अपनी एक कविता का प्रथम अन्तरा लिखा. इस कविता के दूसरे अंतरे बाद में मुंबई के अन्य गुफाओं की यात्रा में पूर्ण हुए.

Read More

कृष्णागिरी उपवन, संजय गाँधी राष्ट्रीय उद्यान- मुंबई पदयात्रा

By

परन्तु मुझे आकर्षित किया उनके केलों ने. खूब सुन्दर और पुष्ट केले थे. मुझे केले खरीदता देख कर एक स्त्री ने मुझे समझाया कि मैं खीरे ले लूं और केले छोड़ दूँ. पर मैं कहाँ मानने वाला था. बस जैसे ही मैंने केले ख़रीदे, वृक्षों की डालों से तेजी-से उतर कर करीबन २०-२५ बंदरों ने मुझे घेर लिया. घबरा कर मैंने केले वहीँ जमीन पर फेंके, जो क्षण-भर में ही बंदरों द्वारा लूट लिए गए. अब उस डंडे से लैस व्यक्ति ने बंदरों को भगाने के लिए डंडा भाजना शुरू किया. बन्दर भाग गए. अब यह तो नहीं पता कि डंडे से भागे या केले चट कर के भागे. मैंने उन दोनों स्त्रियों को समझाने की कोशिश की कि जब यहाँ बंदरों का उत्पात है तो केले बेचते ही क्यों हो. दोनों स्त्रियाँ मुस्कुरायीं क्योंकि आज उन्हें एक और शहरी आदमी मिला था, जो जंगल में बिना देखे चलता था.

Read More