Jammu and Kashmir

The beautiful mountainous landscape of Kashmir valley, numerous shrines of Jammu and the remote mountain beauty and Buddhist culture of Ladakh, justify the exclamation of Emperor Jahangir, If there is ever a heaven on earth, it is here, it is here, it is here.
The northernmost state of India is home to many beautiful valleys such as the Kashmir Valley, Tawi Valley, Chenab Valley, Poonch Valley, Sindh Valley and Lidder Valley. Srinagar is the summer capital and Jammu the winter capital of the state. The official language is Urdu, while the main spoken languages are Kashmiri in Kashmir Valley, Dogri in Jammu and Ladakhi in Ladakh. Most people speak at least a little Hindi.
One can arrive here by air to Srinagar and Leh or board a train till Jammu or Udhampur. By road entry is via Jammu upto Srinagar and via Manali upto Leh.
Kashmir Valley is a land of beautiful gardens like Shalimar and Nishant gardens, vast lakes like Dal Lake and Manasbal Lake, pristine streams and friendly people. Gulmarg, Sonamarg and Patnitop are hill stations offering enchanting view of Snow Mountains. Raghunath Temple, Bahu Fort, Mubarak Mandi Palace, Peer Baba, Vaishno Devi, Pari Mahal, Hari Parbat Shankaracharya Temple, Amarnath, Bhimgarh Fort and Ramnagar fort are some of the pilgrimage and historical sites.
Leh, the capital of Ladakh is famous for monasteries. Zanskar Trek is a great adventure tourism destination. Nubra Valley, Lake Moriri and Pangong Lake offer truly amazing landscapes high up in the Himalayas.

With Love from Kashmir…

By

Continuing my exploration of the beautiful valley of Kashmir, my second visit was more like returning back to my second home. The enthralling beauty and the warmth of the people haunted me long enough to make me revisit Kashmir and I boarded the indigo flight for a 5 day visit.

Read More
Baralacha-la pass at an altitude of 4890 meters

To Leh by road : Journey from Chandigarh – Srinagar – Kargil

By

Had a lunch/prayer break at world’s second coldest inhabited place Drass (after Siberia). Winters in Drass are cold with average lows around −22 °C and as low as −45 °C at the peak of winter. The lowest temperature was recorded around −60 °C during 2005. We were told by some locals that everybody in mountain keeps at least 4 to 6 months food stock for emergencies.

Read More

शिव खोडी – SHIV KHODI

By

भोले बाबा के दर्शन करके, नीचे रन्सू में आकर के भोजन करके तृप्त हुए और जम्मू की और चल दिए. बारिश और आंधी तूफ़ान बहुत तेज था. पहाड़ के एक मोड पर हमारी बस कि टक्कर एक ट्रेक्टर ट्राली से हो गयी. वह टक्कर लगते ही पलट गयी. बस पीछे की  और खिसकने लगी. पीछे सैकड़ों फीट गहरी खाई थी.

Read More

लेह – लद्दाख

By

आये इस सुचना के साथ कि सुरक्षा कारणों से आम जन के लिए नुब्रा वैली कुछ दिनों के लिए बंद है अत:खार्दुन्गला से वापस आना होगा।

ऊपर जाकर या रास्ते में कुछ भी नही मिलता भोजन के लिए तो पहले लंच किया और फिर थोड़ी हताशा के साथ चल पड़े विश्व की सबसे ऊँचे सड़क मार्ग पर जो की 18380 फुट (5602मी) की ऊंचाई पर स्थित है,बेहद संकरी उबड़ खाबड़ रोड जो लेह से 40 किमी दूर है, भूरे निर्जन वनस्पति शून्य इस मार्ग पर चार पहिया वाहन कम और दो पहिया ज्यादा होते है,मोटरसाइकिल और साइकिल चालको की ये प्रिय सड़क है और हमें अपनी गाडी इनसे बचते हुए चलानी थी,लेह से किराये पे मिलते है ये वाहन।

Read More

दिल्ली से लेह-लद्दाख – सन्नाटे का सौन्दर्य

By

इस सब जगहों का वर्णन शब्दों में संभव नही है,ये आप इस यात्रा के दौरान अनुभव करके ही जान सकते है।विमान से 4 दिन में लद्दाख भ्रमण आपको जगह देख लेने का संतोष तो दे सकता है किन्तु वास्तविक खूबसूरती का आनंद लेना हो तो सड़क मार्ग से ही जाईये।

केलोंग से धीरे धीरे सरचु पहुचे रास्ते पर और दिन काफी बचा था तो सोचा रात्रि विश्राम पांग में करेंगे,आगे विभिन्न रंग के पहाड़ हरे ,नीले ,पीले,भूरे ,लाल सभी रंगों में रंगे, अवर्णनीय सुन्दरता चारो और बिखरी पड़ी है और देखने वाले गिने चुने यात्री बस।

Read More

My Experience of Vaishno Devi, Ardhkumari Gufa and Shivkhori

By

Just opposite to “Bhaint Shop”, there is cloak room 1. This is less crowded but a little far from bhawan. Due to less crowd, we preferred that and deposited all our luggage, belt and shoes in that cloak room. Would like to remind, you will need to show your yatra slip over here to obtain cloak room. Another 2 cloak rooms (2 and 3) are near bhawan but are overcrowded. There is not much distance between cloak room 1 and 2 & 3.

Read More

माता वैष्णो देवी की यात्रा – मैया रानी का प्यार मुझे भी मिला अबकी बार

By

लगभग दो घंटो की प्रतीक्षा के बाद अंततः वो समय आ ही गया जब मे माता जी किी पिंडियो के दर्शन करने हेतु पवित्र गुफा मे प्रवेश कर रहा था. गुफा की दीवारों से रिस्ता हुआ प्राकृतिक जल जब आपके शरीर पर पड़ता है तो मानो अंतर-आत्मा तक को भीगा डालता है और जिस सच की अनुभुउति होती है वह तो अतुलनीया है. धीरे-2 मैं माता किी पिंडियो तक भी पहुँच गया जिनके दर्शन करते ही नेत्रो मे सुकुउन और मन को आराम मिल जाता है. ऐसी अदभुत शक्ति का आचमन मात्रा ही कुछ पलों के लिए हमारे मन से ईर्ष्या, राग और द्वेष जैसे दोषो को समाप्त कर देता है और बदन एक उन्मुक्त पंछी की भाँति सुख के खुले आकाश मे हृदय रूपी पंख फैलाकर हर उस अनुभूति का स्वागत करने लगता है जिसकी हमने कभी कल्पना भी नही की थी. मुझे स्वयं भी यह आभास हो रहा था की पवित्र गुफा के प्रवेश द्वार पर मेरा चंचल चित्त कहीं पीछे ही छूट चुका है और निकास मार्ग तक पहुँचते-2 वो अब काफ़ी शांत व गंभीर हो गया है, लगता है मानो कुछ पा लिया हो.

माता जी के दर्शानो के उपरांत समीप ही स्थित शिव गुफा मे भी मत्था टेकने और पवित्र गुफा मे बहते अमृत जल का आचमन करने के बाद मैं बहुत देर तक माता के भवन को निहारता ही रहा और इसकी सुंदरता भी देखते ही बनती थी, शायद नवरात्रि के उपलक्षय मे इसे विशेष रूप से सजाया गया था. यह वो पल थे जब मैने स्वयं को उस गूगे के समान्तर पाया जो मीठे फल का आनंद तो ले सकता है किंतु चाहकर भी उसका व्याख्यान नही कर सकता.

तत्पश्चात मैने समीप ही स्थित सागर रत्ना मे रात्रि का डिन्नर करने के पश्चात एक दूसरे ढाबे से सुजी का हलवा लिया और एक खुले स्थान पर जाकर माता के भवन की तरफ मुख करके खड़ा हो उसे खाने लगा. यहाँ यह ज़रूर बता देना चाहूँगा की मात्र रु 20 का यह हलवा कम से कम रु 250 के भोजन से स्वादिष्ट था जो मैने सागर रत्ना मे खाया था. इस वक्त तक शाम पूरी तरह से घिर आई थी और तेज सर्द हवाओं का दौर शुरू हो चुका था. माता जी का भवन जग-मग रोशनी मे नहा रहा था और मेरा मन उन तेज हवाओं मे भी यहीं टीके रहने को आतुर था और यहाँ खड़े-2 मे जल्दी ही एक डोना गर्मागर्म हलवा और एक कप कॉफी हजम कर चुका था.

Read More

Paradise on Earth- Part 4

By

Pahalgam turned out to be very beautiful too, with the roaring Lidder and the rocky snow clad mountains complimenting each other. After finishing our breakfast, we headed for our first destination, Betaab Valley. It is so called as it was once the location for the filming of the film, “Betaab”. It was also the background in many scenes from the Ranbir Kapoor starrer, Rockstar. To reach the valley, a detour has to be taken from the road leading to Chandenwadi. It is located beside a much calmer portion of the Lidder, and with its artificially planted forest, does give the feel of being in the UK. Although Betaab valley is slightly commercialized, it has a very calming effect on the nerves.

Read More