Hills

Char Dham Yatra – Gangotri

By

Water started to flow down the hill crossing road (damaging it) from multiple points. The turns were muddier and appeared slippery. All of a sudden a silenced atmosphere appeared in the car, everybody was quite including our music player. I could able to sense their tension but said nothing or not even reacted, just concentrated on road. By 6 pm, we started to look for a good place to spend night, as it was too much for the day. We stopped in small village, Dharali, some 18 km before Gangotri and so did the rain. There were around max 20-25 houses, all lodges, I guess and couple of restaurants. After taking 15-20 minutes rest, we came out for sightseeing, as the river Bhagirathi and mountains behind her were marvelous. After roaming for an hour we came back to the village and had our dinner. At the start of the trip only we have decided that we will have dinner no later than 8 pm and will sleep (try to) by 9 or 9:30 max. This will give us enough sleep before getting up again early next morning. I made it very clear that by any means we should be on road by 6 am, keeping IST in mind.

Stats:
From Haridwar to Dharali – 265 km; time taken – 12 hrs; breaks – 3 (15+30+60 mins)
Road condition – Excellent/ Good (occasionally bad patches 2-3 km each)
Tip:
1. There were two roads from Chamba for uttarkashi, I believe I took the long one, but in google maps the another one, which is also the NH seems around 20 km less.
2. Do not rely on mapmyindia GPS device in these parts, they are not properly updated. And the coordinates will always confuse the device as you will be rotating up/down the hills.

Read More

The Great Himachal Circuit – Part 2 : Shimla to Sangla via Sarahan

By

A very important thing about Himachal, is that people are very cooperative and they are very happy with what they are and have. I am writing this because I tour as well as I interact with people over various places, trying to find the differences in the cultures, way of living etc. This is what travelling is all about. I found Himachal people in the remote of the areas to be very well educated (better than what we are in cities) and well behaved. They are clean by heart and they educate their child to be as clean as them.

Soon it was getting dark and we entered the temple which normally opens up after 7PM. Not everywhere inside the temple are cameras and accessories allowed, but there are lockers where they can be kept. So we put our accessories in the lockers and entered the temple. The Bhimakali Temple at Sarahan is quite big and unique in its own way and own beauty. It looks more like a monastery rather than a temple.

Read More

अन्नू भाई चला चकराता …पम्म…पम्म…पम्म (भाग- 2 ) रहस्यमई मोइला गुफा

By

ये सब देखकर हम तो मानो जैसे स्कूल से छुटे, छोटे छोटे बच्चो की तरह दोड़ते भागते , गिरते पड़ते जब उस मंदिर नुमा ढांचे तक पहुचे तो एक बार को तो उसे देखकर हम तीनो सिहर से उठे। वो एक लकड़ी का बना मंदिर ही था पर उसमे न कोई मूर्ति न घंटा , हाँ उसमें इधर उधर  किसी जानवर के पुराने हो चुके  सिंग , कुछ बर्तन से टंगे हुए थे और एक लड़की का ही बना पुतला दरवाजे से बाहर जो की कोई  द्वारपाल सा लग रहा था। मन ही मन उस माहोल और जगह को प्रणाम कर अपने साथ लाये मिनरल वाटर की  बोतल से उन्हें जल अर्पण किया और परिकर्मा कर बड़े इत्मिनान से वहां बैठ दूर दूर तक फैली वादियों और शान्ति का मजा लेने  लगे। थोड़ी देर बाद सोचा  के चलो ताल में नहाते है फिर कुछ खा पीकर गुफाओ को ढूंढ़ेगे।

पानी का ताल जो की थोडा और आगे था जल्दी ही दिखाई दे गया लेकिन वहां पहुँच कर नहाने का सारा प्रोग्राम चोपट हो गया। कारण उसमे पानी तो बहुत था परन्तु एक दम मटियाला। सो सिर्फ उसके साथ फोटो खीच कर ही मन को  समझा लिया। अब बारी  गुफा ढूंढने की तो लेकिन वहां चारो और दूर दूर तक कोई गुफा तो नहीं अपितु मकेक बंदरो के झुण्ड घूम रहे थे। जो की हम पर इतनी कृपा कर  देते थे की हम जिस दिशा में जाते वो वहां से दूर भाग जाते थे। हम तीनो काफी देर अलग अलग होकर  ढूंढते  रहे पर हमें तो कोई गुफा नहीं दिखी सिर्फ शुरू में आते हुए एक छोटा सा गड्ढा नुमा दिखाई दिया  था।

Read More
??????? ????

बद्रीनाथ – गोबिंद घाट – घाघंरिया (गोबिंद धाम) : भाग 5

By

जब भगवान विष्णु योग ध्यान मुद्रा में तपस्या में लीन थे तो बहुत ही ज्यादा हिम पात होने लगा। भगवान विष्णु बर्फ में पूरी तरह डूब चुके थे। उनकी इस दशा को देख कर माता लक्ष्मी का ह्रदय द्रवित हो उठा और उन्होंने स्वयं भगवान विष्णु के समीप खड़े हो कर एक बेर(बद्री) के वृक्ष का रूप ले लिया और समस्त हिम को अपने ऊपर सहने लगी। भगवान विष्णु को धुप वर्षा और हिम से बचाने लगी। कई वर्षों बाद जब भगवान् विष्णु ने अपना तप पूर्ण किया तो देखा की माता लक्ष्मी बर्फ से ढकी पड़ी हैं। तो उन्होंने माता लक्ष्मी के तप को देख कर कहा की हे देवी! तुमने भी मेरे ही बराबर तप किया है सो आज से इस धाम पर मुझे तुम्हारे ही साथ पूजा जायेगा। और क्यूंकि तुमने मेरी रक्षा बद्री रूप में की है सो आज से मुझे बद्री के नाथ-बद्रीनाथ के नाम से जाना जायेगा।

Read More

Uttarakhand Sojourn – Ride in to the Wilderness (Camping in Deoban)

By

Sitting there on the green patch overlooking Spider Colony, we felt exactly how a falcon would feel when flying high. For as far as we could see, there were just waves of misty mountains. Paahji and I felt lucky to be living our lives exactly the way we wanted to. On our back was an intimidating rocky wall, behind which lay Deoban.
A kilometer or so up from that place, we started spotting snow on the road side and then, all hell broke loose. The first 20-foot stretch of snow on the road made me really nervous. There were paths through the snow made by what must have been army vehicles, but those paths were strewn with treacherous black ice. Paahji looked nervously at me as I struggled through that stretch. He was slightly better off with his long legs working as outriggers. There was another such stretch in the next corner and then there was another. After a number of snowed stretches, we got to a Y point where the road on the right went to Mundali and the one on the left went to Deoban. We took the left one and as we got closer to Deoban, the quantity of snow on the road kept increasing. Fortunately, the road was not too steep and it was somewhat manageable. Suddenly, Paahji took a left turn and stopped. He asked me where we were heading. The road ahead had two feet of snow for as far as we could see and we definitely couldn’t take our bikes through that. Paahji looked at me with a huge question mark on his face. We got off the bikes and looked around. Wow! What a sight! The place was about 4 kilometers short of Deoban. There was a shallow gorge that slid down to a frozen pond. The slopes were heavily snowed on all sides except for the areas that were getting direct sunlight. There was a nice and flat green patch on the right of the pond where tree-cutting work must have been on till recently. Loads of firewood lay abandoned alongside freshly cut logs.

Read More

Kedarnath

By

Kedarnath can be accessed by foot , mule , palki or kandi. It could be visited by Helicopter too which is available from Agastyamuni or Phata.

Those who visited Kedarnath by Helicopter , they miss the natural beauty of the valley and the trekking. They miss the opportunity of visiting Gauri kund too.

The journey of first one km was terribly irritating because the way was overcrowded and too much stinking because of the horses. Couple of kms away we found it ok. After sometime we started feeling tired but kept on walking slowly and taking rest in every 200-300 meters for couple of seconds to regain the energy.

Read More
??????? ??? 2

गौरीकुंड – चोपटा – जोशीमठ – बद्रीनाथ (भाग 4)

By

कोई शक नही हिन्दुस्तान मे चोपटा की प्राक्रतिक सुंदरता नायाब है। कोसानी के बारे मे महात्मा गाँधी ने स्विट्ज़रलैंड ऑफ इंडिया कहा था। वहाँ उन्होने अपना आश्रम भी बनाया परन्तु चोपटा की सुंदरता के आगे कोसानी कहीं नही टिकता है। जो भी चोपटा आता है वह यहाँ की खूबसूरती को भूल नही सकता। यहाँ पर हम लोग लगभग आधा घंटा रुक कर आस पास के नज़ारे देखते रहे। यहाँ की सुंदरता देख कर बार-बार सब कहने लगे बहुत अच्छा किया जो हम इस रास्ते से आए वरना हमे पता ही नही चलता कि कितनी खूबसूरत यह जगह है।

Read More

On the way to Kedarnath

By

Srinagar received its name from Sri Yantra, a mythical giant rock, so evil that whoever set their eyes on it would immediately die. The rock was believed to have taken as many as thousand lives before Adi Shankaracharya, in the 8th century AD, as a part of an undertaking aimed to rejuvenate the Hindu religion across India, visited Srinagar and turned the Sri Yantra upside down and hurled it into the nearby river Alaknanda. To this day, this rock is believed to be lying docile in the underbelly of the river. That area is now known as Sri Yantra Tapu.

On the way to Srinagar we saw a broken bridge which was built recently across Alaknanda and damaged too during construction. Six labourers die during that time thereafter the construction was not restarted.
We all were enjoying our journey in our own ways as some were busy in clicking pictures of the natural beauty of Uttrakhand , some were sleeping as we got up early in the morning & kids were busy in singing and playing cards.

After 35 kms from Srinagar we reached Rudarprayag , named after Shiva (Rudra). Here Alaknanda river from Badrinath and Madakani river from Kedarnath meet.

From Rudarprayag the road separated for Kedarnath & Badrinath, left road goes to Kedarnath & right one towards Badrinath.

Read More

लेह लद्दाख – मनाली – केलोंग – दार्चा – बरालाचा ला – लाचुलुंग ला – पैंग – 3

By

यहाँ पर बहुत से सरकारी दफ्तर और सेवाएँ है। एक बड़ा बाज़ार और सड़क से दाएं ओर नीचे बस स्टैंड भी है। यहाँ पर रुकने का पूरा इंतजाम है कई रेस्ट हाउस, सरकारी बंगलो और होटल भी है। केलोंग मे गाड़ी का हवा-पानी टिप-टॉप करने के बाद हम बिना रुके “जिस्पा”, “दार्च” होते हुए “zingzingbar” पहुँच गए। एक बात बता दूं की “zingzingbar” मे भी रात को रुकने का इंतजाम है। अभी दोपहर का समय था तो हमने रुकना ठीक नहीं समझा। ये हमारी बहुत बड़ी भूल थी। इसका ज़िक्र आगे चल कर दूंगा। “zingzingbar” से आगे खड़ी चढाई पार करने के बाद हमने “बारालाचा ला दर्रा” दर्रा पार कर लिया था। इस दर्रे की ऊंचाई 5030 मीटर या 16500 फीट है। यहाँ से लगातार उतरने के बाद हम लोग “भरतपुर” होते हुए “सार्चू” पहुँच गए।

“सार्चू” मे हिमाचल प्रदेश की सीमा समाप्त हो जाती है और जम्मू-कश्मीर की लाद्द्खी सीमा शुरू हो जाती है। यहाँ पर भारतीय सेना का बेस कैंप है और एक पुलिस चेक पोस्ट भी है। चेक पोस्ट पर गाड़ी सड़क के किनारे रोक दी गई। हमारा परमिट चेक किया और रजिस्टर मे दर्ज कर लिया गया। “सार्चू” मे सड़क एक दम सीधी है और गाड़ी की रफ़्तार आराम से 100-120km/h तक पहुँच जाती है। यहाँ पर गाड़ियाँ फर्राटे से दौड़ रहीं थी। तभी क्या देखा एक फिरंगी महिला साइकिल(आजकल तो bike बोलते हैं) पर सवार होते हुए चली आ रही थी। मुझे सड़क पर लेटा हुआ देख वो साइकिल से नीचे उतर गई और पैदल चलने लगी।

हम सब उसको देख कर हैरान हो गए। शायद हरी ने उससे पुछा की अकेले जा रही हो तो risk है। उसने बताया की उसके साथ के और लोग भी पीछे आ रहे हैं। वो और उसके साथी मनाली से लेह साइकिल से ही जाने वाले थे। और उसको आज “सार्चू” मे ही रुकना था। इतने दुर्गम, पथरीले, टूटे-फूटे, चढाई-उतराई, अनिश्चिताओ से भरपूर इलाके मे जहाँ 2.6L की Xylo का भी दम निकल जाता था ये फिरंगी इसको साइकिल से ही पार करने वाले थे। इनके जज़्बे और हिम्मत की तारीफ़ की गई और इनको सलाम बोल कर भोजन की तलाश मे चल दिए।

ठीक से याद नहीं है पर दोपहर के करीब 3 बज रहे थे और भूख लग चुकी थी। यह जगह एक बहुत बड़े समतल मैदान जैसी है। यहाँ पर भी रुकने के लिए बहुत सारे टेंट लगे हुए थे। ये सब देख कर समझ आ गया था की यहाँ के लोग काफी मेहनती है। साल के 6 महीने ही मनाली-लेह हाईवे खुलता है। इन्ही 6 महीनों मे इनकी कमाई होती है और बाकि के 6 महीने तो बर्फ पड़ी रहती है। यहाँ पर लगे एक टेंट खाने का इंतजाम था। हमसे पहले और लोग भी थे तो हमको 10-15 मिनट बाद का टाइम दे दिया गया। इस टाइम का हमने पूरा उपयोग करके फोटो session कर डाला। “सार्चू” मे ली गई कुछ फोटो। जानकारी के लिए बता दूँ यहाँ पर ली गई सारी फोटो मैंने नहीं बल्कि मनोज, हरी और राहुल ने खीचीं हैं।

Read More