Gangotri

यमनोत्री से गंगोत्री

यमनोत्री से गंगोत्री

By

देखा मंदिर के पास से ही भागीरथी बह रही है. यहाँ पर भागीरथ का छोटा सा मंदिर है. हम लोग भी भागीरथी के किनारे खड़े ही कर निहार रहे थे. सुबह के 7 बाज रहे थे धूप खिली हुई थी. आस पास का वातावरण बहुत सुंदर लग रहा था . कुछ लोग इस ठंडे मौसम मे भागीरथी मे स्नान कर रहे थे. मैने पत्नी से नहाने को कहा पर उनकी तो हिम्मत नही हुई.

Read More

GANGOTRI – The Origin of Holy River Ganga

By

Several places sacred to Hindus lie along the banks of the river Ganga, including Haridwar, Allahabad and Varanasi. During the Loy Krathong festival in Thailand, candlelit floats are released into waterways in honouring the Buddha and the goddess Ganga for good fortune and washing away sins.

Read More

A Road trip to Gangotri Dham from Harsil

By

Present temple of Gangotri was built in 18th century, by Gorkha General Amar Singh Thapa, is located near the spot where the goddess Ganga is said to have first descended on earth from heaven, as an answer to the prayers of King Bhagriath! Gongotri is the highest and most important temple of Goddess Ganga. The origin of Bhagirathi river, Gaumukh glacier is 18 kms from Gangotri and there person can reach only by foot. One can go by horse riding but up to certain point and from there by foot they have to go. Gangotri remains opened from May and get closed on the day of Diwali festival. During winter, Gangotri temple remains closed due to heavy snowfall.

Read More
अनजान सफ़र :  गंगोत्री – श्रीनगर – पौड़ी – यात्रा का समापन

अनजान सफ़र : गंगोत्री – श्रीनगर – पौड़ी – यात्रा का समापन

By

“मंदिर का निर्माण एक पवित्र शिला पर हुआ है जहां परंपरागत रूप से राजा भागीरथ, महादेव की पूजा किया करते थे। यह वर्गाकार एवं छोटा भवन 12 फीट ऊंचा है जो शीर्ष पर गोलाकार है जैसा कि पहाड़ियों के मंदिरों में सामान्यतः रहता है। यह बिल्कुल समतल, लाल धुमाव के साथ सफेद रंग का है जिसके ऊपर खरबूजे की शक्ल का एक तुर्की टोपी की तरह शीखर रखा है।

Read More

अनजान सफ़र : उत्तरकाशी – गंगोत्री – गौमुख

By

गंगोत्री हिंदुओं के पावन चार धामों मे से एक है इसका धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व सभी को आलौकिक करता है धार्मिक संदर्भ के अनुसार राजा सगर ने देवलोक पर विजय प्राप्त करने के लिये एक यज्ञ किया यज्ञ का घोडा़ इंद्र ने चुरा लिया राजा सगर के सारे पुत्र घोड़े की खोज में निकल पडे.

Read More

घुमक्कड़ी – कुछ खट्टी…कुछ मीठी (3)

By

नारकण्डा में कुछ देर रुकने के बाद हम लोग वापिस चल दिये. चारों ओर बरफ पड़ी हुई थी, हम लोग धीरे-2 स्कूटर चलाते हुए, गाने सुनते हुए वापिस शिमला-दिल्ली की ओर चल रहे थे. ठियोग ठीक ठाक निकल गया और अब हम फागू वा कुफरी के बीच कहीं थे. प्रदीप आगे चेतक पर था और मैं पीछे अपने सुपर पर. अचानक देखा, प्रदीप लड़खड़ा कर नीचे गिरा… विजय सड़क पर पड़ा था और प्रदीप स्कूटर के साथ घिसट रहा था…मैने जोर से बोला – प्रदीप क्या हुआ, और ब्रेक लगाई… बस हमारा स्कूटर भी लड़खड़ाया और मैं और अवस्थी भी जमीन पर घिसटने लगे. किस्मत बड़ी अच्छी थी कि हम दोनों का स्कूटर ऐसे कोण पर गिरा था कि हम और हमारे स्कूटर खाई की ओर न जाकर पहाड़ की तरफ फिसले और साइड पर पड़े बर्फ के ढेर से टकरा कर. हम रुक गये…
कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि हुआ क्या है..

Read More