Aurangabad

Maharashtra Yatra: Aurangabad- Panchakki and Bibi ka Maqbara

By

Bibi Ka Maqbara is situated about 5 kms from the Aurangabad city, the burial place of Aurangzeb wife, Rabia-Durrani. It is an imitation of the Taj Mahal at Agra; it is also called as “poor man’s Taj Mahal” owing to it being a poor replica of the Taj. Behind the tomb is located a small archeological museum.

The comparison with the Agra monument has unfortunately somewhat degraded the Aurangabad tomb which in itself displays a worthwhile architectural design, with much distinguished surface ornamentation in the late Mughal style.

The tomb dates from 1678 and it was erected by Prince Azam Shah, one of Aurangzeb’s sons, in memory of Begum Rabia Durani, his mother. It stands in the middle of a spacious and formally planned garden, some 457 by 274 meters, with axial ponds, fountains, and water channels, many defined by stone screens and lined with broad pathways. The garden is enclosed by high crenellated walls with fortress set at intervals, and open pavilions on three sides.

Read More

औरंगाबाद में दूसरा दिन

By

औरंगाबाद में बिताये पहले दिन का यात्रा-संस्मरण आप इस कड़ी के पहले भाग में पढ़ चुके हैं. एल्लोरा की विश्वप्रसिद्ध गुफाएँ तथा कई अन्य पर्यटन स्थल हम देख चुके थे. अब दूसरे दिन की यात्रा “अजंता की गुफ़ाओं” को समर्पित थी. औरंगाबाद शहर से अजंता की गुफाएँ लगभग १०० किलोमीटर दूर हैं. यदि गाड़ी संतुलित और उसका ड्राईवर कुशल हो, यह दूरी लगभग २ घंटे में पूरी की जा सकती है. चूँकि गुफाएँ प्रातः ९ बजे खुलतीं हैं, इसीलिए औरंगाबाद से हमलोग

Read More

औरंगाबाद में प्रथम दिन

By

औरंगाबाद (महाराष्ट्र) में, अगर आपका सिर्फ दो दिनों का प्रवास हो, तो आप वो दो दिन कैसे बिताएंगे? यदि घुमक्कड़ी पसंद हो, तो आपके लिए मैं अपने अनुभव प्रस्तुत करता हूँ. उस समय मार्च-अप्रैल का महीना चल रहा था. गर्मी के महीने अभी पूरी तरह शुरू भी नहीं हुए होंगे कि औरंगाबाद में गर्मी बढ चली थी.  टोपी और सन-स्क्रीन फायदेमंद थे. लगता है कि यहाँ बरसात के मौसम में आना चाहिए. शायद बरसात में गीले और हरे हो चुके वनस्पतियों के बीच यह शहर और यहाँ की वादियाँ और भी सुन्दर लगतीं. यात्रा-मार्ग की दिशा व दूरी और गंतव्य पर पहुचने की सुविधा के ख्याल से प्रथम दिवस को हमलोगों ने “ग्रिश्नेश्वरमंदिर – एल्लोरा गुफा”, “भद्र मारुती मंदिर – औरंगजेब का मक़बरा” तथा “पनचक्की – बीबी का मकबरा” देखने का निश्चय किया. आप चाहें तो इसी यात्रा मार्ग पर “दौलताबाद का किला” भी जा सकते हैं.

Read More

Maharashtra Jyotirlings – Aundha Nagnath, Baijnath and Grhrineshwar

By

धर्मशाला में रूम का पता किया तो कोई 700 कोई 500 मांग रहा था, हालांकि वहां मन्दिर ट्रस्ट का धर्मशाला भी है वो मन्दिर के पीछे की और है और किसी पण्डित ने बताया की वहां सिर्फ 100 रुपए ही रुकने का किराया है, उन्ही पण्डित जी से हमने अभिषेक करवाने के लिए बात की तो वो भी हमारे साथ हो लिए की चलिए पहले आपको रूम की व्यवस्था करवाता हूँ फिर आराम से अभिषेक और पूजा के लिए चलना क्योंकि सोमवार होने की वजह से बाबा का पूजा अभिषेक 7 बजे तक करने की इजाजत मन्दिर प्रबन्धन देता है,

Read More