खजुराहो, रानेह फ़ॉल्स और पांडव फ़ॉल्स – मानव निर्मित चमत्कार और प्राकृतिक चमत्कार का अनूठा संगम भाग – 2

By

भाग एक दूसरा दिन अगले दिन नाश्ते के बाद चेक आउट कर के करीब 10:30 बजे हम लोग निकले। रानेह फ़ॉल्स के लिए। रानेह…

Read More

खजुराहो, रानेह फ़ॉल्स और पांडव फ़ॉल्स – मानव निर्मित चमत्कार और प्राकृतिक चमत्कार का अनूठा संगम भाग – 1

By

खजुराहो | बचपन से इतिहास की पुस्तकों मे पढ़ा था । एक ऐसा स्थान जहाँ मूर्तिकला के बेजोड़ नमूने एकत्रित हैं । पढ़ कर…

Read More

Trip to Haridwar By Car from Delhi

By

There are many small but good restaurants are there. We decided one Punjabi Restaurant in front of Jai Gurudev Ashram and enjoyed our meal there. In the evening we went towards local temple and visit Chandi Devi Mandir. We hire Auto which is famous with the name Vikram, as the Auto is from Vikram company. We have to change the second auto from the main raod intersection towards Chandi Devi. Their we have to pay the entrance fee and Cable Car fee. We rach at the Mandir premises from where we have to stand in the line to board the cable car as the Mandir is situated at the top of hill. It was a breath stiopping moment at the top of hill. Akmost the whole Haridwar city and river ganga basin is visible from there. We participated in the evening puja there and fed some chanas to monkey. Here monkeys are very naughty, they snatch the eatable items from the visitors.

After darshan we returned back to Har Ki Pauri and attended Evening Pooja there. Har ki Pauri was very crowded and it was very risky with kids to go near the ghats. So we decided to view the prayer from the foot over bridge and after prayer plan to visit the Ganga river from the close. Evening prayer and the environment were very devotional. Many persons on the foot over bridge start chanting Gangaji Aarti. After end of the prayer much priest start moving towards crowd with Aarti Jyot and every one get a chance to take the arti darshan from the close.

Read More
?????? ????? ????? ?? ??????? ?????? ???? !

अमृतसर में अटारी – वाघा बार्डर

By

हम जब शाम को पांच बजे स्वर्ण जयंती द्वार पर पहुंचे तो सारी बैंच पूरी तरह से ठसाठस भरी हुई थीं।  जब मैने द्वार पर खड़े बी.एस.एफ. के अधिकारी को प्रेस पास दिखाया और कहा कि मुझे आगे जाने दें तो उन्होंने वी.आई.पी. लाउंज के लिये प्रवेश द्वार 3 की ओर इंगित किया और कहा कि आप वहां कोशिश करें।  मैं उधर भागा पर वहां कोई सुनवाई नहीं हुई !  वहां विदेशियों और कुछ वी.आई.पी. महिलाओं, युवतियों और बच्चों को जाने दिया जा रहा था।  अतः फिर वापिस भागा और स्वर्ण जयंती द्वार की सीढ़ियां चढ़ कर वहां पहुंचा जहां पहले ही मानों पूरा हिन्दुस्तान आकर सीटों पर जमा हुआ था।  अपने कैमरे के लिये मुझे जो सर्वश्रेष्ठ स्थान उपलब्ध हो सका वहां जाकर मैं खड़ा होगया।  बड़ा ही मजेदार दृश्य सामने था।  स्वर्ण जयंती द्वार से लेकर पाकिस्तान वाले द्वार तक तिरंगा झंडा हाथ में लेकर भागते हुए जाने और वापिस आने के लिये महिलाओं की लाइन लगी हुई थी।  उनको बी.एस.एफ. के इस अभियान के संयोजक एक अधिकारी तिरंगे झंडे देते थे और भागने का इशारा करते थे।  युवा, प्रौढ़ और यहां तक कि वृद्ध महिलाएं भी बड़े उत्साह से तिरंगा हाथ में लेकर पाकिस्तान की सीमा तक भागती हुई जाती थीं और फिर वापस आती थीं।  हज़ारों की संख्या में दर्शक गण भारत माता की जय, वंदे मातरम्‌,  हर-हर, बम-बम नारे लगा कर उनका उत्साह-वर्धन कर रहे थे।  दर्शकों के उत्साह का आलम कुछ ऐसा था मानों वह वृद्ध महिला नहीं बल्कि पाकिस्तान के बैट्समैन को आउट करने के लिये भारतीय क्रिकेट टीम का बॉलर दौड़ रहा हो। पन्द्रह मिनट तक यह कार्यक्रम चलता रहा फिर महिलाएं, युवतियां और स्कूली बच्चे डांस करने के लिये अपनी अपनी सीट छोड़ कर सड़क पर उतर आये।  पन्द्रह मिनट तक धुआंधार कमर मटकाई गईं और जनता गला फाड़ – फाड़ कर अपने उत्साह का प्रदर्शन करती रही।  सबसे मजेदार बात ये थी कि पाकिस्तान वाले गेट के उस पार भी एक स्टेडियम नज़र आ रहा था जहां तीस-चालीस दर्शक बैठे हुए दिखाई दे रहे थे।  इस ओर हज़ारों दर्शकों का अदम्य उत्साह, नारेबाजी और कान के पर्दे फाड़ देने लायक शोर और उधर केवल मात्र तीस – चालीस दर्शक! अब अगर ऐसे में पाकिस्तानी हुक्मरान डिप्रेशन का शिकार न हों तो क्या हों? मुझे तो लग रहा था कि पाकिस्तान वाली साइड में बैठे दर्शकों का भी मन कर रहा होगा कि हिन्दुस्तान वाला कार्यक्रम देखें पर अनुमति न होने के कारण मन मसोस कर रह जाते होंगे।

Read More

Motorcycle Diaries. Road to Munsiyari…Ride to Binsar

By

Well, I must share that I have travelled on some very lonely stretches; this was proved to be the scariest of all. Completely dark it was, we brothers rode our bikes non-stop in the only source of lights – the bikes’ headlights! This was a typical forest track, and rains made it all the more difficult to negotiate the ride. We stopped several times to check the signal of the phone – no respite. What made us ride ahead in this pitch dark jungle located upon the mounts in the dead of rainy night was the my belief/experience – people in hills don’t lie! After all, the guard had said that the forest track would end in 13kms and route to Dhaulchhina would emerge!

Bang on right he was! Just as my bike’s meter clocked 13kms, we came out to a neat tarmac. By now, we were completely drenched and shivering. And it didn’t help that there weren’t any signage that could guide us to either left or right. Fortunately, mobile phone’s signals were back and we called the Camp to locate the address.

30minutes later, amidst heavy rains, we arrived at Dhaulchhina, a hamlet where Binsar Eco Camp was located above a hillock.

Read More

Lucknow Lights

By

Two centuries ago when the Nawabs were driving around in their horse drawn buggies they would give way of right to the horse drawn buggy of the fellow Nawab, both on their way to Hazratganj for shopping. This was perfectly normal in the true spirit of Pehle Aap (after you) culture of Lucknow. After all, that was the era of leisure, languidness and laid back, aptly depicted in Satyajit Ray’s ‘Shatranj ke Khiladi’.

Times have definitely changed now. Goons – elected or otherwise – sitting in their Endeavours, with number plates emblazoned with their self-christened designations, pressure horns on full blast, bulldoze their way through the crowded streets. Of course the number plates do not carry registration numbers and the horn has to sound the loudest. Few moments caught in this decibelly deafening din will bring in the worst headache and probably convulsions. Guantanamo Bay authorities could play this cacophonic recording and the Al-Qaeda inmates would start singing like canaries instead of paying royalties to music companies for playing their metal rock.

You are startled and jump off the street when you hear a truck horn, only to see a motorcycle whizz past you. In Punjab, your vehicle needs to be shod with the flashiest alloys. In Lucknow, people get turned on by going sadistic on your ears. It is auditory mayhem on the roads.

Read More
From the Editor – The Perfect Accommodation

From the Editor – The Perfect Accommodation

By

At any given point in time, there are always at least a dozen options available to us and at least a hundred ways to evaluate an option. Making a choice isn’t easy in most of the scenarios. So when a traveler needs to plan a trip, the dilemmas are no less complex. One of the most risky things to plan is to find a suitable place to stay. The choice of the place can decide the success and failure of your trip. So it isn’t surprising that we often take days to decide upon a place.

Read More

धनोल्टी , सहस्त्रधारा ,ऋषिकेश और फिर हरिद्वार

By

रात की नीरवता मे गंगा की लहरो की तट की पैकडियो से टकराने की आवाज आ रही थी. इसी बीच मेरी श्रीमती जी ढुढती हुई आ गयी. आते ही बोली यहाँ कहाँ लेटे हो, मै बोला क्या करू यहाँ पर ठंडक है इसलिये इन सबके साथ यहीं लेट गया हूँ पर नींद तो आ नही रही है. बोली चलो बस मे ही आरम करना. यहाँ के ठंडे फर्श पर लेटे रहे तो कमर अकड जायगी. अब मुझे लगा, इससे तो अच्छा वापस दिल्ली चलते हैं, यहाँ परेशन होने से क्या फायदा. इतनी रात मे भी कई लोग गंगा नहा रहे थे. मैने गंगा का जल अपने उपर छिड़का और बस मे पहुंचकर जब सबसे वापस दिल्ली चलने के लिये कहा तो कुछ लोग बोले जब इतना परेशान हो ही चुके हैं तो अब कल गंगा नहाकर ही चलेंगे. मैने कहा ठीक है जैसी तुम सबकी मर्जी. बस मे बैठे हुए पता नही कब नींद लग गयी. दिन निकल आने के बाद ही नींद खुली.

अब सभी हर की पोड़ी पर चल दिये. तभी हमारे साथ के मनोज जी हर की पोड़ी के सामने बने धर्मशाला मे दो कमरे तय कर आये. बोले 500-500 रुपये मे मिल रहे हैं लेना है. मैने कहा ले लो भई थोड़ी देर के लिये ही सही बरसात के करण गंगा का पानी मटमैला था कुछ लोग नखरे करने लगे. पर बाकी सभी ने तो गंगा मे ढंग से स्नान किया. . नहा कर तैयार होने मे ही सभी को दस बज गये. अब भी कुछ एक तैयार नही हुए थे, मैने कहा मै तो नाश्ता कर के बस मे बैठने जा रहा हूँ तुम सब लोग भी जल्दी से आ जाओ. जब इतने सारे लोग होते हैं तब सारे अपनी- अपनी मर्जी चलाते हैं. करीब 12 बजे बस मे पहुंचे. अब वापस दिल्ली लौटना था.

Read More

Top 10 winter destinations – October 12 Newsletter

By

A biker is often engulfed by an insatiable thirst for exploration. Different terrains gives these bikers a high and they cannot be stopped until they decide to!
Our biker Rishi Raj has a set of entertaining and adventurous stories in his motorcycle diaries. Here is a snippet from once such tale:

“….I am sparing the readers with details on what I saw at and around Rohtang – surprisingly, I didn’t find this Pass any tougher than Bara-lacha la. If it were not for slush and traffic, it would’ve been a smooth sail. However, I must say, riding amidst the clouds atop the Pass was some experience I would never forget…

Motorcycle Diaries. Road to Ladakh…Riding Back Home…

Read More

Ladakh: Nature’s Eloquent SIlence

By

A trip to Ladakh leaves many a visitors breathless and not just because of its high altitude location. In an ephemeral moment of truce, when the cool breeze lets you rejuvenate your thoughts long lost to the battles of daily routine, a perchance to dream, a sense of being afloat on wings of imagination and suddenly you realize you need to breathe too. It’s just like in songs, ‘a flight of fancy on the windswept fields’ when you are standing alone and your senses reel. The attraction in Ladakh can be fatal especially when emotions are involved. When you are in Ladakh all you wish for is to capture its reality and here in the overwhelming vastness even reality turns out to be abstract.

Read More

हरमंदिर साहब, अकाल तख्त और जलियांवाला बाग दर्शन

By

घंटाघर के प्रवेश द्वार से पुनः अंदर कदम रखा तो सिक्ख संग्रहालय नज़र आया।  सोचा कि चलो, इसे भी देख लिया जाये।  हॉल में प्रवेश करते ही दाईं ओर ऊपर जाने के लिये सीढ़ियां थीं ।  ऊपर पहुंचा तो लिखा मिला, “फोटो खींचना मना है जी।“ पहले तो बड़े ध्यान से एक – एक चित्र को देखना और उसके नीचे दिये गये विवरण को पढ़ना शुरु किया पर फिर लगा कि इतने शहीदों का वर्णन पढ़ते-पढ़ते मैं भी जल्दी ही शहीदों की लिस्ट में अपना नाम लिखवा लूंगा।  हे भगवान !  इतने शहीद यहां और इनके अलावा उन्नीस सौ के करीब जलियांवाला बाग में!  अब मुझे इस बात का कोई आश्चर्य नहीं हो रहा था कि अमृतसर में हर सड़क का नाम किसी न किसी शहीद के नाम पर ही क्यों है?

शहीदों के चित्र देखते देखते अंतिम कक्ष में पहुंचा तो देखा कि नवीनतम शहीदों की पंक्ति में बेअंत सिंह और सतवंत सिंह के भी बड़े – बड़े तैल चित्र लगे हुए हैं। पहचाने आप?  बेअंत सिंह और सतवंत सिंह वे दोनों अंगरक्षक थे जिन्होंने अंगरक्षक के रूप में प्रधानमंत्री की सुरक्षा की जिम्मेदारी अपने सिर पर लेकर भी निहत्थी प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या की थी।  मन में सहसा विद्रोह की भावना ने सर उठाया।  फिर देखा कि एक तैल चित्र और लगा हुआ है जिसमें गोलों – बारूद की मार से क्षत-विक्षत लगभग खंडहर अवस्था में अकाल तख्त का चित्र था।  अकाल तख्त की यह दर्दनाक स्थिति आपरेशन ब्लू स्टार के समय आतंकवादियों को अकाल तख्त से बाहर निकलने के लिये विवश करने के दौरान हुई थी।  एक आम भारतीय की तरह मेरा भी मानना है कि अकाल तख्त की ऐसी कष्टकर, वेदनाजनक स्थिति के लिये यदि भारतीय सेना को दोषी माना जाता है तो वे लोग भी कम से कम उतने ही दोषी अवश्य हैं जिन्होंने भिंडरवाले को अकाल तख्त में छिप कर बैठने और वहां से भारतीय सेना पर वार करने की अनुमति प्रदान की थी।  अकाल तख्त की पवित्रता तो उसी क्षण भंग हो गई थी जब उसमें हथियार, गोले और बारूद लेकर भिंडरवाले और उसके अन्य साथियों ने प्रवेश किया और इस बेपनाह खूबसूरत और पवित्र भवन को शिखंडी की तरह इस्तेमाल किया।  वैसे जो लोग राजनीति की गहराइयों से परिचित हैं उनका कहना है कि भिंडरवाले भी तो कांग्रेस का ही तैयार किया हुआ भस्मासुर था जिसे कांग्रेस ने अकाली दल की काट करने के लिये संत के रूप में सजाया था।  अस्तु !

Read More

Kinnaur-The land of apples (Part 2)

By

After about two and a half hours we reached Reckong Peo,or Peo, as it is popularly known. Peo is situated at an altitude of around 2200 metres above sea level and is at the base of the Kinner Kailash massif. From here, Kalpa was a short 20 minute drive and by lunch time we reached Kalpa. Our plan was to halt at the PWD rest house, which turned out to be a cottage with an excellent view of the mountains. Staying in Kalpa can be compared to living in the lap of nature. Overlooking the Kinner Kailash range, this is one of the most picturesque  hill stations one can ever visit. This quaint town was once the headquarters of Kinnaur district before it was replaced  by Reckong Peo. The collector’s office has now been taken over by the HP Irrigation Department while the old SP office is now a small police outpost. The old building of the District Hospital is visible behind the new building of a recently constructed Primary Health Centre.  From Kalpa, one can spot the famous Shiva Linga, nestled in the middle of the Kinner Kailash massif. It is a 2 day trek from Kalpa for the strong and sturdy.

Read More

Qutub Shahi Tombs-An Empire Rests Here

By

The Qutub Shahi tombs have a unique place in the history of Deccan and India as buried here are the rulers of Deccan from 1518, till Aurangzeb captured the Golconda fort by deceit and took the last emperor prisoner and shifted him to Daulatabad. So except for the seventh king Tana Shah (Abdul Hasan Qutub Shah), the previous 6 rulers and other members of the royal family are resting here. F

Read More