amritsar

हम चले अमृतसर की सैर को

By

प्रोग्राम  अमृतसर जाने का तय हुआ, आरक्षण  कराया गया.४ नवम्बर की रात का स्वर्णमंदिर एक्सप्रेस (फ्रोंटिएर मेल) का जाने का तय हुआ, वापसी ६ नवम्बर को छत्तीसगढ़ एक्स्प. से थी. रेलवे स्टेशन पर जल्दी पहुँच कर, वंहा पर बैठ कर चाय वाय पीने का आनंद ही कुछ और होता हैं.

Read More

A trip to Amritsar

By

We crossed the short stretch of paved no-man’s land, dividing 140 million Pakistanis from more than one billion Indians . We enjoyed every bit and tried to capture our emotions: – A proud Indian. Citizens of both the countries were just walking in and crossing the borders (of course after thorough security check). It had an amazing experience for us, though we missed the main ceremony. But never mind what we had experienced few minutes back was just beyond our dreams as we saw something which otherwise was not possible for us a common man/visitors. That day we felt, power gives priority. After greeting and giving vote of thanks to our Major Saab, we headed back towards the Golden Temple .

A very busy and rush Sunday, we saw a big queue for entry to main Hari Mandir Sahib Ji. Our other accompanied denied to stand in a queue and ready to back, because it would take more time. But we said we came here and without bow down our head, we will not back. So, we stand in a queue. A Sardar Ji came and advised us that Deepti, my wife and child can seat there until I reached near the entrance of the Sahib ji.

Read More
?????? ????? ????? ?? ??????? ?????? ???? !

अमृतसर में अटारी – वाघा बार्डर

By

हम जब शाम को पांच बजे स्वर्ण जयंती द्वार पर पहुंचे तो सारी बैंच पूरी तरह से ठसाठस भरी हुई थीं।  जब मैने द्वार पर खड़े बी.एस.एफ. के अधिकारी को प्रेस पास दिखाया और कहा कि मुझे आगे जाने दें तो उन्होंने वी.आई.पी. लाउंज के लिये प्रवेश द्वार 3 की ओर इंगित किया और कहा कि आप वहां कोशिश करें।  मैं उधर भागा पर वहां कोई सुनवाई नहीं हुई !  वहां विदेशियों और कुछ वी.आई.पी. महिलाओं, युवतियों और बच्चों को जाने दिया जा रहा था।  अतः फिर वापिस भागा और स्वर्ण जयंती द्वार की सीढ़ियां चढ़ कर वहां पहुंचा जहां पहले ही मानों पूरा हिन्दुस्तान आकर सीटों पर जमा हुआ था।  अपने कैमरे के लिये मुझे जो सर्वश्रेष्ठ स्थान उपलब्ध हो सका वहां जाकर मैं खड़ा होगया।  बड़ा ही मजेदार दृश्य सामने था।  स्वर्ण जयंती द्वार से लेकर पाकिस्तान वाले द्वार तक तिरंगा झंडा हाथ में लेकर भागते हुए जाने और वापिस आने के लिये महिलाओं की लाइन लगी हुई थी।  उनको बी.एस.एफ. के इस अभियान के संयोजक एक अधिकारी तिरंगे झंडे देते थे और भागने का इशारा करते थे।  युवा, प्रौढ़ और यहां तक कि वृद्ध महिलाएं भी बड़े उत्साह से तिरंगा हाथ में लेकर पाकिस्तान की सीमा तक भागती हुई जाती थीं और फिर वापस आती थीं।  हज़ारों की संख्या में दर्शक गण भारत माता की जय, वंदे मातरम्‌,  हर-हर, बम-बम नारे लगा कर उनका उत्साह-वर्धन कर रहे थे।  दर्शकों के उत्साह का आलम कुछ ऐसा था मानों वह वृद्ध महिला नहीं बल्कि पाकिस्तान के बैट्समैन को आउट करने के लिये भारतीय क्रिकेट टीम का बॉलर दौड़ रहा हो। पन्द्रह मिनट तक यह कार्यक्रम चलता रहा फिर महिलाएं, युवतियां और स्कूली बच्चे डांस करने के लिये अपनी अपनी सीट छोड़ कर सड़क पर उतर आये।  पन्द्रह मिनट तक धुआंधार कमर मटकाई गईं और जनता गला फाड़ – फाड़ कर अपने उत्साह का प्रदर्शन करती रही।  सबसे मजेदार बात ये थी कि पाकिस्तान वाले गेट के उस पार भी एक स्टेडियम नज़र आ रहा था जहां तीस-चालीस दर्शक बैठे हुए दिखाई दे रहे थे।  इस ओर हज़ारों दर्शकों का अदम्य उत्साह, नारेबाजी और कान के पर्दे फाड़ देने लायक शोर और उधर केवल मात्र तीस – चालीस दर्शक! अब अगर ऐसे में पाकिस्तानी हुक्मरान डिप्रेशन का शिकार न हों तो क्या हों? मुझे तो लग रहा था कि पाकिस्तान वाली साइड में बैठे दर्शकों का भी मन कर रहा होगा कि हिन्दुस्तान वाला कार्यक्रम देखें पर अनुमति न होने के कारण मन मसोस कर रह जाते होंगे।

Read More

A visit to Jallianwala Bagh, Golden Temple & Wagha Border

By

Today India is a vibrant Nation. However, we tend to take many things for granted. In our normal day to day, routine life we hardly remember them who sacrificed their life to free our motherland. On our 66th years of Independence, let’s make a resolution to make India beautiful and fight against terrorism, anti-social elements, corruptions…each one of us can make a difference.

Read More

Balle Balle To Amritsar!

By

We got more proof of people’s devotion when we saw children happily mopping the marble steps as people left or entered the hall. Then there were volunteers who were continuously cleaning candle wax from the marble pavement, even as new visitors kept lighting more candles.

Read More