Joshimath

Joshimath

Joshimath

By

…Travellers love rains and we weren’t very happy that we missed the rains. But a cloud burst is a different thing, and the kind of tent Nandan sends us with wouldn’t survive such winds…Drive after Chamoli is beautiful, the river flows right next to the road, and the expanse gave me an eerie deja-vu, Alaknanda felt like Tons around Tiuni-. It rained a little here…

Read More

गढ़वाल घुमक्कडी: कर्णप्रयाग – विष्णुप्रयाग – बद्रीनाथ

By

चूँकि आज हमे सिर्फ़ बद्रीनाथ ही पहुँचना था (जो की यहाँ से मात्र 125 किमी ही है), इसलिए हम संगम पर काफ़ी देर बैठे मस्ती करते रहे. संगम का आनंद लेकर और दोनो नदियों के जल से विशुद्धि व उर्जा पाकर हम लोग आगे की यात्रा पर निकलने को तैय्यार थे. ढाबे पर नाश्ता करने के बाद, हम लोग सीधे बद्रीनाथ की बस लेने आ पहुँचे. थोड़ी देर इंतेज़ार के बाद, एकाध बसें आई पर सब खचाखच भारी हुई, पाँव रखने तक की जगह नही थी, यात्रा सीज़न मे ये एक आम नज़ारा है.

Read More

Trip to Auli-Joshimath-Badrinath-Mana

By

We hired a car to drop us to the ‘MANA VILLAGE’, 3 kms from badrinath then it was a walking distance of 1km to reach for ‘Vyas gufa’ where it is believed that ‘Vyas ji’ wrote ‘Mahabharata’. Walking more, made us reach a hill in the shape of a book, VYAS POTHI where ved vyas ji worked on the 17 ‘adhyaya’ and finding himself not so satisfied, created the 18th one there walking more, took us to the ‘Bheempul’ where Bheem kept a large stone on the ‘Saraswati nadi’ to help Draupadi cross the river. Saraswati river is really scary the sound of the flowing water was a roar with the help of some snacks, chilled water, our stomachs were not starving.

Read More

The Road To Valley of Flowers

By

No human soul lives around the valley though it is not soulless completely! The valley remained unknown to the world until 1931, when arrived there like Alice in Wonderland, six British Mountaineers, who lost their way while returning from a successful expedition to Mt Kamet. Numerous wild flowers cover the Valley in monsoon and create a magical sight of a wonderland. Frank S. Smythe, one of the six British mountaineers, while mentioning about the Valley wrote, “it was impossible to take a step without crushing a flower”. They named it the Valley of Flower and thereafter the valley has become a popular place for summer expedition.

Read More

गढ़वाल घुमक्कड़ी: तपोवन – रुद्रप्रयाग – दिल्ली

By

रास्ते में हम लोग लोग थोड़ी देर रुद्रप्रयाग में रुके और फिर चल दिए श्रीनगर की ओर. श्रीनगर पहुँचते पहुँचते हमें काफी देर हो चुकी थी और आज रात इससे आगे जाने का कोई साधन नहीं दिख रहा था. कोई जीप या बस मिलने की तो संभावना बिलकुल भी नहीं थी क्योंकि यहाँ हिमाचल की तरह रात को बसें नहीं चलती. ऐसे में हमारे चालक साब ने हमें रात श्रीनगर में ही बिताने का सुझाव दिया और हमें रात गुजारने का एक ठिकाना भी दिखाया. हमने ठिकाना तो देख लिया पर अब किसी का भी यहाँ रुकने का मन नहीं था और सब जल्द से जल्द घर पहुँचना चाहते थे. उत्तरांचल में वैसे तो रात को कोई वाहन नहीं चलते पर सब्ज़ी फल आदि रसद पहुँचाने वाले ट्रकों की आवाजाही रात भर चालू रहती है, सोचा क्यों ना इसे ही आजमाया जाए. आज शायद किस्मत हम पर मेहरबान थी, थोडा पूछ्तात करने पर ही हमें एक ट्रक मिल गया जो हरिद्वार तक जा रहा था. ट्रक चलने में अभी लगभग आधा घंटा बाकी था और सुबह सिर्फ आश्रम में ही भोजन किया था इसलिए एक ढाबे पर जाकर थोड़ी पेट पूजा की गई.

ट्रक पर वापस लौटे तो देखा की चालक के साथ वाली सीट पर पहले ही दो लोग बैठे हुए थे. ऐसे में वहाँ हम तीनों का एक साथ बैठना संभव और सुरक्षित नहीं था. इसलिए दोनों की बुरी हालत देखकर मैं ट्रक के पीछे चला गया जहाँ कुछ अन्य लोग पहले से ही लेटे थे. इस ट्रक के ऊपर एक बरसातीनुमा दरी थी जो शायद सब्जियों को धूल और बारिश से बचाने के लिए डाली गयी थी और नीचे खाली प्लास्टिक के डब्बे रखे हुए थे जिनमे सब्जियाँ रखी जाती हैं. इन्ही हिलते डुलते प्लास्टिक के डब्बों के ऊपर हम सभी मुसाफ़िर लेटे हुए थे. ट्रक चलने पर कुछ समय तो बड़ा मजा आया पर जैसे जैसे रात गहराती गयी और नींद आने लगी तो इन हिलते हुए डब्बों पर सोना बड़ा दुखदायी लग रहा था क्योंकि एक तो ये डब्बे आपस में टकराकर हिल रहे थे और टेढ़े मेढ़े होने की वजह से चुभ भी रहे थे. खैर मेरे लिए तो ये सब रोमांच था, लेकिन रोमांच धीरे धीरे बढ़ने लगा जब इन्द्रदेव अर्धरात्रि में जागे और हम पर जमकर मेहरबान हुए. तिरछी पड़ती हुई मोटी मोटी बारिश की बूँदे हमारे ऊपर एक शॉवर की तरह पड़ रही थी जो एक मंद मंद शीतल रात को एक बर्फ़ीली सी महसूस होने वाली रात में बदलने के लिए काफी थी. ऐसे में ऊपर रखी हुई दरी ने ठण्ड से तो नहीं पर भीगने से तो बचा ही लिया. ठण्ड में किटकिटाते हुए, बिना सोये जैसे तैसे करीब चार बजे के आस पास ट्रक चालक ने हमें हरिद्वार में एक सुनसान मोड़ पर उतार दिया. जितना दर्द मेरे शरीर में उस ट्रक में सवारी करते हुए हुआ उतना पूरी यात्रा कहीं नहीं हुआ, शरीर इतना अकड़ गया था कि ट्रक से बाहर निकलने के लिए भी हिम्मत जुटानी पड़ रही थी. ठण्ड के मारे बुरा हाल था, सुनसान गलियों से होकर गुजरते हुए हम लोग बस स्टेशन की ओर बढ़ने लगे. ऐसे में रास्ते में एक चाय का ठेला देखकर चेहरे पर कुछ ख़ुशी आयी, भाईसाब के हाथ की गर्मागरम चाय और बंद खाकर शरीर में कुछ ऊर्जा आई. फिर तो बस जल्दी जल्दी कदम बढ़ाते हुए हरिद्वार बस स्टेशन पहुँचकर, दिल्ली की बस पकड़ी तो लगभग दस या ग्यारह बजे तक दिल्ली पहुँच कर ही राहत की साँस ली. यात्रा समाप्त!

Read More

गढ़वाल घुमक्कड़ी: भविष्य बद्री

By

देवभूमि गढ़वाल के कुछ छिपे हुए रत्नों को तलाशती तीन दोस्तों की कभी ना भुला पाने वाली रोमांचक घुमक्कड़ी की दास्तान…जिसमे हमने कुछ बेहतरीन नज़ारे देखे, कुछ अनोखे और सोच बदलने वाले अनुभवों से गुजरे, कुछ खुबसूरत दोस्तों से मिले, कुछ बेहतरीन ठिकानों पर रात गुजारी और बहुत कुछ सीखने को मिला…

Read More

गढ़वाल घुमक्कड़ी: जोशीमठ – तपोवन – बाबा आश्रम

By

पैदल घूमते घामते प्रकृति को निहारते हुए सलधार पहुँचे और सबसे पहले वसुधारा की पद यात्रा से सबक लेकर एक दुकान पर रुककर आगे की यात्रा के लिए कुछ चने और मीठी गोलियाँ रख ली. सलधार से भविष्य बद्री तक का रास्ता ज़्यादातर जगह जंगल के बीच से गुज़रते हुए जाता था जहाँ कई जगह राह मे दो रास्ते सामने आ जाते थे जो हमारी दुविधा का कारण बन बैठते. ऐसे मे कई बार या तो स्थानीय लोगो की मदद से और कई बार बस किस्मत के भरोसे ‘अककड़ बक्कड़’ करके हम लोग जैसे तैसे सुभाईं नामक गाँव तक पहुँचे जहाँ से भविष्य बद्री की दूरी लगभग 1 ½ किमी ही रह जाती है.

Read More

गढ़वाल घुमक्कडी: बद्रीनाथ – माणा – वसुधारा – जोशिमठ

By

चलो अब चलते हैं मुचुकूंद गुफा, ‘अरे नही यार ये तो बहुत उपर लगता है’ दीपक बोला. ‘अरे नही भाई, पास ही तो है’, मैं बोला. ‘3 किमी तो दूर है भाई, फिर हम लोग वसुधारा नही जा पाएँगे, देख लो’, पुनीत बोला. बात सबको ठीक लगी, हम लोग वसुधारा को नही छोड़ना चाहते थे, गुफ़ाएँ तो सबने देख ही ली थी अब वसुधारा के दर्शन करने को सब बड़े बेकरार थे. इसलिए बिना समय गवाए हम लोग नीचे भीम पुल की ओर बढ़ चले. भीम पुल के पास आकर सबसे पहले एक बड़ी भ्रांति टूटी जो थी ‘सरस्वती के लुप्त हो जाने की’, हमने तो सरस्वती दर्शन से पहले केवल यही सुन रखा था की यह नदी अब विलुप्त हो चुकी है और शायद भूमिगत होकर बहती है.

Read More

Panch Prayag, Joshimath, Auli – All the Way to Badrinath – Part II of II

By

Badrinath might be a famous pilgrim spot, yet it is no less known for its exquisite natural beauty. The unparallel beauty and overpowering tranquillity explain why Gods had chosen this place to build their abode. Badrinath was another 44 kms from Joshimath and is situated at an altitude of 3,133 meters above sea level. The resident deity of Badrinath temple is Lord Vishnu.

Read More

Panch Prayag, Joshimath, Auli – All the Way to Badrinath – Part I of II

By

Next day morning, we got our breakfast packed and headed for Joshimath at around 8 a.m. It was a calculated four-hour drive from Rudraprayag. The hills were getting more and more rugged as we travelled farther and farther and more of stark, stony beauty of the Himalayas unfolded. The next stopover was at Karnaprayag. Karnaprayag is about 174 kms from Rishikesh and about 32 kms from Rudraprayag. It is again the divine meeting point of the geographically important green Pindar River with the religiously important brown and muddy Alakananda River. It is believed that here the mighty Karna had performed his penance and attained his indestructible powers from his father, the Sun God. We stretched our legs and after a brief stint of photography session, we continued heading towards Joshimath via the same NH 58.

Read More
Motorcycle Diaries. Road to Badrinath…

Motorcycle Diaries. Road to Badrinath…

By

Some details on Joshimath. It is a popular hill station and a famous center for pilgrimage at a height of 1,890 meters above sea level in Chamoli district of Garhwal division in Uttarakhand. It is the base for trekking to the famous Valley of Flowers. It is connected with a 4km cable car up to Auli, a hill-station famous for ice skiing sports, making it the longest and highest trolley of Asia. Joshimath is the also the home of the oldest tree of India, Kalpavriksha, which stands here from the time of Adi Guru Shri Shankaracharya, who established this town as one of the four maths or monasteries, in the 8th century.

Read More