Aurangabad

Ancient Aurangabad

By

Historical sites often reflect the richness of a society’s culture. India is blessed with numerous well-preserved historical sites that can transport its visitors through…

Read More

औरंगाबाद में दूसरा दिन

By

औरंगाबाद में बिताये पहले दिन का यात्रा-संस्मरण आप इस कड़ी के पहले भाग में पढ़ चुके हैं. एल्लोरा की विश्वप्रसिद्ध गुफाएँ तथा कई अन्य पर्यटन स्थल हम देख चुके थे. अब दूसरे दिन की यात्रा “अजंता की गुफ़ाओं” को समर्पित थी. औरंगाबाद शहर से अजंता की गुफाएँ लगभग १०० किलोमीटर दूर हैं. यदि गाड़ी संतुलित और उसका ड्राईवर कुशल हो, यह दूरी लगभग २ घंटे में पूरी की जा सकती है. चूँकि गुफाएँ प्रातः ९ बजे खुलतीं हैं, इसीलिए औरंगाबाद से हमलोग

Read More

औरंगाबाद में प्रथम दिन

By

औरंगाबाद (महाराष्ट्र) में, अगर आपका सिर्फ दो दिनों का प्रवास हो, तो आप वो दो दिन कैसे बिताएंगे? यदि घुमक्कड़ी पसंद हो, तो आपके लिए मैं अपने अनुभव प्रस्तुत करता हूँ. उस समय मार्च-अप्रैल का महीना चल रहा था. गर्मी के महीने अभी पूरी तरह शुरू भी नहीं हुए होंगे कि औरंगाबाद में गर्मी बढ चली थी.  टोपी और सन-स्क्रीन फायदेमंद थे. लगता है कि यहाँ बरसात के मौसम में आना चाहिए. शायद बरसात में गीले और हरे हो चुके वनस्पतियों के बीच यह शहर और यहाँ की वादियाँ और भी सुन्दर लगतीं. यात्रा-मार्ग की दिशा व दूरी और गंतव्य पर पहुचने की सुविधा के ख्याल से प्रथम दिवस को हमलोगों ने “ग्रिश्नेश्वरमंदिर – एल्लोरा गुफा”, “भद्र मारुती मंदिर – औरंगजेब का मक़बरा” तथा “पनचक्की – बीबी का मकबरा” देखने का निश्चय किया. आप चाहें तो इसी यात्रा मार्ग पर “दौलताबाद का किला” भी जा सकते हैं.

Read More

औरंगाबाद: अतीत के आईने में

By

हम वहां के अत्यंत शांतिपूर्ण माहौल में पहुंचकर तथा औरंगजेब की कब्र के सामने खड़े होकर स्तब्ध तथा आश्चर्यचकित होकर आँखे फाड़ फाड़ कर देख रहे थे और सोच रहे थे……एक समय हिन्दुस्तान पर राज़  करने वाले बादशाह की कब्र…….इतनी साधारण…….इतनी सादगी लिए……….ऊपर छत भी नही……….हमारी इस जिज्ञासा को शांत किया वहीँ पर खड़े एक मौलाना रूपी गाइड ने.

Read More

Ellora – The essence of Indian rock-cut-architecture

By

The first impression was not bad. Once back in the hotel room by 6:30 p.m. from factory, used to roam around the city, markets and returned to my room after dinner. Aurangabad is a small city with all modern facilities and seems to be economical as well. Roads are good, well maintained and there is no power cut like in the entire State. I spent the first Sunday searching for an accommodation and it was not a difficult task or project like in Delhi & NCR. Room rent was also much lower than what I was paying in Gurgaon for a similar kind of accommodation, if not better. So, that part is ok, but the biggest hurdle came out to be the connectivity with Kolkata, my home.

Read More

The Indomitable Daulatabad Fort, Aurangabad

By

As you enter the fort, you are greeted by this tall minar – Chand Minar. It used to be covered with Persian glazed tiles. Now they have whitewashed it in faded orange colour. You want to strangle the person who ordered this colour. The minar was built by Ahmed Shah II to celebrate the capture of the fort. To approach from the front one has to go through three bastions of fortified walls.

Read More