Gwalior

Experiencing the Heart of India

By

Hey there. I don’t know where to start. India has opened my eyes to a whole new culture I have never before seen. I’ve been born and brought up in Auckland, New Zealand, and often visit my home city Pune. However, this time, my relatives and I decided to visit the heart of Madhya Pradesh to get a historically and culturally rich experience. After having an initial debate on which places to go to, we came to the official conclusion of touring Khajuraho, Orchha and Gwalior.

Read More

ग्वालियर में घुमक्कड़ी- जय विलास पैलेस

By

इन सीढ़ियों से उतर कर हम महल के दूसरे भाग में पहुँचते हैं।  यहाँ पर उस समय सवारी में प्रयुक्त होने वाल तरह -तरह की बग्घी रखी हुई हैं। यहाँ पर उस समय सवारी में प्रयुक्त होने वाल तरह -तरह की बग्घी , डोली आदि रखी हुई हैं।

इसके साथ  ही महल के दूसरे भाग में हम पहुँचते हैं जिसे दरबार हाल के नाम से जाना जाता है।  यहाँ पर राजसी भोजनालय है जहाँ पर एक साथ बहुत सारे लोगो के खाने की व्यवस्था है।  मेहमानों के  साथ यहीं पर खाना खाने का प्रबन्ध है।  दरबार हाल की चकाचौंध उस समय के राज घराने के वैभव और विलासिता की दास्तान कह रहे थे।  इसकी छत में लटके विशालकाय झाड़ – फानूस का वजन लगभग तीन – तीन टन है।  इसकी छत इसका वजन उठा पायेगी या नहीं इसलिए छत के ऊपर दस हाथियो को चढ़ा कर छत की मजबूती की जाँच की गई थी।  दरबार हाल में जाने की सीढ़ियों के किनारे लगी रेलिंग कांच के पायो पर टिकी हुई है।  एक गार्ड यहाँ पर बैठा दर्शको को यही आगाह करवा रहा था कि रेलिंग को न छुए।

Read More

Gwalior- Weekend Gateway to “Hindustan Ka Dil”

By

However, booked one Cab (Tata Indica) for a 7 hr journey, which would take me to the Gwalior Fort(Man Mandir Palace, Sas-Bahu Temple, Gujjari Mahal, Suraj Kind, Teli ka Mandir), Jai Vilas Palace (aka Jiwaji Rao Scindia Museum), Sun temple, Mohd. Ghauz Monument, Tansen Monument, Gwalior Zoo for 700 bucks. It was decided that the cab would be there by 9 am. I had another 1 hr. 30 mins in hand.

Read More

Gwalior – Gopachal- The Glorious

By

Unfortunately ‘Teli ka Mandir’ and ‘Saas-Bahu’ temple, both these majestic temples are ‘monuments’ !
How tranquil it would be to hear the entrance bell ringing melodically, to breath in the combined fragrance of flowers and oil lamps and incense sticks, to see the hustle bustle of devoted feet and folded hands, and to submit to the rhythm of ancient chants echoing from the corridors!

Read More