jabalpur

Hindustan Ka Dil Dekho (M.P. Trip) – Part 3

By

I would suggest taking the upper deck ticket (which is cheaper) instead of lower one, as it gives you a better view with open space. It was approx. one hour ride, which was full of fun and masti, people started dancing on the floor, and kids were enjoying the cruise experience. The view around was extraordinary, and we felt like lost in the sea. Total paisa vasool, one should not miss this in Jabalpur for sure.

Read More

Ancient temples of Jabalpur

By

Observing the steps and the facilities there, an interesting question cropped up in my mind. “Have we become weaker and more complacent that our counterpart who lived and constructed such temples?” Or, in other side of it, “Are we more caring than our counterpart who lived and constructed such temples?”

Read More

An example of determination: Pisanhari ki Marhiya (Jabalpur)

By

The competition gradually became tougher and louder till there was a total din. Amidst the chaos, looking at the prospects of not being able to find a clear-cut winner, the challenge-competition was halted in the middle. In that interlude it was the perfect time for telling the story of an old woman, who lived alone in a hut at Jabalpur about 650 years ago.

Read More
Dhuandhar Fall and Bhedaghat

Dhuandhar Fall and Bhedaghat

By

अमरकंटक से निकलती नर्मदा नदी जब भेड़ाघाट तक आती है तो उसका यौवन अपने उफान पर होता है। हालांकि ना ही ये किसी किस्म के आक्रोश की गर्जन है और ना ही किसी दर्प का प्रर्दशन, लेकिन एक स्वाभाविक आवेग जब क्रीड़ा करने पर उतारु हो तो उसका प्रतिलक्षण शायद इतना ही विहंगम होगा। जी हां धुआंधार प्रपात को भारत के नियाग्रा प्रपात की संज्ञा दी जाती है और इसका अहसास इस जगह पर आकर ही किया जा सकता है। नर्मदा की लहरों का शोर, उस तेज बहाव के चट्टानों पर टकराने से उठती धुंध और उसकी वजह से बनता एक रहस्मयी आवरण, पल भर में ही आपको सम्मोहित कर देगा।

Read More
Vanya Resort in Kanha and Bargi Dam : Jabalpur

Vanya Resort in Kanha and Bargi Dam : Jabalpur

By

Courteous staff and very helpful management were ready to offer any possible help to make my stay more pleasurable.  The rooms were spacious and clean. They have nicely maintained dining area and well equipped kitchen. What I liked specially was their finger-licking food.

Read More

सतपुडा नैरो गेज- दिल्ली से नैनपुर वाया छिंदवाडा

By

अब शुरू होती है नैरो गेज की सवारी। इस सिलसिले में अगर कोई और होता तो वो सीधा जबलपुर जाता। लेकिन इधर ठहरे टेढी खोपडी वाले, छिंदवाडा जा पहुंचे। छिंदवाडा से नैनपुर तक कई गाडियां चलती हैं, सारी की सारी पैसेंजर। मैं साढे बारह बजे चलने वाली गाडी (58853) में जा धरा। यह गाडी शाम को सात बजे नैनपुर पहुंचा देती है। यह इलाका भारत का सबसे व्यस्त और घना नैरो गेज वाला इलाका है। यहां रेल लाइन की शुरूआत 1905 के आसपास हुई थी। यहां सतपुडा की पहाडियों का बोलबाला है। ये पहाडियां इस मार्ग पर सफर को और भी मजेदार बना देती है। आबादी बहुत कम है। हालांकि ट्रेन में भीड बहुत होती है। गाडी की रफ्तार भी कम ही रहती है। लोगों को तेज यातायात उपलब्ध कराने के लिये इस नैरो गेज को उखाडकर ब्रॉड गेज में बदला जायेगा। जबलपुर-बालाघाट खण्ड पर आमान-परिवर्तन का काम शुरू भी हो चुका है।

छिंदवाडा से नैनपुर तक कुल बीस स्टेशन हैं। इनमें छिंदवाडा के बाद सिवनी सबसे बडा स्टेशन है। सिवनी जिला भी है। बीस स्टेशन और उनकी समुद्र तल से ऊंचाई इस प्रकार हैं:

Read More