Delhi to Sitamarhi, Bihar – Through Lord Rama, Lord Krishna and Ma Sita’s Birthplace

दोस्तों नमस्कार !

मेरा नाम मनोज कुमार चौधरी है एवं जनकपुररोड / पुपरी, सीतामढ़ी, बिहार का रहने वाला हूँ. वर्तमान में नई दिल्ली में अपना व्यब्साय है तथा शिव्दुर्गा विहार, फरीदाबाद में निवास स्थान. 3 जून को हमारे घर पर लखराम पूजा का आयोजन था. पिताजी ने पहले से तिथि निर्धारित कर रखी थी. इधर बेटे का नामांकन 11 वीं में करना था और सी बी एस इ 10 वीं का परीक्षाफल देने में विलम्ब कर रहा था. जैसे तैसे 31 मई के साम 7 बजे रिजल्ट आया और हमलोग भाग दौर करके 1 जून को बेटे का नामांकन के पि  एस स्कूल, कालकाजी, दिल्ली में करा लिया. अब गाँव जाना जरुरी था. रेलवे एवं हवाई जहाज में टिकेट उपलब्ध नहीं था. अतः अपने होंडा जाज़ से ही 1 जून 2011 को अप्राहन 1.11 बजे गाँव की ओर प्रस्थान कर दिया.

तो चलिए अब आपको जनक जननी जानकी (सीता) की जन्मस्थली सीतामढ़ी की सैर पर ले चलता हूँ. हमने अपनी यात्रा 1 बज कर 11 मिनट पर सूरजकुंड फरीदाबाद से प्रारंभ की.

2 .15 पलवल, 2 .40 कोसी एवं साम 3 .25 भगवान कृष्ण की जन्मस्थली मथुरा पहुँच गए.
वहां से ताज नगरी आगरा 4 .05 , चूड़ियों का सहर फिरोजाबाद 5 .05 , इटावा 6 .05 , औरैया 6 .50 , सिकंदरा 7 .20 एवं रात्रि 8 .30 औद्योगिक नगरी कानपूर पहुँच गए.

यहाँ मुझसे एक गलती हुयी और हम कानपूर फ्लाईओवर के ऊपर से जाने के वजाय नीचे की सड़क ले ली. चुकी हम सपरिवार यात्रा पर थे अतः रात्रि विश्राम के लिए जगह का चुनाव करना था. सर्व सहमति से फैसला लिया कि हमलोग लखनऊ में रुकेंगे और वहां के भोजन का आनंद लेंगे. फलश्वरूप हम उनाव होते हुए रात्रि 10 .15 लखनऊ पहुँच गए. वहां होटल मोहन पैलेश, चारबाग में रुकने का का फैशला किया. होटल किसी भी दृष्टी से अच्छा नहीं कहा जा सकता है. काफी महंगा होने के बाबजूद सुबिधायें वैसी नहीं थी. नक़ल तो दिल्ली – मुंबई का किया है परन्तु अक्ल का इस्तेमाल बिलकुल भी नहीं है. अगर आप में से किसी को कभी रुकना पड़े तो अपने विवेक से काम लीजियेगा.

लखनऊ तक सड़क ठीक ठाक है. कुछ जगहों को छोड़कर आप 90 से 130 किलो मीटर प्रति घंटा कि रफ़्तार से गाड़ी चला सकतें हैं.

दिनांक 2 जून 2011 को सुबह 9 बजे हमने लखनऊ से आगे की यात्रा प्रारम्भ की.

10.30 में हम फैजाबाद, 10.50 अयोध्या, 11.40 बस्ती एवं 1.20 में गोरखपुर पहुँच गए. गोरखपुर से हाता होते हुए तमकुही बोर्डर (बिहार – उत्तर प्रदेश) 3.10 पहुंचे. गोरखपुर से तमकुही तक सड़क की स्थिति अच्छी नहीं है. जगह-जगह पूलों के निर्माण के वजह से सड़क बाधित है. किसी प्रकार ४.१० साम को हमलोग गोपालगंज पहुँच गए. 6 बजे साम को हम मुज्ज़फ्फरपुर पहुंचे. मुज्ज़फ्फरपुर से सीतामढ़ी के बीच सड़क की स्थिति बिलकुल दयनीय है. कुछ पल के लिए तो लगने लगा कि सायद गाड़ी से आने का हमारा फैसला गलत है. 60 किलोमीटर की दूरी 3 घंटे में पार किया. सीतामढ़ी से पुपरी 26 किलोमीटर है और यह जानकर अपार प्रसन्नता हुयी कि सीतामढ़ी से पुपरी कि सड़क बहुत अच्छी है और अन्तंत 9 .30 हमलोग अपने घर पुपरी / जनकपुर रोड में थे. अगली सुबह पूजा थी और हमलोग सकुशल घर पहुँच चुके थे.

7 जून को साम 3 बजे हमलोग वापसी यात्रा पर थे. इसबार हमने सीतामढ़ी – मुज्ज़फ्फरपुर रास्ता को छोड़कर बसैठ, मब्बी होते हुए मुज्ज़फ्फरपुर पीपराकोठी होते हुए गोपालगंज आये. बाकि वापसी उसी रस्ते से हुआ. इस बार एहसास हुआ कि बिहार की सड़कें भी अच्छी है. हाँ वापसी में हमने रामलला की जन्मस्थली को भी देखने का फैसला किया. तदनुरूप गाड़ी को हमने सरयू नदी कि ओर मोड़ दिया. क्या बढ़िया पानी था. हम सपरिवार जमकर जलक्रीडा का आनंद उठाया. तत्पश्चात हनुमान गढ़ी एवं राम जन्मस्थल में क्रमशः हनुमानजी एवं रामजी की दर्शन के पश्चात दिल्ली को प्रस्थान कर गए.

देखिये कितना सुखद संयोग है कि इसी रास्ते पर भगवान कृष्ण, भगवान राम एवं मां जानकी कि जन्म स्थली भी है. आप चाहें तो इसी बहाने तिर्थाटन भी कर सकतें हैं. साथ में ताज का दर्शन मुफ्त.

New Delhi to Kanpur – NH 2 – via Faridabad, palbal, kosi, Mathura, Agra, Firojabad, Sikohabad
Kanpur to Muzzafarpur – NH 28 via Unnao, Lucknow, Barabanki, Faizabad, Ayodhya, Basti, Gorakhpur, Hata, Tamkuhi Border, Gopalgaj, Piprakothi, Muzzafarpur\
Muzzafarpur to Pupri – SH – via Sitamarhi

10 Comments

  • Anil Misra says:

    Dear Manoj, What is the condition of the Lucknow to Gorakhpur road? What speeds are poissible?

  • Manojkecy says:

    Dear Anil Ji,

    Lucjnow to Ayodya road is very good. You may drive @ 120/130 KM per hours. From Ayodhya to Basti there are diversion but still can very well drive @ 60 to 120. From Basti to Gorakhpur again road is very good.

    Hope above suffices.

    Regards
    Manoj Kumar Choudhary

  • Mukesh Bhalse says:

    Dear Manoj,
    The story would have more interesting if you could add some photographs.

    Thanks.

  • Manojkecy says:

    Dear Mr. Mukesh,

    Thanks for your suggestion. I do admit & endorse your view. Next time will tray to improve.

    Regards

    Manoj

  • Nandan says:

    Welcome aboard Manoj.

    I hope you get many more opportunities to do long drives and share your stories with us.

    How is the road from Muzzafarpur to Gorakhpur via Mabbi.

  • Manojkecy says:

    Dear Nandanji,

    From Darbhanga to Pipra Kothi via Muzffarpur bypass road is extremely high class [one of the best I drive ever]. Pipra Kothi to Gopalganj road is good for 3/4th distance. From Gopalganj to Gorakhpur due to construction of flyover lot of diversion are there & very much painful. Specially if you struck in traffic jam.

    Onward if I get any opportunity for long drive definitely I will share my experience in detail with photograph.

    Regards

    Manoj

  • Pravesh says:

    Excellent description Manoj Ji,

    And I love to see so much long drives.

    Bihar is a really very nice place although not much is written about it.

    Thanks a lot for this nice writeup

  • Manojkecy says:

    Dear Parveshji,

    Yes, even I feel that it could have explained & written in details but this is my first story hence could not do much. In future I will take care.

    If you want to know something additional I will post it to you.

    Regards
    Manoj

  • vinaymusafir says:

    A very inspiring & long drive. Hats off to you.
    You are right, if someone have time then can explore so many sacred places on this route.
    This route can be named ‘hare Krishana hare Rama route’. :)

  • Manojkecy says:

    Dear Mr. Vinay,

    Thanks for your kind words. If I get an opportunity would like to travel entire India by car.

    You may also explore “Hare Rama Hare Krishna” route.

    Regards

    Manoj

Leave a Reply

Your email address will not be published.