मल्लिका नहीं मल्ल्क्का !

Table of contents for Malaysia - Truly Asia Unexplored

  1. मल्लिका नहीं मल्ल्क्का !
  2. मल्ल्क्का – संग्रहालयों का संग्रह
  3. त्रिषा ही त्रिषा |

पहले छुट्टियों का मतलब होता था नाना-नानी या दादा-दादी के घर की तरफ रुख़ करना लेकिन समय के साथ धीरे धीरे यह परिभाषा बदलने लगी और लोग दूसरी जगहों पर भी जाने लगे | और आजकल तो विदेश यात्रा भी बहुत प्रचलित हो गयी है |

और जब घर से निकलने की बात है तो अधिकतर लोग २-३ देशों को एक साथ देखने का प्रोग्राम बनाते हैं | इसके मुख्यतः दो कारण हैं | पैसे और समय की बचत | जो कि एक हद तक जायज़ भी है | समय एवं पूँजी की समस्या न हो तो यूरोप जायें और बिना २-३ देशों का भ्रमण किये लौट आयें, यह हो नहीं सकता | अरे भाई, बार-२ विदेश यात्रा थोड़े ही होती है |

इसी प्रकार जब कभी साउथ-ईस्ट एशिया जाने की बात हो तो मलयेशिया, थाईलैंड, सिंगापुर इत्यादि देश एक साथ देखने को मन ललच उठता है | लेकिन मेरे साथ ऐसा नहीं हुआ | मैं १२ दिनों की यात्रा पर गयी परन्तु केवल मलयेशिया | मेरा उद्दयेश अलग था और रहेगा |

ख़ैर, मलयेशिया देश का ज़िक्र आते ही सबसे पहले जिस शहर का नाम जुबान पर आता है वह है कुआला लम्पुर, मलयेशिया की राजधानी | और ज्यादातर लोग बस इसी शहर को देख कर वापस हो लेते हैं | खासकर यदि पैकेज टूर के सहारे घूमने निकले हों | क्या ज़रूरत है दूसरे छोटे-२ शहरों को देखने की?

यह तो वही बात हुई जैसे विदेशी समझते हैं कि हमारे देश भारत में सिर्फ़ वाराणसी, राजस्थान और केरल ही देखने की जगह हैं | आप ही बताइए क्या यह सच है ? नहीं, बिलकुल नहीं | इसका जीता जागता उदहारण है घुमक्कर !
मुझे तो कभी-२ लगता है कि विदेश जाना छोड़ कर मैं अपने ही देश का भ्रमण करने निकल पडूँ |

ख़ैर बात हो रही थी मलयेशिया की | लेकिन क्या मलयेशिया में सचमुच और कुछ नहीं है देखने लायक ? या फिर वे इतने प्रसिद्द नहीं हैं ?

चलिए, मैं आज आपको एक ऐसी जगह ले चलती हूँ जो UNESCO heritage की सूची में आता है | हाँ हाँ, कुआला लम्पुर भी ले चलूंगी, पहले यहाँ तो घूम आईये |

नाम है मल्ल्क्का | नहीं-नहीं, मल्लिका नहीं मल्ल्क्का |
कुआला लम्पुर से दक्षिण की ओर करीब 144 KMs की दूरी पर बसा यह शहर कुछ अलग है |

p1090889

जब आपको आपकी बस इस शहर के प्रमुख स्थान या main tourist stop पर उतारती है तो चेहरे पर खुद-ब-खुद एक प्यारी सी मुस्कान चली आती है और सब कुछ लाल ही लाल नज़र आता है | :D
जी हाँ, यह शहर है लाल इमारतों का, मनभावक रिक्शों का और संगम है पुर्तगाली, चीनी एवं डच संस्कृतियों का | मैं आज इसका सिर्फ एक पन्ना आपके समक्ष रखूँगी |

क्या आप विश्वास करेंगे यदि मैं कहूँ कि अगर गिनती करें तो मल्ल्क्का में देखने के लिए कुआला लम्पुर से ज़्यादा स्थान हैं ? अब सभी स्थानों के बारे में लिखना या उनके चित्र दिखाना तो संभव नहीं हो पायेगा | पेश है छोटी सी झलक |

p1090897

Booking.com

यह है सन् 1753 में बना मलयेशिया का सबसे पुराना एवं प्रसिद्ध Christ Church.

p1090982

अ फामोसा | अब तो केवल दरवाज़ा भर रह गया है इस यूरोपी किले का |

p1090973

मलयेशिया का वास्तुकला संग्रहालय | पृष्टभूमि में है St Paul पहाड़ी का एक छोटा हिस्सा |

p1100022

यह है बेल टावर | डच वास्तुकला का एक नमूना |

p1090902

और यह देखिये कैसी दिखती है मल्ल्क्का नदी दिन में

p1100019

….. और रात में |

अगर आप इस नदी पर ४५ मिनट का (boat cruise) नाव द्वारा नहीं घूमे तो आपका मल्ल्क्का जाना बेकार है | मैं तो कहूँगी कि लानत है आप पर | नाव सेवा दिन और रात दोनों समय उपलब्द्ध हैं |
इस चित्र के पृष्टभूमि में आप देख सकते हैं ‘Eye of Malacca’ जो मल्ल्क्का ही नहीं बल्कि मलयेशिया का सबसे बड़ा Giant wheel है और जिसके बारे में कहा जाता है कि यह ‘आई ऑफ़ इंग्लैंड’ से भी बड़ा है |

अगली बार हम और बहुत कुछ जानेंगे मल्ल्क्का के बारे में, संग्रहालयों के बारे में और चीनी संस्कृति के बारे में |

  • It would have been nice if the text was in English language, the medium recognized throughout India and abroad. However, hope this will open up contributions to Ghumakkars from other major languages including Bengali, Urdu, Punjabi, Kannada, Tamil, Telugu, Oriya, Bihari and Malayalam.

  • Mahesh Semwal

    Dear Nisha,

    I had been to Malaysia approx. 2 yrs back in a packaged tour, not even heard of Melaka. Other then KL some of the famous places are Genting Highland Langkawai & Penang.

    Thanks for sharing your experiences about the less traveled place in Malaysia.

    You are absolutely right most of the time we all want to cover the famous places, but I also feel that still natural beauty is in interiors (not much traveled places).

  • ashoksharma

    hey,it was a nice narrative,and that too in HINDI,
    ashoksharma

  • ???? ?? ?????? ?? ???? ??????? ?? | ???? ?? ??? ?? ????? ????????? ??? ?? ?????? ???? ??? ??? ??? ?????? | ???? ????? | ???? ???? ?? ?????? ?? ??? ?? ???? ??????? , ???? ??????? ?? ??????? ??? ?? ????? ?????? ??????, ?? ???? ?? ?? ??? ?? ??? ?????? ??? ???? ?? ??? ?????? ?????? ????? |

    ??????? ?? ???? ??? ??? ?? ??????? ???? ??????? ???? ???? ???? ???? ?????? ???, ???? ???? ??? ?????? ?????? | ?? ?? ???? ?????????? ???? ???? ?? ??????? ?? ???? ??? ???? ?? ?? ??,

    and before you start to discount me as someone who is trying hard (than needed) to show-off his Hindi skils, let me switch back to English. :)

    You are so right when you say that people only stick to main places and thats mostly because of the reason that people do not know enough and if not because of these logs, I guess these places would probably never see too many outside visitors. As you said, thats the real ghumakkari spirit.

    Thanks Nisha for the story and I can sense that many more are on the way.

  • @Jerry,
    Believe me, it would have been a lot more easier for me as well to write in English. But this was a conscience decision taken to write in Hindi, at least for this series. I am sorry if you could not understand the post.

    If you wish to read in English about Malaysia, I suggest you to read on my blog here where I have been writing about Malaysia for quite sometime. It has more pictures and more intricate details about the place.

  • @Mahesh,
    Yes, the places you’ve mentioned are just the ones on any packaged tour’s map. They hardly show anything more than that in Malaysia.

    Well, packaged tour has it’s own advantages but I don’t really go for it unless it’s absolutely necessary.

    @Ashoksharma,
    Thank you very much. You’ll see more of it. :)

  • @Nandan,
    ???? ??????? ?? ????? ?? ???? ????, ???? ???????? | ???? ????? ?? ?? ???? ??? ?? ??, ???? ?? ??? ??????? ????? ?? ???? ????? ?? ??? ????? |
    ??????? ?? ??? ?????? ??, ????? ??? ?? ??? ???? ?? |

    ??? ?? ?? ??????? ????-? ???? ???? ????? ?? ?????? ??? ?????? | ???? ????? ??? ???? ???? ???? ??????? ??? ???????? ???? ??? ?? ???? ?????? ?? | ???? ????? ????? ?? ???? ?? ???? ???? ??? ?? ???? |

    Ok, me too back to English. :)

    Many thanks for your encouragement. I wish to write here both in Hindi and English.

    I feel, the famous places are well known and documented and even if we don’t visit them, we can see them all over the places.. TV, newspapers, albums of our dear ones. It’s the lesser known places that are less crowded, less polluted but equally beautiful and vying for our attention.

    Thanks once again.

  • manish khamesra

    ???? ??,

    ???? ??? ???? ????? ?? ?????? ?? ??? ?? ??. ?? ???????? ???? ?????? ??? ???? ??? ???? ????? ???? ??? ???. ?? ??? ???? ?? ????? ???

    ???? ?c? ???? ??? ???? ?? ?? ????? ???? ?? ???? ??? ???? ????? ????. ???? ?? ??? ????? ???? ??? ?? ????? ?????? ??? ??? ??????? ?? ??? ??? ??. ?? ??? ??? ???? ???? ????.

  • Manishji,
    Hausla afzaai ka bahut bahut shukriya.

    Mere khyal se is srinkhla ki agli kadiyoN mein iska zikr hai. Aage se adhik dhyan rakhoongi. :)