Driving holiday

Self-drive in Central Europe/ Alps – III ( Driving on the wrong side)

By

The fuel cost is about INR 100/- per litre which varies slightly depending on the country, location (ones nearer the airport are costlier than others), etc. Most of the petrol stations are self service types – you park the car, fill up the tank and then go to the counter to make the payment.

Now, some other issues about driving. Honking is uncivilised, so it’s best avoided, except in emergencies. Similarly, it is illegal to flash/ beam headlight either frontally or from behind, onto another car. German rule considers flashing of headlight on other vehicle a coercive act. Driving on the right lane, keeping the left ones free for overtaking, is followed as a rule. After overtaking, the car promptly shifts rightwards. Overtaking from the wrong side, irrespective of how many empty lanes are there, is a strict no-no.

Overtaking – there are defined portions on the road, where this act can be performed. For starters, the continuous yellow/ white line dividing a two-way road is not be crossed over randomly.

Read More

Self-drive in Central Europe/ Alps – II (Itinerary & Car rental)

By

The rule says that Schengen Visa should be sought from the country which you visit for the main business. Rule of thumb is, the country where you plan to stay for maximum period of time should be the one to issue you the Schengen. Maximum number of days rule, however, may not hold good in some cases, e.g. if you intent to spend max time in the country which is not of your main business.

In our case, we approached Czech Embassy for the visa, since we were to spend maximum period (about 6 days) there.

Schengen Visa regime has also altered the procedure for entry into EU zone. For instance, since we took a FINNAIR flight, we changed flight at Helsinki. Now, after landing at Helsinki Airport, we shifted into ‘EU Zone’ part of the terminal. So, it was here in Helsinki that we underwent immigration/custom checks. Thereafter, once in EU part, all flights within EU were like domestic flights, despite flying from one country to the next.

Read More

Mahabalipuram – Chennai Weekend Gateway

By

This temple is considered in a UNESCO World Heritage site. It was built in 7th century. It is one of the oldest South Indian temples built in Dravidian style. The complex spreads out over a square platform, and comprises three temples, of which two are east and west facing Shiva temples, and the third a Vishnu shrine in the center. The temple has vast open are at the western side. Rows of Nandi form the perimeter wall for this temple. The Shore temple is the lone survivor out of seven such temples , the rest having fallen to the ravages of sea.

Read More

A Road Trip to Enchanting Mukteshwar

By

With all the theoretical knowledge collected through blogs, we had few recommended names for our stay. We started having a look on hotels. First and the very pleasing one was MT- Mountain Trail. Ambiance/view here was awesome. After discussing about the tariffs we moved on to other hotels. We were more concerned for a captivating view rather than the tariffs. We went ahead to few more lodges along with PWD Guest house. But, we had already lost our hearts to MT. So we called back the manager and asked him to book 2 rooms for us.

We parked our car near the entrance of Mukteshwar temple and started taking a walk towards the main tourist attraction point “Chauli ki jali”. After putting in few efforts in climbing the rocks we finally reached on the top of the cliff. The cliff gave a splendid panoramic view of snow-white Himalayan ranges. Captured the “Orange- setting Sun”, did some archery. As it was getting late and the temperature started dropping with Sun, instead of going for Rock climbing we opted to just give a pose :)

Read More

गढ़वाल घुमक्कड़ी: तपोवन – रुद्रप्रयाग – दिल्ली

By

रास्ते में हम लोग लोग थोड़ी देर रुद्रप्रयाग में रुके और फिर चल दिए श्रीनगर की ओर. श्रीनगर पहुँचते पहुँचते हमें काफी देर हो चुकी थी और आज रात इससे आगे जाने का कोई साधन नहीं दिख रहा था. कोई जीप या बस मिलने की तो संभावना बिलकुल भी नहीं थी क्योंकि यहाँ हिमाचल की तरह रात को बसें नहीं चलती. ऐसे में हमारे चालक साब ने हमें रात श्रीनगर में ही बिताने का सुझाव दिया और हमें रात गुजारने का एक ठिकाना भी दिखाया. हमने ठिकाना तो देख लिया पर अब किसी का भी यहाँ रुकने का मन नहीं था और सब जल्द से जल्द घर पहुँचना चाहते थे. उत्तरांचल में वैसे तो रात को कोई वाहन नहीं चलते पर सब्ज़ी फल आदि रसद पहुँचाने वाले ट्रकों की आवाजाही रात भर चालू रहती है, सोचा क्यों ना इसे ही आजमाया जाए. आज शायद किस्मत हम पर मेहरबान थी, थोडा पूछ्तात करने पर ही हमें एक ट्रक मिल गया जो हरिद्वार तक जा रहा था. ट्रक चलने में अभी लगभग आधा घंटा बाकी था और सुबह सिर्फ आश्रम में ही भोजन किया था इसलिए एक ढाबे पर जाकर थोड़ी पेट पूजा की गई.

ट्रक पर वापस लौटे तो देखा की चालक के साथ वाली सीट पर पहले ही दो लोग बैठे हुए थे. ऐसे में वहाँ हम तीनों का एक साथ बैठना संभव और सुरक्षित नहीं था. इसलिए दोनों की बुरी हालत देखकर मैं ट्रक के पीछे चला गया जहाँ कुछ अन्य लोग पहले से ही लेटे थे. इस ट्रक के ऊपर एक बरसातीनुमा दरी थी जो शायद सब्जियों को धूल और बारिश से बचाने के लिए डाली गयी थी और नीचे खाली प्लास्टिक के डब्बे रखे हुए थे जिनमे सब्जियाँ रखी जाती हैं. इन्ही हिलते डुलते प्लास्टिक के डब्बों के ऊपर हम सभी मुसाफ़िर लेटे हुए थे. ट्रक चलने पर कुछ समय तो बड़ा मजा आया पर जैसे जैसे रात गहराती गयी और नींद आने लगी तो इन हिलते हुए डब्बों पर सोना बड़ा दुखदायी लग रहा था क्योंकि एक तो ये डब्बे आपस में टकराकर हिल रहे थे और टेढ़े मेढ़े होने की वजह से चुभ भी रहे थे. खैर मेरे लिए तो ये सब रोमांच था, लेकिन रोमांच धीरे धीरे बढ़ने लगा जब इन्द्रदेव अर्धरात्रि में जागे और हम पर जमकर मेहरबान हुए. तिरछी पड़ती हुई मोटी मोटी बारिश की बूँदे हमारे ऊपर एक शॉवर की तरह पड़ रही थी जो एक मंद मंद शीतल रात को एक बर्फ़ीली सी महसूस होने वाली रात में बदलने के लिए काफी थी. ऐसे में ऊपर रखी हुई दरी ने ठण्ड से तो नहीं पर भीगने से तो बचा ही लिया. ठण्ड में किटकिटाते हुए, बिना सोये जैसे तैसे करीब चार बजे के आस पास ट्रक चालक ने हमें हरिद्वार में एक सुनसान मोड़ पर उतार दिया. जितना दर्द मेरे शरीर में उस ट्रक में सवारी करते हुए हुआ उतना पूरी यात्रा कहीं नहीं हुआ, शरीर इतना अकड़ गया था कि ट्रक से बाहर निकलने के लिए भी हिम्मत जुटानी पड़ रही थी. ठण्ड के मारे बुरा हाल था, सुनसान गलियों से होकर गुजरते हुए हम लोग बस स्टेशन की ओर बढ़ने लगे. ऐसे में रास्ते में एक चाय का ठेला देखकर चेहरे पर कुछ ख़ुशी आयी, भाईसाब के हाथ की गर्मागरम चाय और बंद खाकर शरीर में कुछ ऊर्जा आई. फिर तो बस जल्दी जल्दी कदम बढ़ाते हुए हरिद्वार बस स्टेशन पहुँचकर, दिल्ली की बस पकड़ी तो लगभग दस या ग्यारह बजे तक दिल्ली पहुँच कर ही राहत की साँस ली. यात्रा समाप्त!

Read More

Udaipur Vintage Cars

By

इस गाड़ी का तकनीकी नाम है GLK21 ! वाह, बड़ाई सोणा नाम है! सन्‌ 1924 के दिनों के तो इंसान भी आज कल मुश्किल से ही मिलते हैं, ये बेचारी तो कार है। वर्ष 2000 के आस-पास मेवाड़ घराने के मन में ये खयाल आया कि हम अपनी कारों की एक प्रदर्शनी क्यूं ना लगा दें। कम से कम प्रवेश टिकट के पैसों से ड्राइवर की तनखाह तो निकलेगी! तो फिर यह खयाल भी हाथ के हाथ आया कि कार देखने के लिये लोग तो तब आयेंगे जब कार बढ़िया हालत में हों । ऐसे में अपने जीवन के फाइनल बसंत देख रही इस कार को पुनः युवा बनाने का अभियान शुरु हुआ। Hofmanns of Henley, UK की राय ली गई और उनके तकनीकी निर्देशन में गाड़ी के एक-एक अंग का प्रत्यारोपण शुरु हुआ। गाड़ी के पहिये न्यू ज़ीलेंड से मंगाये गये। गीयर बक्से की मरम्मत के लिये इंग्लैंड की उसी कंपनी के इंजीनियर आये जिन्होंने इसे बनाने की ज़ुर्रत की थी। यह कुछ ऐसा ही था कि शादी के स्वर्णजयंती वर्ष में कोई व्यक्ति अपने श्वसुर को पत्र लिख कर कहे कि आपकी सत्तर साल की बिटिया का ब्लड transfusion होना है, जरा आकर सहायता करें। जैसे श्वसुर अपने दामाद को “ना” नहीं कर पाते ऐसे ही Hofmanns of Henley कंपनी के श्रीयुत्‌ ग्राहम ने भी मना नहीं किया और गाड़ी के रेडियेटर और गीयर बाक्स को बिल्कुल नये जैसा बना कर दे दिया। धन्य हैं मेवाड़ के महाराणा और धन्य हैं इंग्लैंड के इंजीनियर ! आज ये गाड़ी उदयपुर की सड़कों पर पूरी शान से दौड़ती है। आपको शायद मालूम हो कि रॉल्स-रॉयस कार की सबसे बड़ी पहचान उसका रेडियेटर ही होती है जिसका डिज़ाइन आज तक भी नहीं बदला। O & M विज्ञापन एजेंसी के मालिक ने एक बार लिखा था कि इस गाड़ी को जब बनाया जाता है तो इसकी बॉडी पर stethescope लगा-लगा कर देखा जाता है कि इसमें कहीं कोई आवाज़ तो नहीं आ रही है! पांच बार प्राइमर और नौ बार पेंट का कोट चढ़ाया जाता है, अन्दर कहां, क्या, कैसे चाहिये – यह सब आपकी फर्माइश के हिसाब से बनाया जाता है। ऐसा नहीं कि जो कंपनी वालों को पसन्द आया, लगा दिया। इतना ही नहीं, गाड़ी की हैड लाइट के एंगिल, direction, focus वगैरा सारे समायोजन ड्राइवर अपने आस-पास लगाये गये लीवर से ही कर सकता था। जे हुई ना कुछ बात !

Read More

गढ़वाल घुमक्कड़ी: भविष्य बद्री

By

देवभूमि गढ़वाल के कुछ छिपे हुए रत्नों को तलाशती तीन दोस्तों की कभी ना भुला पाने वाली रोमांचक घुमक्कड़ी की दास्तान…जिसमे हमने कुछ बेहतरीन नज़ारे देखे, कुछ अनोखे और सोच बदलने वाले अनुभवों से गुजरे, कुछ खुबसूरत दोस्तों से मिले, कुछ बेहतरीन ठिकानों पर रात गुजारी और बहुत कुछ सीखने को मिला…

Read More

गढ़वाल घुमक्कड़ी: जोशीमठ – तपोवन – बाबा आश्रम

By

पैदल घूमते घामते प्रकृति को निहारते हुए सलधार पहुँचे और सबसे पहले वसुधारा की पद यात्रा से सबक लेकर एक दुकान पर रुककर आगे की यात्रा के लिए कुछ चने और मीठी गोलियाँ रख ली. सलधार से भविष्य बद्री तक का रास्ता ज़्यादातर जगह जंगल के बीच से गुज़रते हुए जाता था जहाँ कई जगह राह मे दो रास्ते सामने आ जाते थे जो हमारी दुविधा का कारण बन बैठते. ऐसे मे कई बार या तो स्थानीय लोगो की मदद से और कई बार बस किस्मत के भरोसे ‘अककड़ बक्कड़’ करके हम लोग जैसे तैसे सुभाईं नामक गाँव तक पहुँचे जहाँ से भविष्य बद्री की दूरी लगभग 1 ½ किमी ही रह जाती है.

Read More

Pune to South Goa Road Trip

By

At 12.30 pm we crossed over into Karnataka, and paid another toll. Immediately we could sense that we were in a different state. The traffic was much less in Karnataka as compared to the heavy traffic right upto Kolhapur in Maharashtra. The scenery was better, with undulating hills in the distance. There were flowering bushes in the road divider which made the drive more pleasant, and lay-byes with public utilities at regular intervals along the highway.

Read More

ब्रज यात्रा – बरसाना गोवर्धन मथुरा वृन्दावन

By

निधिवन, यमुना घाट और अन्य मंदिरों के दर्शन के बाद हमने अपने होटल से प्रस्थान किया और चल दिए वापस फरीदाबाद की ओर ! इस बार वृन्दावन आने का आनंद ही कुछ ओर रहा ! हम दिल्ली के आस पास के लोग एक ही दिन में वृन्दावन आना जाना कर लेते हैं, पर मैं समझता हूँ की एक दो रात यहाँ रुके तो बात कुछ ओर ही हो !

Read More
Raven

Paradise on Earth- Jammu and Kashmir (Part 3)

By

We passed the first town enroute – Ganderbal, within an hour. It was after Ganderbal that the real beauty of the drive commenced. After Ganderbal, the snow-capped Himalayas greeted us bang on. Every turn gave us panoramic new scenes, which always seemed to better than the previous one. Complimented by the untouched beauty of the Sindh River, the landscape was picture perfect.

Read More