Insights

सुहाना सफ़र और आप

By

मैंने घुमक्कड़ पर रूचि लेना अभी कुछ समय पहले ही शुरू किया है अतः आप लोग मुझे घुमक्कड़ परिवार की नयी सदस्य कह सकते हैं. मेरे हसबेंड श्री मुकेश भालसे इस अंतरजाल (वेबसाइट ) से पहले से ही यात्रा वृत्तान्त लेखक के रूप में जुड़े हैं एवं उनकी घुमक्कड़ डोट कॉम के प्रति प्रेम तथा निष्ठा देखकर मैं भी धीरे धीरे इस सम्मानजनक मंच से जुड़ गई तथा अब तो यह स्थिति है की पूजा पाठ के बाद दैनिक कार्यों की शुरुआत घुमक्कड़ के साथ ही होती है. अगर मैं यह कहूँ की घुमक्कड़ हमारे परिवार का एक चहेता सदस्य है तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी.

मैं अपने परिवार के साथ वर्ष में एक या एक से अधिक बार (मुख्यतः धार्मिक स्थान पर) घुमक्कड़ी कर ही लेती हूँ, इन यात्राओं में हमें बहुत से खट्टे मीठे अनुभव होते हैं तथा हर यात्रा हमें कुछ नया सिखा जाती है, अपनी यात्राओं के इन्ही खट्टे मीठे अनुभवों से प्राप्त कुछ महत्वपूर्ण बिन्दुओं को कलमबद्ध करके आज में आपलोगों को प्रस्तुत कर रही हूँ, आशा है की यह जानकारी साथी घुमक्कड़ों के लिए लाभदायक सिद्ध होगी, अगर ऐसा होता है तो मैं समझूंगी की मेरा प्रयास अर्थपूर्ण रहा.
यात्रा शुरू करने से पहले यात्रा सम्बंधित निम्नलिखित सभी महत्वपूर्ण पहलुओं पर गौर कर लें ताकि आपका सफ़र उर्दू वाला सफ़र ही रहे, अंग्रेजी वाला सफ़र (suffer) न बन जाए.

Read More

Ghumakkar Insights – Camera-derie

By

Browsing through old albums is one of those things that bring unalloyed joy. Be it the wedding pictures of my parents, the pictures from my birthdays and rice ceremony, the pictures of us as we grew up, or the pictures from that first trip to Puri and Vizag, I could spend hours browsing through memories left decades back in some forgotten alleys of time.

Read More

Ghumakkar Insights – What is on your mind and what goes into your bag?

By

But surely, there is one thing in common in all our expeditions. It is the seed of thought on our mind which grows and matures into a fully well planned and executed trip. A thought about where to go next is the seed I am talking about. While some of us get inspired by learning about places from friends, the new trend I see is the trend to explore the unexplored virgin places. Not bad at all, isnt it?

Read More

How easy is it to find or sell a vacation rental accommodation

By

Can you imagine a software that can help you connect with customers and business partners easily by taking your minimum time and energy? Kigo and their team promise this to their customers and it seems true! I went through their site and it is appears surprisingly simple to get the business up and running! And as you go about bringing your business up, their is an efficient team for your assistance all the while.
Software like these also provide you with a free trial period where you can run a prototype of your business and get a hands-on feel of how you could handle it in future.

Read More

Ghumakkar Insight –Let’s wander! But be vigilant too

By

So if we only drop the ball and do not come forward demanding action for the better future and for future travellers, it is we and our generation next to suffer. If we predispose that nothing will happen and do not come forward with our feedback to the right authorities, I see then little hope for the changes. The right authorities may never know a fact if we do not give our feedback. In the present case of mine, I doubt the field officials would have reported the Governor about the above facts. So there lies the importance of feedback. I too hope like Ghumakkar Team and believe that if we keep performing as a dutiful citizen then things would really improve for a better future and for future travellers.
Will you then come forward? Will you too contribute for the better future of travelling?
The last thing, I believe, all of us would like to see people throwing coins or notes on Akbar’s grave. Alas! He was the richest and most powerful king of his time. He never would have imagined that people would throw coins on his tomb stone. And not also we would like to see people scribbling love messages on our historical monuments. Can’t we start protesting against these nuisances? Can’t we preserve our heritage for an Incredible India?
“Its name is public opinion. It is held in reverence. It settles everything. Some think it is the voice of God.”______Mark Twain

Read More
Ghumakkar Insights – Homestays

Ghumakkar Insights – Homestays

By

Those who aren’t familiar with the concept of homestays, would probably have guessed by now that homestays are different from hotels in several ways. Essentially when you are opting for a homestay, you are choosing to stay in someone’s home. It is a great way to experience local culture up close. And, especially if you are travelling alone, the thought of coming back to a family after a tiring day is especially warm. In Swapnil’s words, “Wow!! In a strange, mystical, faraway land someone was waiting for you and was concerned about your journey.”

Read More

Photography : Practical Tips and Tricks

By

This is true of every ghumakkar. If Vishal Rathore, DL, Amitava, Ritesh, Manu, Abhee, Jat Devta, SS, Praveen Wadhwa, Nirdesh, Vipin, Mala, Devasmitha and Sushant (or any of the rest of authors here) were wandering together in a city or village with our cameras on our shoulders, each of us would aim at different objects and would shoot from different angles and for different reasons. It hardly matters whether we own a DSLR or a mobile phone as far as selection of our subjects is concerned. Well, here are a few things which I have learnt in photography in all these years. May be you would find them interesting and useful.

Read More

Photography : Using Light to Your Advantage

By

एक फोटोग्राफर का प्रकाश के जिन पहलुओं से जन्म – जन्म का रिश्ता होता है, वे हैं – प्रकाश का कोण (angle of light) की दिशा direction of light, प्रकाश की मात्रा (luminocity या brightness), तीव्रता (intensity), और कंट्रास्ट (contrast) ! सबसे पहले प्रकाश के कोण की बात करें तो हम कह सकते हैं कि हम सब प्रकाश को ऊपर से नीचे की ओर आते हुए देखने के अभ्यस्त हैं। सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक हमें सूर्य धरती के ऊपर से ही धरती पर प्रकाश बिखेरता हुआ नज़र आता है। हमारे काम आये या न आये, चन्द्रमा का प्रकाश भी ऊपर से नीचे की ओर आता प्रतीत होता है। हमारे ठीक सामने से प्रकाश आये ऐसा शायद वाहनों की हैड लाइट के मामले में ही देखने में आता है या फिर कैमरे में लगी हुई फ्लैशलाइट प्रकाश सामने से हमारे चेहरे पर फेंकती है। चूंकि हम जन्म से लेकर अपने अंतिम दिन तक ऊपर से नीचे की ओर आते हुए प्रकाश को ही देखा करते हैं अतः घरों में भी हम बल्ब और ट्यूब छत के आस – पास ही लगवाते हैं, न कि फर्श के आसपास। फोटोग्राफर भी अपने स्टूडियो में लाइटें मॉडल के सिर के लेवल से ऊपर ही फिट करते हैं, नीचे नहीं ! प्रकाश का स्रोत अगर धरती के आस पास हो तो कैसा लगेगा, यह देखना हो तो कुछ हॉरर फिल्में देख डालिये ! ठोडी, होंठ, नाक, आंख आदि की छाया जब नीचे के बजाय ऊपर की ओर बनेंगी तो अपनी अर्द्धांगिनी की शक्ल देख कर एक बारगी तो डर ही जायेंगे।

Read More

Photography – Lighting

By

प्रकाश का सबसे सस्ता, सुन्दर और टिकाऊ स्रोत हमारे सूर्य देवता ही हैं। चंदा मामा जो खुद भी सूर्य देवता से उधार लिये हुए प्रकाश से काम चलाते हैं, फोटोग्राफर के लिये ज्यादा उपयोगी नहीं हैं क्योंकि वह भरोसेमंद इंसान नहीं हैं – कभी हैं, कभी गायब हो जाते हैं। जिस दिन होते हैं, उस दिन भी इतना प्रकाश हमें नहीं दे पाते कि ढंग की फोटो खींच सकें, अतः उनके भरोसे न रहना ही ठीक है। उनको धरती को प्रकाश देने से कहीं अधिक अपनी खुद की फोटो खिंचवाना, अपने बारे में कवितायें और गीत लिखवाना ज्यादा भाता है। हमने सुना तो यहां तक है कि चंदा मामा बहुत सारे लोगों के पागलपन का भी कारण बन जाते हैं अतः हम फोटोग्राफर लोग उनकी फोटो खींचते रहें तो ही ठीक है। आपको पता ही होगा कि Luna से Lunar और Lunatic शब्द बने हैं।

Read More

Getting the most out of your camera

By

इससे पहले कि मैं किस्सा-ए-फोटोग्राफी शुरु करूं, अगर अनुमति-ए-आपकी हो तो पहले एक किस्सा सुनाना चाहूंगा। सुना है कि एक छात्र फोटोग्राफी सीखने के लिये मुंबई के एक प्रख्यात फोटोग्राफर के पास पहुंचा। पांच दिन तक कैमरे के सभी अंग-प्रत्यंगों का परिचय देने के बाद, गुरु ने अपने शिष्य से कहा कि अपने कैमरे में एक फिल्म डालो और निकल पड़ो मुंबई की फोटोग्राफी के लिये ! जो कुछ भी अच्छा लगे, उसकी फोटो खींच लाओ ! रात को थका-हारा शिष्य वापिस आया! फिल्म धुलवाई गई और प्रिंट बनवा कर मेज पर फैला दिये गये। गुरुजी ने शिष्य से पूछा, “बताओ, किस स्थान की फोटो सबसे अच्छी लगीं?” शिष्य ने जवाब दिया, मुझे तो गेट वे ऑफ इंडिया की फोटो सबसे अच्छी लग रही है। गुरुजी ने अगले दिन उस शिष्य को सारी की सारी फोटो गेटवे ऑफ इंडिया की खींचने का आदेश दे दिया। शिष्य ने विभिन्न कोणों से सारे के सारे चित्र गेटवे ऑफ ईंडिया के ही खींच डाले। शाम को फिल्म धुली, प्रिंट बने और फिर गुरुजी ने पूछा, “कौन का फोटो सबसे अच्छा लगा?” तो शिष्य ने बता दिया । गुरुजी ने पुनः एक फिल्म लोड कराई और कहा कि कल जाकर गेटवे ऑफ इंडिया के सारे के सारे फोटो इसी एंगिल के खींच कर लाओ! बेचारा शिष्य पुनः गया और सुबह से शाम तक उसी एंगिल से भिन्न-भिन्न प्रकाश में फोटो खींचता रहा। शाम को पुनः प्रिंट फैलाये गये और गुरुजी ने जब शिष्य से पूछा, “कौन सा फोटो पसन्द आया है?” तो शिष्य ने बता दिया कि मुझे तो सूर्यास्त के समय का यह चित्र सबसे अधिक भा रहा है! गुरुजी ने उसे कहा, “जाओ, तुम्हारी शिक्षा पूर्ण हुई!” तुम्हें photographic subject, various angles और various types of lighting का ज्ञान हो गया है। फोटोग्राफी यहीं से शुरु होती है, अब जीवन भर फोटोग्राफी करते रहो और सीखते रहो!

Read More

Ghumakkar Insights – Do more with Smart Phone-Camera in Hills

By

Sunsets and sunrise are the two most common sights that are photographed in the hills. We also get impressed with the breathtaking views of valleys or rows of hills covered with snow and feel that nothing can capture the view better than Panoramas. It can be very easily done with normal cameras. But can we also do it with Phone-Cameras? In May this year, I was in Srinagar in Kashmir to cover the Mughal Rally. We happened to visit a place called “Pir Ki Gali” that has amazing panoramic view. At that point in time, I felt the urge to click a panorama. I wanted to test whether my phone-camera could give me good results in panoramas as well. I found and downloaded Panorama applications from the Internet and created several panoramas. A good Phone-Camera and a companion application make the job quite easy and the results too are nothing short of impressive.

Dynamic weather in hills sometimes makes the life of us photographers more difficult than we expect it to be. These situations demand more flexibility in dealing with your Camera. Latest smart phones come with features like ISO, White Balance, Exposure Compensation etc. ISO can be very useful in low light conditions, Exposure Compensation can be a great help when your Camera is unable to judge the light around. White Balance is used in different ways to get the right colors or some magic in overall color scheme of your photographs. Many of these Cameras come up with different effects and some of them can be interesting to use while travelling. Flash capabilities are increasing with time and can be helpful in some critical situations.

Read More