आइए चलें भुवनेश्वर से भितरकनिका के सफ़र पर…

इस महिने आपको ले चलते हैं एक ऍसी जगह जो उड़ीसा के पर्यटन मानचित्र में तो नज़र आती है पर देश के अन्य भाग के लोग शायद ही इसके बारे में जानते हों। ये जगह है उड़ीसा के उत्तर पूर्वी तटीय इलाके के करीब स्थित भितरकनिका राष्ट्रीय उद्यान (Bhiterkanika National Park)।

मेरी ये यात्रा पिछली दुर्गा पूजा और दशहरा की छुट्टियों की है। मैं तब उस वक्त भुवनेश्वर गया था। वहीं से भितरकनिका जाने का कार्यक्रम बना। हमारा कुनबा करीब सवा दस बजे भुवनेश्वर से निकला। हमें भुवनेश्वर से कटक होते हुए केन्द्रपाड़ा की ओर निकलना था। भुवनेश्वर और फिर कटक की सड़्कों पर दुर्गापूजा की गहमागहमी थी पर हाल ही में आई बाढ़ ने माहौल अपेक्षाकृत फीका अवश्य कर दिया था।

भितरकनिका उड़िया के दो शब्दों से मिलकर बना है। भितर यानि अंदरुनी और कनिका यानि बेहद रमणीक। केन्द्रपाड़ा (Kendrapada) जिले में अवस्थित ये राष्ट्रीय उद्यान अपनी दो विशेषताओं के लिए विशेष रूप से जाना जाता है। एक तो सुंदरवन के बाद ये देश के सबसे बड़े मैनग्रोव के जंगलों को समेटे हुए है और दूसरी ये कि भारत में नमकीन पानी में रहने वाले मगरमच्छों की सबसे बड़ी आबादी यहीं निवास करती है।


भुवनेश्वर से केन्द्रपाड़ा करीब 75 किमी दूरी पर है अगर आप कटक से जगतपुर वाले राज्य राजमार्ग से जाएँ। पर हमने केन्द्रपाड़ा जाने का थोड़ा लंबा रास्ता लिया। कटक से चंडीखोल होते हुए हमने पारादीप (Paradip) की ओर जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग ५ (NH- 5) की राह पकड़ ली। चार लेनों की चौड़ाई वाले इस राजमार्ग पर आप अपनी गाड़ी बिना किसी तनाव के सरपट भगा सकते हैं।

राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों ओर के दृश्य बिल्कुल विपरीत प्रकृति के थे। एक ओर तो धान की लहलहाती फसल दिखाई दे रही थी…

तो दूसरी ओर दो महिने पहले आई बाढ़ की वज़ह से उजड़ी फसलों का मंज़र दिख रहा था।

हम लोग तो बारह बजे के करीब केन्द्रपाड़ा पहुँच गए पर हमारे समूह के ही एक और सदस्य जो दूसरे रास्ते से हमें केन्द्रपाड़ा में मिलने वाले थे, सिंगल लेन रोड और भीड़ भाड़ की वज़ह से जल्दी पहुँचने की बजाए देर से पहुँचे। लिहाज़ा दिन का भोजन और थोड़ा विश्राम करने के बाद हमें केन्द्रपाड़ा से निकलते निकलते सवा दो बज गए।

हमारा अगला पड़ाव राजनगर (Rajnagar) था जो कि भितरकनिका जाने का प्रवेशद्वार है। केन्द्रपाड़ा और राजनगर के बीच की दूरी करीब 70 किमी है। इन दोनों के बीच पतामुन्दई (Patamundai) का छोटा सा कस्बा आता है। ये पूरी सड़क एक लेन वाली है और फिर त्योहार की गहमागहमी अलग से थी इसलिए चाहकर भी अपने गंतव्य तक जल्दी नहीं पहुँचा जा सकता था। हर पाँच छः गाँवों को पार करते ही एक मेला नज़र आ जाता था। गाँव के मेलों की रौनक कुछ और ही होती है… थोड़ी सी जगह में तरह तरह की वस्तुएँ बेचते फुटकर विक्रेता और रंग बिरंगी पोशाकों में उमड़ा जन समुदाय जो शायद एक साल से इन मेलों की प्रतीक्षा में हो।

राँची और कटक की दुर्गापूजा से अलग जगह जगह दुर्गा के आलावा शिव पार्वती, लक्ष्मी और हनुमान जी की भी मूर्तियाँ मंडप में सजी दिखाई पड़ीं। बाद में पता चला कि इस इलाके का ये सबसे बड़ा त्योहार है और इसे यहाँ गजलक्ष्मी पूजा (Gajlakshmi Puja) कहा जाता है।

राजनगर से आगे हमें गुप्ती तक जाना था जहाँ से रोड का रास्ता खत्म होता है और पानी का सफ़र शुरु होता है। हरे भरे धान के खेत अब भी दिखाई दे रहे थे। गुप्ती के ठीक पहले कुछ किमी मछुआरों के गाँव के बीच से गुजरना पड़ा। वहीं एक झोपड़ी में सौर उर्जा का प्रयोग करती ये झोपड़ी भी दिखाई दी तो देख कर सुखद संतोष हुआ कि इन भीतरी इलाकों पर भी सरकार की नज़र है।

ठीक वार बजे हम गुप्ती के चेक पोस्ट पर थे। और ये साइनबोर्ड हमारा चेक पोस्ट पर स्वागत कर रहा था

अगले दो घंटे का सफ़र डेल्टाई क्षेत्र की कभी संकरी तो कभी चौड़ी जलधाराओं के बीच बीता। अगली पोस्ट पर आपको मिलवाएँगे पानी और जंगल में रहने वाले कुछ बाशिंदों से और साथ ही देखना ना भूलिएगा एक दृश्य जो हमारे इस सफ़र का सबसे बेहतरीन स्मृतिचिन्ह रहा।

16 Comments

  • ????? ?? , ???? ??? ???? ????? ?? ????? ???? ??? ?? ? ?? ???? ????? ???? ?? ?????? ?? ???? ?? ???? ?? ???? ??? ??? ? ?????? ???? ???? ?????? ??? ???? ???? ???? ??? ??? ???? ?

    ??? ?? ??? ???? ??? ????? ?? ??? ????? ???

  • Mukesh Bhalse says:

    ???? ??,
    ???? ????? ?????? ?? ??? ???????? ??? ???? ?? ???? ?? ?? ???????? ?? ??? ?? ?? ???. ?? ???? ???? ??? ?? ???? ??????, ??? ??? ?? ???? ????? ?? ?? ?????? ???? ???.

    ???? ???? ????? ?? ???? ?? ??? ???? ???? ?? (??????? ?????? ?????????) ?? ????? ?? ?? ????? ??? ???. ???? ???? ?? ??????? ???? ???? ???? ?? ???? ??????. ??? ?? ?????? ?? ?? ??????? ?? ???? ?? ????……..????? ?? ??? ?????? ????? ??? ???????? ????.

    ???????.

    • Manish Kumar says:

      ????? ?? ??? ?? ?? ????? ????? ???? ??? ???????? ?? ?????? ?? ???????? ???? ??? ??????? ?? ??? ?? ????? ???? ???? ????? ?? ???? ????? ?? ?????? ??????? ????????? ?? ??????? ??? ???? ??? ???? ???? ??? ??? ???? ?? ?? ?? ?????? ??? ?????? ?? ???? ???? ? ??????? ?? ??????? ?? ?? ???? ??? ???? ???? ????? ?? ??? ??? ????? ????? ??? ? ?? ???????? ?? ?????? ?? ???? ????? ???? ??? ?? ?? ???

  • ashok sharma says:

    very good post ,very interesting,away from well established tour circuit.this country of ours is having vivid colours,various cultures,different but beautiful sweet languages and people of variety,only one should have time and will,to feel the essence,the innocence of our great country.
    keep it up.

    • Manish Kumar says:

      “This country of ours is having vivid colours,various cultures,different but beautiful sweet languages and people of variety,only one should have time and will,to feel the essence,the innocence of our great country.”

      Totally agree with u Sharma ji !

  • Nandan says:

    Hi ???? , ???? ????? ??? ???? ?? |

    ?? ??? ?? ?? ???? ??? ?? ?? ???? ???, ??? ?? ???? ??? :-) | ???? ???? ?? ???????? ??? |

  • Nandan says:

    And Manish, this is a ‘FOG’ (First on Ghumakkar)

  • Superb Manish…

    I got to see some place for which i was searching for a long time….

    When I will go to Puri Jagannath Yatra along with Konark and Bhubaneshwar i will try to go here……

  • Ritesh Gupta says:

    ???? ?? …..
    ?? ?? ????? ????? ???? ????? ??? ….???? ?? ???????.??? ??? ???? ??? ?? ?? ????? ?? ????? ???? ?? ??? ??, ??? ?? ???????.??? ?? ???? ??????? ???? ???? ?? ?? ?? ?? ?????? ??? |
    ???? ?? ??? ???? ????? ??? ?? ???? – ???? ????? ???? ?? ??? ???? ???? ?? ??????? ?? ????? ?????? ?? |
    ???? ????????? , ??? , ??????? ?? ??????????? ???? ???? ??? ?? ?? ????? ?? ???? ??? ???? ???? ??? ???? ?? ???? | ??? ???? ???? ??? ??? ?? ????????? ????????? ?????? ?? ???? ??? ?? ?? ????? ?? ?????? | ???? ??? ?? ????????? ??? ….
    ??????? ….
    ?????

    • Manish Kumar says:

      ????? ??? ?? ????? ??? ???? ?? ?????? ?? ????????? ???? ???, ????? ??? ?????? ?????? ?? ???? ?? ???? ???? ??? ??? ???? ???? ?? ?? ??? ??? ????? ?? ???? ?? ????? ???? ??? ?? ??? ?????? ???? ?? ?????

  • Kavita Bhalse says:

    ???? ??
    ???? ??? ???? ?? ??? ?? ???? ??? ??? ??? ??? ????? ???? ?????? ??? ????? ?? ????? ???? ??? ???? ?? ????????? ?????? ?? ??? ???? ????? ??? ????? ???? ????? ???.???? ??? ?? ??????? ???.
    ???????.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *