Sarchu to Nimmu – taking in the famous Tso Kar

November 24, 2014 By:

20 Jul 2014: Early morning in Sarchu is even colder. I have had a bit of a cold and uncomfortable night. Uncomfortable, not due to any uneasiness or discomfort due to altitude but more owing to the freezing conditions.

The idea today is to start at the crack of dawn and take in Tso Kar before heading out to Leh. It is just a 30 min detour one way and that is very doable if we pace ourselves well. Our campsite is at Nimmu, further out of Leh but that is fine. Nimmu is just a little over 30 kms ahead of Leh. The road conditions in Ladakh are expected to be really good and the passage that much faster.

We leave Sarchu at 0530 hrs. It is the crack of dawn…. the place is overcast and there is a bit of a drizzle. The wind is howling, it is snowing in the higher elevations of the surrounding mountains and I am chilled to the bone!

Right after we set out, we cross a little bridge which I am told is the boundary between Ladakh and Himachal. So now officially, we enter Ladakh! A little bit further we come across this signboard… the BRO has already been spreading the AIDS awareness message…!

Looks like the BRO has already been spreading the message...

Looks like the BRO has already been spreading the message…

Driving along with the Tsarap Chu on our left, we reach the Gata Loops… starting at about 4200 mtrs altitude. This is a series of 21 hair pin bends before we hit the Nakila at 4739 mtrs. All along, the peaks seem to have a sprinkling of fresh snow on them… just as if they were some giant muffins with a drizzle of icing sugar on top! Very beautiful!

Gata Loops

Gata Loops

नैनीताल की गुफ़ाओं में बिताए कुछ यादगार पल

November 23, 2014 By:

Table of contents for कुमाऊँ यात्रा

  1. नौकूचियाताल का यादगार सफ़र
  2. नैनीताल की गुफ़ाओं में बिताए कुछ यादगार पल

होटल पहुँचने तक की अपनी यात्रा का वर्णन मैं कहानी के पिछले लेख में कर ही चुका हूँ, हमारे होटल से नैनीताल थोड़ा दूर होने के कारण पहले हम लोग नैनीताल ही घूम कर आना चाहते थे, क्योंकि आस-पास की जगहें तो हम लोग होटल में रहते हुए सुबह-शाम भी घूम सकते थे ! इसलिए आज का दिन हम लोग नैनीताल घूमने जा रहे थे ताकि इस यात्रा का पूरा आनंद लिया जा सके ! सुबह उठने के बाद नित्य-क्रम से निवृत होकर हम लोग नाश्ता करने के लिए अपने होटल के मुख्य हाल में पहुँच गए ! सभी मेहमानों के खाने-पीने की व्यवस्था इसी हाल में थी ! अक्सर, होटलों में खाने-पीने के लिए एक सार्वजनिक हाल रखा जाता है, इसके दो फ़ायदे होते है एक तो होटल के संचालक को हर कमरे में अलग-2 जाकर खाना परोसने की व्यवस्था नहीं करनी पड़ती और दूसरा होटल में रुकने वाले पर्यटकों को एक-दूसरे को जानने का अवसर मिलता है !

नाश्ता करने के बाद हम वापिस अपने कमरे में आ गए, नैनीताल घूमने जाने के लिए सारा समान लेकर जाने की ज़रूरत तो थी नहीं इसलिए हमने अपने साथ ले जाने का ज़रूरी सामान एक बैग में रखा और नैनीताल के लिए निकल पड़े ! अपने होटल से निकलकर जब हम लोग भीमताल पहुँचे तो थोड़ी देर के लिए झील के किनारे रुककर वहाँ की ठंडक का आनंद लिया और फिर अपनी आगे की यात्रा जारी रखी ! भीमताल के एक किनारे से मुख्य सड़क दो हिस्सो में विभाजित हो जाती है, एक रास्ता तो हल्द्वानि को चला जाता है, ये वही रास्ता था जिस से हम लोग कल यहाँ आए थे ! जबकि दूसरा रास्ता भुवाली होते हुए नैनीताल को चला जाता है, आज हम इसी रास्ते पर जाने वाले थे !

1

भीमताल झील का मनोरम दृश्य

In memories : Jaipur, the Pink City (Part 1)

November 22, 2014 By:

Table of contents for In Memories

  1. In memories : Jaipur, the Pink City (Part 1)

I am a great lover of seasons. My favorite season is winter but when I got an opportunity to chase the Pink city in monsoon, I grabbed that deal. I was thrilled, curious & excited. I had never, until then, imagined that I would walk in an ancient fort under cloudy sky and heavy rains. The rains in Rajasthan were magical with vibrant colors, but you shouldn’t believe me until you get a glimpse yourself.

Pink city Jaipur attract you with royal style
‘Padhaaro Mhare Desh’… Hey everyone, welcome to my City – My Jaipur.. The Pink City. Pink, the color signifying softness and kindness!

We reached Jaipur early morning by train & had only 2 days to explore the city & the culture. So as decided, we first knocked at hotel Aavaa Ramvilas (already booked) – a beautiful heritage property & after refreshing we would start our journey to feel the Rajasthani culture. A mere mention of the word Jaipur filled with the images of kings and kingdoms, elaborate architecture, chivalry, bright colors, Jaipur-the capital of the state has a story of its own. Even the hotel I stayed in had one.

Jaipur is indeed India’s first planned city. Entire city is fortified and covered by 7 gates. The walls and the gates are still intact, the predominant color used for the buildings is pink (not the pink that we know of but a little rustic). That’s the reason why, Jaipur is known as the Pink City. One of the historic architectural heritages of Jaipur city is City Palace which gives a holistic experience to the International and domestic travelers like me.

Jaipur Travel log: What to see and what to do

We had very little time with us, so we started our journey to  explore the deep routes of heritage & culture under the clouds.

City Palace – the essence of Royal Rajasthan:-
City Palace is a must visit, fine example of elaborate Indian and Mughal architecture. Intricate carvings, paintings and motifs adorn the walls and the ceilings. The 3 museums show-case the Darbar Hall, Costumes and Weapons.

City Palace of Jaipur

City Palace of Jaipur


Soul resurgence trip to Ajmer and Pushkar

November 21, 2014 By:

A sudden realization came to my mind on 10th February, 2014. Why should not I visit an auspicious place on the Valentine’s Day to give myself a long outing & recharge my soul this Valentine’s day as we first need to love ourselves and our dearest ones (of course loved one means my family…as I am happy to single). So on 14th February as decided started a journey towards Ajmer sharif through Satabdi Express.I decided to visit the auspicious cities of Ajmer & Pushkar with my dearest family members to make my Valentine day celebrations truly unique and soul-rejuvenating.

Nizamuddin Dargah
But before going to Ajmer Shareef, it’s a legend that one has to take blessing from Dargah of Hazrat Nizamuddin Auliya. So we first paid a visit to dargah and on Friday afternoon we left for Ajmer.

As I am little research-oriented so already booked hotel at Pushkar because of its soothing beautiful view which mentally refresh our mind as well as give the romantic feeling. On the globally popular day of Valentine when everyone re-affirms their love for dear ones…I took a different route of this re-affirmation and transformed this Valentine’s day into an auspicious day by undertaking a divine pilgrimage to Ajmer Sharif. Apart from this Little research about the history of Ajmer sheriff & Pushkar is provide me the knowledge to gather information about the place as well as the holy sacred place so we can know the history behind the city & our hungry eyes can capture the view & portrayed the history with a glance….

On the way to Dargah Shareef

On the way to Dargah Shareef

नौकूचियाताल का यादगार सफ़र

November 20, 2014 By:

Table of contents for कुमाऊँ यात्रा

  1. नौकूचियाताल का यादगार सफ़र
  2. नैनीताल की गुफ़ाओं में बिताए कुछ यादगार पल

नैनीताल जाने की इच्छा काफ़ी समय से मन में हिलोरे मार रही थी पर हर बार किसी ना किसी वजह से अपनी इस इच्छा को दबाना पड़ रहा था ! जब भी इस यात्रा पर जाने का विचार बनता, कुछ ऐसी अड़चनें आ जाती कि हर बार मुझे अपनी यात्रा स्थगित करनी पड़ती ! कभी पारिवारिक कारण तो कभी मौसम की मार की वजह से मैं ये यात्रा नहीं कर पा रहा था !  पर कहते है ना कि कभी-कभी जिस इच्छा को हम बहुत ज़्यादा दबाने लगते है एकदम से वही इच्छा ज्वालामुखी की भाँति फूट कर आपके सामने आ खड़ी होती है ! इस बार मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ, दरअसल लैंसडाउन से वापिस आने के बाद मैं माँ वैष्णो देवी के दर्शन के लिए चला गया था !

माँ वैष्णो देवी की यात्रा भी एक मित्र के साथ ही की थी इसलिए इस बार तो परिवार संग ही किसी यात्रा पर जाने का विचार था ! अक्तूबर माह में दशहरा-दीवाली होने के कारण लगातार दो बार 3-4 छुट्टियों का संयोंग बन रहा था ! मैने सोचा कि क्यों ना इन छुट्टियों का सही इस्तेमाल किया जाए और किसी पर्वतीय स्थान की यात्रा कर ली जाए !

जब कुछ पारिवारिक कारणों से दशहरा पर ये यात्रा नहीं हो पाई तो सोचा कि दीवाली मनाने के बाद इस यात्रा पर जाया जाएगा ! पर जब दीवाली बाद भी इस यात्रा का संयोग नहीं बनता दिखा तो इस पर मेरा माथा ठनका, इस बात को स्वीकार करना मेरे लिए मुश्किल हो गया ! और अंतत, छठ पूजा वाले सप्ताह में ही इस यात्रा पर जाने का निश्चय कर लिया ! परिवार संग छठ पूजा मनाने के बाद सप्ताह के अंत में मैने शनिवार को नैनीताल की अपनी यात्रा निश्चित कर ली !

समय रहते ही मैने नैनीताल के निकट नौकूचियाताल में अपने रुकने के लिए होटल आरक्षित करवा लिया ! शुक्रवार रात्रि ऑफिस से आने के बाद मैने अपने साथ ले जाने का सारा समान तैयार किया और सुबह 4 बजे का अलार्म लगाकर सो गया ! चूँकि ये मेरी पारिवारिक यात्रा थी इसलिए सारी तैयारियाँ पहले से ही करनी पड़ी, अन्यथा मैं अक्सर अपने गंतव्य पर पहुँचने के बाद ही अपने रहने की व्यवस्था करता हूँ ! खैर, सुबह नित्य-क्रम से निबटने के बाद 5 बजकर 20 मिनट पर हमने अपनी यात्रा शुरू कर दी ! नवंबर की शुरुआत होने की वजह से सुबह के मौसम में ठंडक बढ़ गई थी, हालाँकि रोज़ ऑफिस जाने के लिए भी सुबह जल्दी ही उठना होता है, पर इतनी सुबह घर से निकलने के बाद ही असली ठंड का एहसास होता है !

1

डासना टोल गेट के पास लिया गया एक चित्र